• Follow NativePlanet
Share
» »बिहार के ऐतिहासिक पर्यटन स्थल

बिहार के ऐतिहासिक पर्यटन स्थल

Written By:

उत्तर भारत का राज्य बिहार देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है। बिहार, हिंदुओं, जैन और विशेषतः बौद्ध धर्म के लोगों के लिए धार्मिक केंद्र हुआ करता था। यह राज्य भारत के कुछ महान साम्राज्यों जैसे मौर्य और गुप्त के उदय और उनके पतन का गवाह रहा है।

इस राज्य में घूमने आने वाले पर्यटकों को दो धर्मों का मेल तो देखने को मिलता ही है साथ ही यहां की संस्कृति भी सभी को अपनी ओर आकर्षित करती है। भगवान महावीर, जो एक महान धर्म, जैन धर्म के प्रतिस्थापक थे, वे भी यहीं पैदा हुए थे और उन्हें निर्वाण भी यहीं प्राप्त हुआ था। बिहार राज्य, पश्चिम में उत्तर प्रदेश, उत्तर में नेपाल, पूर्व में पश्चिम बंगाल का उत्तरी भाग और दक्षिण में झारखंड की सीमाओं से लगा हुआ है।

नालंदा के खंडहर

नालंदा के खंडहर

Pc: Arunava de Sarkar

बिहार की राजधानी पटना से करीबन 95 किमी की दूरी पर स्थित नालंदा वास्तुशिल्प का एक अद्भुत नमूना माना जाता है। इसे नालंदा पर्यटन द्वारा अच्छी तरह से संरक्षित किया गया है।यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल में शुमार यह जगह चीन भारत में शिक्षा का एक मुख्य केंद्र था। नालंदा के समृद्ध अतीत को इस तथ्य से निश्चित किया जा सकता है कि यहाँ तिब्बत, चीन, टर्की, ग्रीस और पर्शिया (इरान) के अतिरिक्त और भी दूर के स्थानों से लोग ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते थे। यह विश्व के पहले आवासीय विश्वविद्यालयों में से एक है। यहाँ पर एक समय 2000 शिक्षक और10000 विद्यार्थी रहते थे जो यहाँ पढ़ने आते थे। वर्ष 1951 में, बिहार सरकार ने पाली और बौद्ध धर्म के समकालीन केंद्र, नवा नालंदा महावीर (नई नालंदा महावीर) की स्थापना की और वर्ष 2006 में नालंदा को विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया।

विश्व शांति स्तूप, राजगीर

विश्व शांति स्तूप, राजगीर

Pc: Kailash Mohankar

विश्व शांति स्तूप, राजगीर (शांति बिहार के नालंदा जिले) में शांति पैगोडा, बिहार में प्रमुख आकर्षणों में से एक है, जो पूरे विश्व के लोगों को आकर्षित करता है। प्राचीन समय में मगध राजवंश की पहली राजधानी रह चुका राजगीर बाद में मौर्य साम्राज्य बन गया था। जैन धर्म और बौद्ध धर्म के अनुयायी के लिए यह क्षेत्र महत्वपूर्ण है माना जाता है। यहां स्थित विश्व शांति स्तूप एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्तंभ है। यह परमात्मा के रूप में अपनी शांति के आकर्षण को लिए, 400 मीटर की ऊंचाई पर, रणगीर पहाड़ी के उच्चतम बिंदु पर स्थित है। स्तूप बुद्ध की चार स्वर्ण प्रतिमाओं को स्थापित करते हुए, विश्व शांति के प्रतीक सफेद संगमरमर पत्थर से बना है। यहां रोपवे के माध्यम से पहुँचा जा सकता है।

