» »दिल्ली के इन मन्दिरों में कहिये.."हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैय्या लाल की"

दिल्ली के इन मन्दिरों में कहिये.."हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैय्या लाल की"

Written By: Goldi

उत्तर भारत के प्रसिद्द त्योहारों में से एक जन्माष्टमी पूरे देश में हर्षौल्लास से मनाया जाता है..इस दिन घरों में भगवन श्री कृष्ण के लिए पालने सजाये जाते हैं..जन्म लेते ही नगरी-नगरी, घर-घर एक दूसरे को बधाई देते हुए लोगों को देखना इस उत्सव का सबसे खुशनुमा पल होता है। "नन्द के आनंद भयो, जय कन्हैया लाल, हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल की" गाते बजाते लोग उत्साह से भर जाते हैं।

जन्माष्टमी स्पेशल! हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की

इसी ख़ुशी को दुगना करते हुए मै आपको बताने वाली हूं दिल्ली की कुछ जगहों के बारे में जहां आप जन्माष्टमी के पर्व को अच्छे से एन्जॉय कर सकते हैं।

अक्षरधाम मंदिर

अक्षरधाम मंदिर

दिल्ली स्थित अक्षरधाम मंदिर जमे जन्माष्टमी वाले दिन कृष्ण जन्मोत्सव को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है...मंदिर के अंदर भगवान श्री कृष्ण की जीवन लीलायों का चित्रण भी किया जाता है। 12 बजते ही इन मन्दिरों में सैकड़ों की तादाद में भीड़ को देखा जा सकता है।

PC: wikimedia.org

ISKCON मंदिर

ISKCON मंदिर

ISKCON का पूरा नाम International Society for Krishna Consciousness है जिसे हिंदी में अंतर्राष्ट्रीय कृष्णभावनामृत संघ या इस्कान कहते हैं। मथुरा हो या फिर दिल्ली या फिर बेंगलुरु जन्माष्टमी के अवसर पर इस मंदिर में कान्हा के दर्शन करने के लिए बड़ी मात्र में श्रद्धालु पहुंचते हैं।PC:Bill william compton

छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर भारत के सबसे बड़े मन्दिरों में से एक है..यह मंदिर दुर्गाजी को समर्पित है..लेकिन जन्माष्टमी के पवन पर्व पर इस मंदिर कृष्ण जन्मोत्सव बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है।

Please Wait while comments are loading...