» »पन्हाला किला...जहां शिवाजी के आगे घुटने टेक भागे थे दुश्मन

पन्हाला किला...जहां शिवाजी के आगे घुटने टेक भागे थे दुश्मन

Written By: Goldi

राजस्थान और दिल्ली की तरह महाराष्ट्र का गौरव भी काफी सरहानीय है। मुंबई से 400 किमी की दूरी पर स्थित कोल्हापुर सिर्फ देवी लक्ष्मी के मंदिर के लिए ही पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध नहीं है बल्कि यहां का पन्हाला किला भी लोगों कोअपनी ओर काफी आकर्षित करता है।

पन्हाला किला दक्कन क्षेत्र में सबसे बड़ा किलों में से एक है और यह महाराष्ट्र के सबसे छोटे शहर, पन्हाला में स्थित है। पन्हाला या पहलागढ़ में मराठी में नाग के घर का उल्लेख है। ये किला सह्याद्रि हाड़ी श्रंखला से गुजरते समय दिखाई पड़ता है,जो महाराष्ट्र में आंतरिक बीजापुर से तटीय क्षेत्र तक जाने का प्रमुख व्यापार मार्ग है। इसके प्रमुख स्थान के कारण, ये दक्कन में हुए कई लड़ाइयों का केंद्र था, जिनमे मराठा,मुग़ल,और ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी शामिल था, इनमें से सबसे प्रमुख लड़ाई पवन खिंड की थी। इस किले को कोल्हापुर क्षेत्र की रानी शासक, ताराबाई ने अपने शासनकाल में प्रांभिक वर्षों को बिताया था।

यह किला पवन खंड़ की लड़ाई, मराठा राजा, सरदार बाजी प्रभु देशपांडे और मुगल सम्राट, आदिल शाह के सिद्दी मसूद के बीच हुई लड़ाइयों के लिए प्रख्यात है। इस किले में महाकाली, अंबाबाई, सोमेश्वर और संभाजी द्वितीय के मंदिर हैं। सबसे पुराना अंबबाई मंदिर है किले में जिजाबाई के मकबरे और एक मुस्लिम संत सोधोबा के साथ एक मराठी कवि मोरोपंत भी हैं।

पन्हाला का इतिहास

पन्हाला का इतिहास

इस किले का निर्माण शिलाहार शासक भोज द्वितीय द्वारा 1178 और 120 9 सीई के बीच कराया गया था।यह किला दक्कन क्षेत्र में सबसे बड़ा किलों में से एक है। पत्थर और सीसा का उपयोग कर निर्मित, यह किला समय की कसौटी पर खड़ा हुआ है। किला पर यादवों, आदिल शाहिस, बहामनी सुल्तानों और कोल्हापुर किंग्स ने शासित किया है। सातारा में एक तांबे की प्लेट में पता चला है कि राजा भोज ने 11 9 11 और 11 9 2 सीई के बीच पन्हाला में अदालत का आयोजन किया था। किला को बड़े पैमाने पर मजबूत बनाया गया जब पन्हाला बीजापुर के शासन में आया था। किले में इब्राहिम आदिल शाही के शासन को दर्शाए गए बहुत सारे शिलालेख हैं।किले में अभी भी शिवाजी द्वितीय की पत्नी और
ताराबाई के निवास के प्रमाण आज भी किले में मिलते हैं।
PC : Avinashisonline

पन्हाला किला

पन्हाला किला

पन्हाला किला समुद्र तल से 3127 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह 14 किमी की परिधि के साथ सबसे बड़े किलों में से एक है और किले के नीचे निर्मित एक किलोमीटर से अधिक के लिए बहुत सारे सुरंग हैं, किले को जाहिरा तौर पर बीजापुरी शैली की वास्तुकला का उपयोग करके मोर की प्रकृति के साथ बनाया गया है ।यहां की प्राकृतिक खूबसूरती और शांत अपनी ओर खींचती है। पनहला का नाम मिला पन्‍न्‍ना नामक जनजाति के नाम पर पड़ा जो आरंभ में इस किले पर शासन करती थी।
PC : Avinashisonline

पन्हाला किला

पन्हाला किला

पन्हाला किला कोल्हापुर-रत्नागिरी मार्ग पर स्थित है, तथा 7 किमी क्षेत्र में फैला है। सांपो जैसी बनावट के कारण इसे सांपों का किला भी कहा जाता है। माना जाता है कि,शिवाजी ने इस किले में 500 से भी ज्यादा दिन व्यतीत किये थे।PC: Rupeshpjadhav

आंध्र बावडी

आंध्र बावडी

आदिल शाही द्वारा आंध्र बावडी (छिपे हुए कुएं) के रूप में जाना जाने वाला एक तीन मंजिला ढांचा बनाया गया था। इसकी सीढ़ियां काफी घुमावदार सीढियाँ मौजूद है, यह छिपा हुआ कुआं किले को पानी का मुख्य स्रोत है। इस बावडी के अंदर कई छुपे हुए मार्ग स्थापित है जो कि किले के बाहर सैनिकों का नेतृत्व करते हैं। इतना ही नही आपात युद्ध से निपटने के लिए इस बावड़ी में एक गुप किला भी मौजूद है।
PC : Ankur.P

कलावतीचा महल

कलावतीचा महल

कलावतीचा महल एक इमारत जिसने अदालत की महिलाओं के निवास के रूप में सेवा की थी, लेकिन अब यह पूरी तरह मलबे में परवर्तित हो चुका है। यह इमारत न्याकीनी सज्जा के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है "कोरेशंस 'टेरेस रूम" PC : Ankur.P

