Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »पुणे : इतिहास के कई राज दफन हैं प्राचीन सिंहगढ़ किले में

पुणे : इतिहास के कई राज दफन हैं प्राचीन सिंहगढ़ किले में

महाराष्ट्र का पुणे भारत के सबसे विकसित शहरों में गिना जाता है, जो भारत की एक बड़ा युवा आबादी का प्रतिनिधित्व करता है। यहां कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों की शाखाएं है, जो रोजगार के बड़े अवसर पैदा करती हैं। पुणे अपने शैक्षणिक संस्थानों के लिए भी जाना जाता है। पिछले कुछ वर्षों में यहां युवाओं की आबादी काफी बढ़ी है। पर्यटन की दृष्टि से भी यह शहर काफी ज्यादा महत्व रखता है, जहां आप प्राचीन संरचनाओं से लेकर प्राकृतिक स्थलों की खूबसूरती का आनंद ले सकते हैं। पुणे ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और प्राकृतिक रूप से एक परिपूर्ण जिला है।

हर साल यहां भारी संख्या में पर्यटकों को आगमन होता है। पुणे के आसपास कई प्राचीन किले मौजूद हैं, जो न सिर्फ अपने अतीत के लिए जाने जाते हैं बल्कि एडवेंचर गतिविधियों के लिए भी काफी लोकप्रिय हैं। आज इस लेख में हम आपको पुणे जिले के अंतर्गत सिंहगढ़ किले के बारे में बताने जा रहे हैं, जानिए यह किला आपकी यात्रा को किस प्रकार खास बना सकता है।

प्राचीन सिंहगढ़ फोर्ट

प्राचीन सिंहगढ़ फोर्ट

PC-Lobodrl

पुणे मुख्य शहर से 37 कि.मी की दूरी पर स्थित सिंहगढ़ एक प्राचीन किला है, जो अपनी खास भौगोलिक स्थित और अपने इतिहास के लिए जाना जाता है। अतीत पर प्रकाश डालें तो पता चलता है कि इस किले का निर्माण 2000 साल पहले किया गया था, हालांकि इसके निर्माण संबधी सटीक जानकारी उपलब्ध नही है। प्राचीन काल में यह स्थल कोंधन के नाम से जाना जाता था, जहां इतिहास की कई बड़ी लड़ाइयां लड़ी गई हैं, जिनमें 1670 का सिंहगढ़ युद्ध काफी ज्यादा महत्वपूर्ण रहा। यह किला समुद्र तल से 1,312 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। किले के नाम का शाब्दिक अर्थ 'शेर का किला' है। यह अपने समय का बनाया गया एक मजबूत किला है, जिसकी मजबूत दीवारे आज भी सुरक्षित हैं। यहां मौजूद दो प्रवेश द्वार हैं एक कल्याण दरवाजा और दूसरा पुणे दरवाजा। इस किले का निर्माण रणनीतिक तौर पर किया गया था। इस किले पर 1328 ईस्वी में मोहम्मद बिन तुगलक ने कब्जा कर लिया था। इस किले पर काफी लंबे समय तक मराठाओं का शासन रहा। यह किला इतिहास की कई महत्वपूर्ण घटनाओं का साक्षी है। मराठा और मुगलों का एक बड़ा इतिहास इस प्राचीन किले से होकर गुजरता है। अतीत के बेहतर समझ के लिए आप यहां आ सकते हैं।

आने का सही समय

आने का सही समय

PC-Cvd

ग्रीष्मकाल के दौरान यह क्षेत्र काफी ज्यादा उष्मा ग्रहण करता है, इसलिए यहां आने का आदर्श समय अक्टूबर से लेकर फरवरी के मध्य का है। इस दौरान यहां का मौसम काफी अनुकूल बना रहता है, और आप आराम से फोर्ट को देख सकते हैं, और आसपास के स्थलों का भ्रमण भी कर सकते हैं।

क्यों आएं सिंहगढ़

क्यों आएं सिंहगढ़

PC-Lobodrl

सिहंगढ़ का यात्रा आपके लिए कई मायनों में खास हो सकती है। यह स्थल इतिहास में दिलचस्पी रखने वालों से लेकर प्रकृति प्रेमियों के लिए काफी ज्यादा मायने रखता है। मराठा का एक बड़ा इतिहास इस किले में दफन है। यहां कई बड़ी लड़ाइयां लड़ी गई हैं। चूंकि यह किला रणनीतिक तौर से काफी महत्वपूर्ण था इसलिए यह बाहरी ताकतों के प्रभाव का शिकार बनता रहा है। इन सब के अलावा यह किला प्राकृतिक रूप से भी काफी महत्व रखता है। पहाड़ी पर बसे होने के कारण यहां कुदरती सौंदर्यता का आनंद उठाने के लिए पर्यटकों का आवागमन लगा रहता है। आप यहां ट्रेकिंग और हाइकिंग जैसी रोमांचक गतिविधियों का रोमांच भरा अनुभव भी ले सकते हैं। यह किला पुणे से एक शानदार वीकेंड गेटवे है, जहां पर्यटक आना पसंद करते हैं। एक शानदार यात्रा के लिए आप यहां का प्लान बना सकते हैं।

कैसे करें प्रवेश

कैसे करें प्रवेश

PC-Thedarkpasssenger

यह किला पुणे शहर से मात्र 37 कि.मी की दूरी पर स्थित है, जहां आप परिवहन के तीनों साधनों की मदद से पहुंच सकते हैं। यहां का निकटतम हवाईअड्डा पुणे एयरपोर्ट है, जहां से आप कैब या टैक्सी के जरिए किले के आधार तक पहुंच सकते हैं। रेल मार्ग के लिए आप पुणे रेलवे स्टेशन का सहारा ले सकते हैं। अगर आप चाहे तो यहां सड़क मार्गों से भी पहुंच सकते हैं, पुणे के रास्ते आप यहां आसानी से पहुंच सकते हैं। किले तक पहुंचने के लिए आपको सिंहगढ़ गांव से कुछ कि.मी का सफर ट्रेकिंग के जरिए पूरा करना होगा।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X