» »क्या आप वाकिफ है ओडिसा के प्रमुख पांच हिल स्टेशन से?

क्या आप वाकिफ है ओडिसा के प्रमुख पांच हिल स्टेशन से?

Written By: Goldi

भारत में कुछ ही जगहें ऐसी हैं, जो अपनी संस्कृति और विरासत के मामले में अद्वितीय हैं। ओडिशा राज्य भी उन्हीं में से एक है।अपनी समृद्ध परंपरा एवं अपार प्राकृतिक संपदा से युक्त तथा पूर्व में उड़ीसा के नाम से रूप में जाना जाने वाला, ओडिशा, भारत का खजाना एवं भारत का सम्मान है। ओडिशा को प्यार में 'भारत की आत्मा' कहा जाता है।

चलिए चलें, ओड़िसा के हाईड एंड सीक बीच की रहस्यमयी यात्रा पर!

ओडिशा राज्य भर में फैले हुए न केवल अपनी गजब की प्रेरणादायक वास्तु संरचनाओं के लिए प्रसिद्ध है, बल्कि यहां गर्व करने के लिए कई अन्य पहलू भी हैं। यहां स्थित जैन स्मारक, बौद्ध केन्द्र तथा वन्यजीव अभयारण्य हमें बताते हैं कि ओडिशा का खजाना कितना विविध है।

क्यूँ ज़रूरी है इस महीने आपका ओड़िसा की यात्रा करना?

यहां के मुख्य आकर्षण लंबी समुद्र तट, विशाल पहाड़ों, शांत झीलों और सुंदर नृत्य नदियों हैं। राज्य के सबसे अच्छे पहाड़ी स्टेशनों में धर्भरबाड़ी, तप्तपनी, महेंद्रगिरि, ढेंकनाल और ओलासुनी हिल हैं। राज्य का दौरा करने का आदर्श अक्टूबर से मार्च के बीच है। तो आइये जानते हैं ओड़िसा के हिल स्टेशन के बारे में विस्तृत से

 धर्भरबाड़ी

धर्भरबाड़ी

दरिरीयबाडी पूर्वी भारत के ओडिशा राज्य में एक हिल स्टेशन है। यह कंधमाल जिले में 915 मीटर की ऊंचाई पर स्थित "ओडिशा का कश्मीर" के रूप में व्यापक रूप से जाना जाता है, इस जगह में पाइन जंगल, कॉफी उद्यान और सुंदर घाटियां हैं। यह जगह जंगलों से घिरी हुई है, जो इसे और भी खूबसूरत बनता है। ब्रिटिश शासन के दौरान, एक ब्रिटिश अधिकारी डेरिंग नामक व्यक्ति थे, जिन्होंने इस जगह की खोज की थी और इसे अपने नाम के नाम पर डरिंगबाडी के रूप में, बसाया। जिसे धीएरे धीरे दरिंगबादी के नाम से मशहूर हो गया। पर्यटक यहां ट्रैकिंग और एडवेंचर स्पोर्ट्स का लुत्फ उठा सकते हैं।PC:Sakar Tiwari

तपतापानी

तपतापानी

तपतापानी का शाब्दिक अर्थ होता है - खौलता या गर्म पानी। तपतापानी एक गर्म पानी वाला झरना है जो बहरामपुर से 50 किमी. की दूरी पर स्थित है। धरती पर कई गर्म पानी के झरने मौजूद है और कई तो ऐसे है जिनके बारे में लोगों को पता नहीं या वह उन तक पहुंच नहीं पाते है। तपतापानी झरना, पर्यटकों को इसे देखने, डुबकी लगाने और व्‍यक्गित अनुभव करने के लिए सदा आंमत्रित करता है।इस पानी में कई औषधीय गुण भी है, जिससे चर्म रोग दूर हो जाते है। पूरे देश से चर्म रोगी और एक्जिमा जैसे रोगों से पीडि़त लोग इस झरने में स्‍नान करने आते है। यह गर्म पानी का झरना, समुद्र तल से 1800 फीट की ऊंचाई पर पूर्वी घाट के बीच स्थित है।

महेंद्रगिरि

महेंद्रगिरि

महेंद्रगिरि राज्य के गजपति जिले में स्थित एक हिल स्टेशन है। यह स्थान समुद्र तल से लगभग 4,925 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह एक बेहद ही खूबसूरत स्थान है..यहां के आसपास के जंगल में बड़ी संख्या में मोर, उड़ान गिलहरी, हाथी, चित्तीदार हिरण और यहां तक ​​कि तेंदुओं आदि हैं। पहाड़ी की चोटी के आसपास के क्षेत्र का सबसे आकर्षक दृश्य प्रदान करता है। पर्वत की भव्य सौंदर्य, एक दूरी पर नीले समुद्र और पवित्र महेन्द्रतान्य का स्पष्ट जल जल, सभी भागों से यात्रियों को आकर्षित करती है।

ढेंकनाल

ढेंकनाल

ढेंकनाल एक पहाड़ी स्टेशन है जो समुद्र तल से लगभग 700 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां कई हिंदू मंदिर हैं। यहां पर जाने के लिए मुख्य स्थान है कपिलश मंदिर जो कि पारंपरिक कलिंग शैली वास्तुकला में निर्मित है। इस मंदिर तक पहुँचने के लिए आपको करीबन 1352 सीढ़ियाँ चढ़नी होंगी...यहां का प्रमुख त्यौहार शिवरात्रि है,जिसे मनाने के लिए यहां हर साल लाखो की तादाद में श्रद्धालु पहुंचते हैं।PC:MKar

ओलासूनी

ओलासूनी

ओलासूनी हिल राज्य के कटक और जाजपुर जिले की सीमा पर स्थित है। विश्व प्रसिद्ध "ओलसुनी गुम्फा" पूर्णता का पवित्र स्थान और सांता अर्खिता दास का महासंघ मंदिर यहाँ स्थित है। वार्षिक माघ एकदशी उत्सव के दौरान एक नौ दिवसीय गुम्फा यात्रा मनाया जाता है। पहाड़ी में गुफा भी है, जहां से संत सरिताता दास ने व्यापक ध्यान के बाद मुक्ति प्राप्त की। यहां जाने के लिए अन्य मुख्य स्थान देवी ओलसुनी का मंदिर है।

Please Wait while comments are loading...