अंबरखाना किला

अंबरखाना किला

इस किले का निर्माण मराठों ने करवाया था और आज भी यह मजबूती से खड़ा है। इस किले में प्रबंधन विभाग और महल - टकसाल थी। इसके पास की एक पुरानी इमारत धान्याचा कोठार है जिसका उपयोग अनाज के भंडारण के लिए किया जाता था।यहाँ तीन भंडार घर गंगा, जमुना और सरस्वती थे। इनमे से प्रत्येक की भंडारण क्षमता 25000 अनाज की खंडीयों की थी।PC : Ankur.P

सजा कोठी

सजा कोठी

सजा कोठी का निर्माण ईसा पश्चात 1008 में किया गया। पन्हाला जिले में स्थित यह कोठी बताती है कि शिवाजी किस तरह मौत के मुंह से बचकर निकले थे। सजा कोठी का अर्थ है "सजा देने की जगह"। यह इमारत(बिल्डिंग) तीन मंज़िला है और मुग़ल वास्तुकला का प्रमाण है।
PC : Ankur.P

तीन दरवाज़ा

तीन दरवाज़ा

तीन दरवाज़ा से तात्पर्य है तीन फाटक । पन्हाला में मिलने वाले तीन लगातार दरवाज़े किले का भव्य प्रवेश द्वार बनाते हैं तथा यह वही स्थान है जहाँ से ब्रिटिश ने पन्हाला पर आक्रमण किया था। तीन दरवाज़े के पास स्थित कुएं का उपयोगवास्तव में दुश्मन को सन्देश पहुंचाने के लिए किया जाता था - संचार का एक शानदार और अर्थपूर्ण तरीका। तीन दरवाज़ा पन्हाला की एक उच्च सांस्कृतिक विरासत है और इसे अवश्य देखना चाहिए।PC : Ankur.P

शिवाजी का मंदिर

शिवाजी का मंदिर

पन्हाला किला में पर्यटक शिवाजी का मंदिर भी देख सकते हैं।
PC:Ankur P

राजदीदी बाग़

राजदीदी बाग़

इस किले छिपी हुई छोर में एक राजदीदी बाग़ीस था। यह गढ़ था जिसके माध्यम से शिवाजी महाराज पवन खंद की लड़ाई के दौरान विशाळगढ़ में भाग गए थे।PC : Avinashisonline

एम्प्रेस बोटानिकल गार्डन

एम्प्रेस बोटानिकल गार्डन

पन्हाला क्षेत्र में एम्प्रेस बोटानिकल गार्डन पिकनिक के लिए उत्तम स्थान है। इस गार्डन में बड़े पेड और हरे घास के मैदान हैं जो इस स्थान को अधिक आकर्षक बनाते हैं - विशेष रूप से बच्चों के लिए। इस उद्यान में एक धनुषाकार प्रवेश द्वार है कि प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। पास स्थित बंद गार्डन भी आश्चर्यजनक है। यहाँ पर्यटक नाव की सवारी और घुड़सवारी का आनंद उठा सकते हैं।
PC: Bijeshnarayanan

पन्हाला में आसपास क्या घूमे

पन्हाला में आसपास क्या घूमे

पर्यटक पन्हाला के आसपास कोल्हापुर को घूमसकते हैं,साथ ही वहां स्थित लक्ष्मीजी के मंदिर भी जा सकते हैं।PC: wikimedia.org

क्या खाएं

क्या खाएं

पर्यटक पन्हाला में कोल्हापुरी व्यंजनों का जायका ले सकते हैं, जैसे पांड्रा रसा, ताम्बाडा रसा और कड़ी आदि। इस क्षेत्र का वास्तविक स्वाद उदय नगर में रेस्तरां में मिलता है, जहां आप सुक्खा मटन की तरह स्वादिष्ट मांस व्यंजन पा सकते हैं।PC: wikimedia.org

कहां रुके

कहां रुके

पर्यटक कोल्हापुर या पन्हाला में दोनों ही जगह रुक सकते हैं...यहां पर्यटकों को कमरे काफी वाजिब दामों में उपलब्ध हैं।PC: wikimedia.org

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

वायु मार्ग
पन्हाला का नजदीकी हवाई अड्डा बेलगांव में है जो कोल्‍हापुर से 150 किलोमीटर दूर है। और पन्हाला से करीबन 172 किमी..पर्यटक एयरपोर्ट से टैक्सी या बस द्वारा पन्हाला पहुंच सकते हैं।

रेल मार्ग
यहां पुणे-मिरज-कोल्‍हापुर सेक्‍शन का रेलवे स्‍टेशन है जो भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।

सड़क मार्ग
कोल्हापुर से पन्हाला टैक्सी या ऑटो से आसानी से पहुंच सकते हैं..कोल्‍हापुर पुणे-बैंगलोर राष्‍ट्रीय राजमार्ग संख्‍या 4 पर स्थित है। कोल्‍हापुर से मुंबई, पणजी, मिराज, सांगली, पुणे, सतारा, सावंतवाड़ी, सोलापुर और अन्‍य कई जगहों के लिए राज्‍य परिवहन की नियमित बस सेवा उपलब्‍ध है।PC: wikimedia.org

कब आयें

कब आयें

पर्यटक पन्हाला पूरे साल आ सकते हैं...यहां का खुशनुमा मौसम पर्यटकों को पूरे साल अपनी और आकर्षित करता है।PC: wikimedia.org

Please Wait while comments are loading...