• Follow NativePlanet
Share
» »पश्चिम बंगाल की प्राकृतिक सुन्दरता का खजाना गोरखा!

पश्चिम बंगाल की प्राकृतिक सुन्दरता का खजाना गोरखा!

Written By:

बात जब घूमने फिरने की आती है, तो दिमाग में वही पुराने हिलस्टेशन की सूची आती है, जिन्हें हम पहले ही घूम चुके होते हैं, ऐसे में कुछ ऐसे भी घुमक्कड़ होते हैं, जो हमेशा ही घूमने के लिए नयी जगहों की तलाश में जुटे रहते हैं। भारत में कई ऐसे स्थान मौजूद है, जिनकी अपार प्राकृतिक सुन्दरता और मनोरम नजारे पर्यटकों को भाते हैं, हालांकि इन जगहों की खूबसूरती से रूबरू होने के लिए पर्यटकों को मेहनत करनी होती है, जो मेहनत कर लेते हैं, वो इन खूबसूरत नजारों का दीदार कर पाते हैं।

कुछ लोग छुट्टियों पर जाते हैं, तो वह आलिशान होटल्स में रुकना पसंद करते हैं, बड़ी बड़ी गाड़ियों में घूमते हुए शहर को देखना पसंद करते हैं , लेकिन इन दूर दराज के क्षेत्र में आपको ना ही फाइव स्टार होटल मिलेगा, ना घूमने के लिए लम्बी गाड़ी। लेकिन मै इस बात की गारंटी दे सकती हूं, कि यहां आप कहीं भी नजर घुमायेंगे तो आप हरे भरे खेतों को देखेंगे, ताज़ी हवा, शहरीकरण से दूर एक अपनी ही अलग दुनिया में जीने वाले गांव का सादा जीवन, और असीम शांति की अनुभूति।

आज हम आपको अपने लेख के जरिये एक बेहद ही खूबसूरत से गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, जो दार्जलिंग से महज 4 घंटे की दूरी पर स्थित है। इस गांव का नाम है गोर्खे, यकीनन आपने गोर्खे का नाम आर्मी में सुना गोरखा आर्मी के नाम से सुना होगा। गोर्खे, पश्चिम बंगाल और सिक्किम की सीमा में एक खूबसूरत घाटी।  

गोरखे

गोरखे

दार्जलिंग की पहाड़ियों के बीच में स्थित गोरखे एक बेहद ही खूबसूरत और शांत सा गांव है, जहां मीलों दूर तक हरियाली फैली हुई है। यह खूबसूरत घाटी उंचे उंचे पाइन के पेड़ों से घिरी हुई है, जहां बीच में एक छोटी सी नदी बहती है, जिसे गोर्खे खोला के नाम से जाना जाता है, जो सिक्किम और पश्चिम बंगाल के बीच की सीमा को अलग करता है। 30 परिवारों की आबादी वाले इस गांव में खेती ही मुख्य पेशा है, जिसके चलते आप हरे-भरे खेतों को देख सकते हैं।

ट्रेकिंग के जरिये

ट्रेकिंग के जरिये

इस गांव तक पहुँचने के लिए कोई भी सीधी सड़क मौजूद नहीं है, पर्यटक यहां ट्रेकिंग एक जरिये ही पहुंच सकते हैं। इस गांव की ट्रेकिंग की शुरुआत फालट से से होती है, जो करीबन 18 किमी की है, पर्यटक यहां रुककर इस खूबसूरत जगह का दीदार कर सकते हैं।

पर्यटकों का बांहे खोलकर करते हैं स्वागत

पर्यटकों का बांहे खोलकर करते हैं स्वागत

इस खूबसूरत सी घाटी में रहने वाले सभी गांव वाले पर्यटकों का स्वागत दिल खोलकर करते हैं। यहां पर्यटकों के ठहरने क लिए कई होम स्टे बने हुए है, जहां पर्यटक रुक सकते हैं। अगर आप ऑफिस की चिलम-चिल्ली से दूर प्रकृति की गोद में दो पल सुकून के बिताना चाहते हैं, तो आपको इस जगह अवश्य आना चाहिए, यकीन मानिए एक बार आने के बाद आप बार बार इस जगह की यात्रा करना चाहेंगे।

घूमते हुए गांव वालों से करें

घूमते हुए गांव वालों से करें

Pc: Neha & Chittaranjan Desai

आप घूमते हुए गांववालों से बातचीत कर सकते हैं,पहाड़ी से उतरकर नदी किनारे बैठकर पानी की कलकलता को महसूस कर सकते हैं। इस गांव के आसपास से अगर आप वाहन की सुविधा चाहते हैं, तो आपको रिक्म, श्रीखोला और रिबडी, पहुँचाना होगा।

दार्जलिंग घूमे

दार्जलिंग घूमे

Pc: Jakub Michankow
दार्जलिंग सफ़ेद बर्फ से ढकी यहाँ की पहाड़ियां ऐसी दिखती हैं मानों चांदी की चादर ओढ़े हुए हों। सचमुच ये खूबसूरत नज़ारा देख आँखें एक पल के लिए भी झपकना गवारा नहीं करतीं। इसकी चमकदार काया पर्यटकों को यहाँ आने पर मजबूर करती है। कुदरत के करिश्मों में दार्जिलिंग भी आता है जहाँ पहुंचकर एक बार कुदरत की कला को दाद देने का मन करता है। दार्जिलिंग जाते समय रास्ते में पड़ने वाले जंगल, रंगीत नदियों का संगम देखने योग्य है। यहाँ पर चाय बगान, नैचुरल हिस्ट्री म्यूजियम जैसी आर्कषण जगह है जो मन को मोह लेती हैं।

मिरिक

मिरिक

Pc:Vikramdeep Sidhu
मिरिक का नाम लेपचा शब्द, मिर-योक से बना है, जिसका मतलब है 'आग से जली जगह'। पर आप इसके नाम के अर्थ पर बिल्कुल भी मत जायेगा, क्यूंकि यह अपने नाम के बिल्कुल ही परे प्रकृति की अद्भुत खूबसूरती से धनी है। मिरिक खुशनुमा वादियों से घिरा दार्जिलिंग का एक जिला है जो अपने मनमोहक दृश्यों से पर्यटकों को अपनी और लुभाता है।

कालींपोंग

कालींपोंग

Pc: Appra Singh
कालींपोंग गोरखे से चार घंटे की दूरी पर स्थित बेहद ही खूबसूरत हिल स्टेशन है, यह हिल स्‍टेशन समुद्र तल से 4000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और यहां ताजा शुद्ध हवा चलती है जो आने वाले हर पर्यटक की छुट्टियों को शानदार बना देती है और यहां पर्यटक बार - बार आना चाहते है। प्रकृति प्रेमियों के लिए कलिम्‍पोंग में बहुत सारी खास चीजें है जैसे - क्‍लाउडेड लियोपार्ड, रेड पांडा, साइबेरियन बीजल, बार्किंग डीयर। इस शहर में पक्षियों की भी विस्‍तृत विविधता देखी जा सकती है। अगर आप प्रृकति के और करीब जाना चाहते है तो शहर में स्थित नेओरा राष्‍ट्रीय उद्यान या ऋषि बंकिम चंद्र पार्क की सैर भी एक दिन में कर सकते है।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स