• Follow NativePlanet
Share
» »एडवेंचर और नेचर का मिला जुला कॉम्बो है सिक्किम का खूबसूरत क़स्बा जोरेथाँग

एडवेंचर और नेचर का मिला जुला कॉम्बो है सिक्किम का खूबसूरत क़स्बा जोरेथाँग

Posted By: Staff

भारत में टूरिज्म के मद्देनज़र नार्थ ईस्ट में स्थित सिक्किम में ऐसा बहुत कुछ है जिससे लगातार देश दुनिया के लोग इसकी तरफ आकर्षित हो रहे हैं। यहां ऐसा बहुत कुछ है जिसकी कल्पना शायद ही एक टूरिस्ट या ट्रैवलर ने कभी की हो। इसी क्रम में आज अपने इस आर्टिकल में हम आपको अवगत कराने वाले हैं सिक्किम के एक ऐसे डेस्टिनेशन से जो है तो बेतहाशा खूबसूरत लेकिन बहुत कम ही लोग होंगे जो इसे जानते होंगे। जी हां हम बात कर रहे हैं सिक्किम के जोरेथाँग की।

PICS : मुगल साम्राज्य की राजधानी रहे आगरा को निहारिये कुछ ख़ास और एक्सक्लूसिव तस्वीरों में

जोरेथाँग सिक्किम का एक प्रमुख कस्बा है। यह कस्बा मध्यम किस्म की जलवायु के साथ तीस्ता नदी की सहायक नदी रंगीत के किनारे बसे पेलिंग के रास्ते पर पड़ता है। सिक्किम का जोरेथाँग समुद्रतल से 300 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और यह दार्जिलिंग, कैलिमपाँग और सिलीगुड़ी से पेलिंग के रास्ते में स्थित है। जोरेथाँग और इसके आसपास कुछ रोचक पर्यटक आकर्षण स्थित हैं।

कस्बे से कुछ ही किमी पहले पड़ने वाले गर्म पानी के सोते हाल ही में प्रमुख पर्यटक आकर्षण बन गये हैं। यदि आप कस्बे के आसपास हों तो जनवरी में आयोजित होने वाले जोरेथाँग के रोचक माघी मेले का आनन्द ले सकते हैं। तो अब देर किस बात की आइये जानें कि अपनी जोरेथाँग की यात्रा पर ऐसा क्या है जो आपको अवश्य देखना चाहिए।

गर्म पानी के सोते

सिक्किम के गर्म पानी के सोते अनोखे पर्यटक आकर्षण हैं जहाँ पर पर्यटक तरो-ताजा होने के लिये आ सकते हैं। और जोरेथाँग के गर्म पानी के सोते धीरे-धीरे यात्रियों में उमंग भर रहे हैं। इन गर्म पानी के सोतों में सल्फर की मात्रा अधिक होने के कारण इनमें उपचार के गुण पाये जाते हैं। यहाँ पाये जाने वाले जल का औसत तापमान 50 डिग्री सेल्सियस है जोकि चिकित्सीय गुण से परिपूर्ण है।

रंगीत नदी

रंगीत नदी, सिक्किम की सबसे बड़ी नदी तीस्ता की सहायक नदी है। यह पश्चिमी सिक्किम के हिमालय की पहाड़ियों से निकलती है और जोरेथाँग, पेलिंग और लेगशिप जैसे कस्बों को बीच से बहती है। यह एक सदाबहार नदी है और गर्मियों में हिमालय के पिघलते बर्फ से तथा मॉनसून में वर्षा द्वारा इसे जल की प्राप्ति होती रहती है। अपनी तेज धाराओं के कारण यह नदी रिवर राफ्टिंग में रुचि रखने वाले लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है। इसी नदी पर नैशनल हाइड्रो इलेक्ट्रिकल पॉवर कॉर्पोरेशन (एनएचपीसी) की 60 मेगावाट क्षमता वाली जलविद्युत परियोजना भी है।

माघी मेला

जोरेथाँग में क्या अवश्य देखें आप

जोरेथाँग अपने प्रसिद्ध वार्षिक मेले के आयोजन के लिये जाना जाता है। प्रतिवर्ष जनवरी में आयोजित होने वाला माघी मेला भव्यता से मानाया जाता है और इस दौरान आने वाले पर्यटक इसका भरपूर आनन्द ले सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि जोरेथाँग में इस मेंले की शुरुआत सन् 1955 में आयोजित हुये प्रथम कृषि मेले से हुई थी। इस मेले के माध्यम से सिक्कम के लोगों की रीतिओं और परम्पराओं को प्रदर्शित किया जाता है जिसमें सांस्कृतिक कार्यक्रम, पैराग्लाइडिंग, रिवर राफ्टिंग, तीरंदाजी, गर्म गैस का गुब्बारा शो, फैशन शो, सौन्दर्य प्रदर्शनी जैसी कई रोचक गतिविधियाँ शामिल हैं।


फ्लाइट द्वारा :
जोरेथाँग से लगभग 25 किमी की दूरी पर नामची नामक स्थान में यहां का निकटतम हेलीपैड है।

ट्रेन द्वारा : जोरेथाँग में कोई रेलवेस्टेशन नहीं है। जोरेथाँग के लिये निकटतम रेलवेस्टेशन न्यू जलपाइगुड़ी (सिलीगुड़ी के पास) है। यह जोरेथाँग से 92 किमी की दूरी पर स्थित है।

सड़क मार्ग द्वारा : जोरेथाँग दार्जिलिंग, कैलिमपाँग और सिलीगुड़ी से पेलिंग के रास्ते में स्थित है और बस, जीप और व्यक्तिगत कारों के माध्यम से आसानी से पहुँचा जा सकता है।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स