शेरशाह सूरी सासाराम का मकबरा

शेरशाह सूरी सासाराम का मकबरा

Pc:DharamCVL

शेर शाह सूरी के नाम से तो सभी वाकिफ है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि,शक्तिशाली सम्राट शेर शाह सूरी बिहार के पठान थे? उत्तर भारत में मुगलों को हराने के बाद वह सूरी साम्राज्य की नींव रखी। लेकिन दुर्भाग्य से कलिनगर के किले के पास एक बंदूक विस्फोट में उनकी मृत्यु हो गई। सहसराम में शेरशाह सूरी का शानदार मक़बरा बना हुआ है। कहा जाता है कि,इसे स्वयं शेरशाह सूरी ने अपने जीवन काल में बनवाया था। यह अपने समय की कला का श्रेष्ठतम नमूना है। एक विशाल झील के मध्य उठे हुए चबूतरे पर बना यह मक़बरा उसके 'व्यक्तित्व का प्रतीक' है। इसे उत्तर भारत की श्रेष्ठ इमारतों में से एक कहा गया है। इस पर हिन्दू और इस्लामी कला का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है।

जल मंदिर, पावापुरी

जल मंदिर, पावापुरी

Pc:Sukumar Sardar

बिहार राज्य के पावापुरी गाँव में स्थित जैन धर्म का पवित्र मंदिर है जिसे जलमंदिर के नाम से जाना जाता है। यह जैन धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे पवित्र स्थानों में से एक है। यह वही स्थान है जहां आज से लगभग छठी शताब्दी ईसा पूर्व में जैन धर्म के चौबीसवें व अंतिम तीर्थकर भगवान महावीर का निर्वाण हुआ था। कहा जाता है की उनके निर्वाण के बाद उनका अंतिम संस्कार देवताओं द्वारा किया गया था। एक कहावत के अनुसार एक सच्चा जैनी यहाँ पापमुक्त हो जाता है।

अशोक स्तंभ, वैशाली

अशोक स्तंभ, वैशाली

Pc: Bpilgrim

विभिन्न भारतीय स्थलों में फैले स्तंभों की श्रृंखला में से एक अशोक स्तंभ वैशाली, बिहार में स्थित है। सम्राट अशोक ने इन सभी सिद्धान्‍तों को एक खंभे पर उत्‍कीर्ण करवाया और इस प्रकार, भगवान बौद्ध और बौद्ध धर्म को श्रद्धा और भक्ति समर्पित की। यह कॉलम कोल्‍हुआ में स्थित है और उच्‍च गुणवत्‍ता के एक पत्‍थर पर बना हुआ है। यह पत्‍थर, लाल पत्‍थर है जो ऊंचाई में 18.3 मीटर ऊंचा है। स्‍तंभ के शीर्ष पर एक विशाल चित्र बना है। यह स्‍तंभ आज भी सुरक्षित और बरकरार है। यहां पास में ही एक छोटा सा टैंक स्थित है जिसे रामकुंड टैंक कहा जाता है।

 गोलघर, पटना

गोलघर, पटना

Pc: Aditya Vivek Raj
पटना की राजधानी शहर में गोलघर (गोल घर) बिहार में एक प्रमुख पर्यटक स्थल है। इसके आधार पर शिलालेख के अनुसार, गोलाघर का निर्माण अनाज को भंडारित करने के इरादे से किया गया था अपने विशेष प्रकार की वास्तु प्रकृति के अलावा गोलघर गंगा के पीछे से पूरे शहर का सुंदर नज़ारा प्रस्तुत करता है।

महाबोधि मंदिर,बोध गया

महाबोधि मंदिर,बोध गया

Pc:Ken Weiland
यूनेस्को की विश्व धरोहर में शमिल महाबोधि मंदिर एक बौद्ध धर्म मंदिर है जो बोध गया में स्थित है। बताया जाता है कि, यह वाही जगह है, जहां बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। इस खूबसूरत मंदिर के निर्माण के लिए श्रेय राजा अशोक को जाता है, जो इसे 260 ईसा पूर्व में बनाया गया था।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स