» »झारखंड का आकर्षक पर्यटन स्थल-घाटशिला

झारखंड का आकर्षक पर्यटन स्थल-घाटशिला

Written By: Goldi

झारखंड के सिंहभूम जिले में घाटशीला आकर्षक स्थानों में से एक है।झारखंड पर्यटन में घूमती-फिरती गंतव्य स्थलों में से एक हरे भरे वन के बीच सुवर्णरेखा नदी के बगल में इसका स्थान है। यह झारखंड का हिस्सा जरुर है, लेकिन इसका अधिकतर भाग पश्चिम बंगाल में है।इस जगह को अस्सी के लेखक, पार्श्वुति भुषण बंदोपाध्याय के उपन्यास 'पाथेर पांचाली' की पृष्ठभूमि के रूप में लोकप्रियता प्राप्त हुई।

ghatshila jharkhand

घाटशीला सुंदरता से आशीषित है क्योंकि यह दो पर्वत श्रृंखलाओं के बीच स्थित है। नदी सुवर्णरेखा दो श्रेणियों को अलग करती है और यह प्रकृति के आश्चर्य को देखने के लिए एक आकर्षक दृश्य है।

भारत के बेहद खूबसूरत पूर्वी घाट के समुद्री तट

यदि आप शहर की भागदौड़ भरी जिन्दगी से कुछ पल के सुकून के और खुली और फ्रेश हवा के बीच व्यतीत करना चाहते हैं तो आपको घाटशिला की सैर जरुर करनी चाहिए। झारखंड पर्यटन में यह जगह वास्तव में शांत और शांत गांव के जीवन का सार दर्शाती है। आप इस जगह कई आदिवासी गाँवों को भी देख सकते हैं...साथ ही यहां आपकी फोटोग्राफी का शौक भी पूरा हो सकता है।

ghatshila jharkhand

क्या देखें
घाटशीला, झारखंड पर्यटन के आकर्षक स्थान में तलाश करने के लिए ज्यादा कुछ तो नहीं है लेकिन लेकिन अगर आप यहां की प्राकृतिक सुन्दरता को निहारना चाहते हैं, तो ऑटो या फिर टैक्सी किराये पर ले सकते हैं। यहां स्थित फुलदुंग्री हिल घाटशीला से कुछ ही कदम की दूरी पर स्थित..जहां आप पैदल भी जा सकते हैं।

राजस्थान के इन लोकप्रिय बाज़ारों में करिये जम कर खरीददारी!

पांच पांडव 
घाटशीला के 5 किमी उत्तर पश्चिम में स्थित पौराणिक हैं । यहां एक पत्थर मौजूद है जिसे पांच पांडवों ने बनाया था। इसी के नजदीक मुबहंदार टाउनशिप घूमने योग्य एक बेहतरीन जगह है।

ghatshila jharkhand

बिंदा मेला
बिंदा मेला घाटशीला में आयोजित होता है। यह झारखंड पर्यटन में एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त करने के लिए बिंदा मेला मूलतः घाटशीला के शाही राजाओं द्वारा शुरू किया गया था। यह अक्टूबर के महीने में होता है। इस त्यौहार को सभी काफी हर्षौल्लास के साथ मनाते हैं।

भारत की इन जगहों पर मिलती हैं पारंपरिक मार्केट

और क्या देखे 
इन के अलावा, रोमांचकारी लोग बरुडी झील, रतन्यि मंदिर, धरागिरि फॉल्स, नरोवा वन, सूरदा पहाहार और मोसाबोनि कॉपर खान आदि को देख सकते हैं। गलुड़ी सुबारनरेखा नदी के किनारे स्थित एक और आकर्षक पर्यटन स्थल है।

ghatshila jharkhand

कैसे पहुंचे
घाटशीला खड़गपुर-टाटानगर से रेलवे मार्ग पर स्थित एक स्टेशन है। यह हावड़ा से 215 किमी दूर है और मुंबई, कोलकाता और नई दिल्ली जैसी मेट्रो शहरों में उचित कनेक्टिविटी है। मुंबई से यात्री मुंबई एक्सप्रेस का लाभ उठा सकते हैं जबकि नीलचल और उत्कल एक्सप्रेस को दिल्ली से लिया जा सकता है। कोलकाता, स्टील एक्सप्रेस और समलेश्वरी एक्स्प्रेस से कई रेलगाड़ियां हैं, कुछ ही नाम हैं।

ऑरोविले जाने से पहले..इन बातों का रखे ध्यान

सड़क द्वारा 
यात्री भी सड़क के माध्यम से आने का विकल्प चुन सकते हैं। कोलकाता घाटशीला से 240 किमी दूर है। कोलकाता से एनएच 6 बहरागोरा की ओर जाता है और वहां से एक को जमशेदपुर की सड़क तलाशना पड़ता है। खरगपुर और जमशेदपुर के बीच चल रहे अनगिनत बसें आपको घाटशीला में छोड़ देंगी। जमशेदपुर घाटशीला से 42 किमी दूर है ।

कहां रहें
घाटशीला में ठहरने के लिए लॉजेज और होटल आसानी से यहां उपलब्ध हैं। विभूति विहार सम्मेलन सुविधाओं के साथ शानदार कमरों की पेशकश करता हुआ एक शानदार होटल है, जहां आप ठहर सकते हैं।

Please Wait while comments are loading...