Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »केरल का वैभवशाली महल-कृष्णापुरम

केरल का वैभवशाली महल-कृष्णापुरम

By Goldi

दक्षिण भारत का बेहद ही खूबसूरत राज्य केरल कई अनगिनत पर्यटन स्थलों का घर है, जिन्हें देखने और घूमने पूरे देश से पर्यटक पहुंचते हैं। केरल सिर्फ हिल स्टेशन के लिए नहीं बल्कि कुछ ऐतिहासिक विरासतों का भी घर हैं, जिनमे से एक है, कृष्णापुरम पैलेस।

गोड्स ओन कंट्री में स्थापित कृष्णापुरम पैलेस केरल के दुर्लभ महलों में से एक है, स्थानीय रूप से पथिनारुकेटू के नाम से जाना जाता है। केरल के कयामकुलम शहर (केरल के एलेप्पी के रूप में एंग्लिसिज्ड) में स्थित इस महल की वास्तुकला मूल केरल शैली को दर्शाती है। यह एलेप्पी बैकवाटर और वर्कला के चट्टान समुद्र तट जैसे प्रमुख पर्यटक आकर्षणों से 50 मील की दूरी पर स्थित है।

कृष्णापुरम पैलेस का इतिहास

कृष्णापुरम पैलेस का इतिहास

Pc:Appusviews

इस महल का नाम कृष्णास्वामी मंदिर के नाम पर रखा गया है, जोकि महल के निकट ही स्थित है। इस महल का निर्माण 18वीं शताब्दी में त्रावणकोर राजा मार्थंद वर्मा ने ओडानाद पर अपनी जीत के बाद कराया था।

कृष्णापुरम पैलेस एक एटुकुत्तु (छोटे एकल मंजिला महल के लिए स्थानीय शब्द) था। महल के बगल में एक तालाब है, जो इस जगह को और भीऔ शांतिप्रिय खूबसूरत बनाता है। बीते कुछ सालों में इस महल में कई अन्य निर्माणकार्य सम्पन्न हुए जो पारंपरिक और पश्चिमी वास्तुकला के मिश्रण को दर्शाते हैं।

वर्ष 1950 में इस महल के नवीनीकरण और देखरेख की जिम्मेदारी केरल पुरातत्व विभाग कर रहा है।

वास्तुकला और संग्रह

वास्तुकला और संग्रह

Pc:Akhilan

अधिकांश भारतीय संरचनाओं की तरह, कृष्णापुरम पैलेस भी वास्तु शास्त्र की पुष्टि करता है। इस खूबसूरत महल में 4 आंगन और 22 कमरे के साथ 16 ब्लॉक हैं। ताजा हवा परिसंचरण और प्राकृतिक प्रकाश प्रवेश को अनुकूलित करने के लिए खिड़कियां और दरवाजे भी बने हुए हैं। कुशल शैली में जटिल लकड़ी के काम के डिजाइन और टाइल छत केरल वास्तुकला शैली की विशिष्टता का एक दृश्य प्रदान करते हैं। यह महल पुराने नेशनल हाइवे 47 से कुछ ही दूरी पर एक पहाड़ी पर बना हुआ है।

गोड्स ऑन कंट्री केरल के अनसुने हॉलिडे डेस्टिनेशन

कृष्णपुरम पैलेस में देखने के लिए कृष्णपुरम पैलेस में देखने के लिए चीजें

कृष्णपुरम पैलेस में देखने के लिए कृष्णपुरम पैलेस में देखने के लिए चीजें

Pc:Appusviews

1. गजेंद्र मोक्षम 14x11 फीट भित्तिचित्र है जो केरल में सबसे बड़ा भित्तिचित्र संग्रह है।

2. कायमकुलम वैल (वैल तलवार है) एक विशेष प्रकार की तलवार है। ये तलवार दोनों ओर से ही धारधार है, जो युद्ध में विरोधी के लिए बेहद घातक साबित होती थी। यह तलवार कायमकुलाम राजाओं की प्रसिद्ध तलवार हुआ करती थी।

3. इसके अलावा यहां एक बुद्ध प्रतिमा भी है, जो इस क्षेत्र में पाए जाने वाली

4 प्राचीन बुद्ध प्रतिमाओं में से एक है। यह मूर्ति बुद्ध मंडपम (हॉल) में रखी गई है। इसके अलावा यहां संस्कृत में बाइबल की एक प्रति भी रखी हुई है, जोकि 19वीं सदी में प्रकाशित हुई थी। 4. 4.पत्थर और लकड़ी की मूर्तियां

5. शाही युग से पुराने सिक्के

6. मेगालिथिक अवशेष और पत्थर शिलालेख

समय: महल मंगलवार से रविवार तक सुबह 9 बजे से शाम 4.30 बजे तक खुला रहता है, जिसमें 1 बजे से 2 बजे के बीच ब्रेक होता है।

कृष्णापुरम पैलेस जाने का सबसे अच्छा समय

कृष्णापुरम पैलेस जाने का सबसे अच्छा समय

Pc: Appusviews

कृष्णापुरम पैलेस जाने का सबसे अच्छा समय सितंबर से जनवरी तक है, पूर्व आधा आराम मानसून अनुभव प्रदान करता है जबकि बाद वाला आधा आपको ठंडा उज्ज्वल सवारी देगा।

कृष्णपुरम पैलेस तक कैसे पहुंचे

कृष्णपुरम पैलेस का निकटतम प्रमुख शहर कयामकुलम है जो निजी शहरों द्वारा बसों और यात्रा से प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, यह महल एनएच 47 के करीब है। निकटतम रेलवे स्टेशन कायमकुलम रेलवे स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा त्रिवेन्द्रम हवाई अड्डा है, 104 किमी दूर, कयामकुलम से सड़क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। अन्य प्रमुख कायमकुलम आकर्षण अनंतपुरम पैलेस, श्री सुब्रह्मण्यम स्वामी मंदिर, श्री धर्मस्थस्थ मंदिर, सेंट मैरी के मलंकर कैथोलिक चर्च, सेंट थॉमस रूढ़िवादी कैथेड्रल और कोवलम बीच हैं।इसके आगे भी एलेप्पी बैकवाटर (50 किमी) और वर्कला बीच (60 किमी) हैं।

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X