• Follow NativePlanet
Share
» »महाशिवरात्रि 2018: कहीं मक्खन से जुड़ा है शिवलिंग, तो कहीं स्थापित है एक साथ 90 शिवलिंग

महाशिवरात्रि 2018: कहीं मक्खन से जुड़ा है शिवलिंग, तो कहीं स्थापित है एक साथ 90 शिवलिंग

Written By: Goldi

भगवान शिव निरंकार हैं, इनके अनेको रूप है, इन्हें शिव, महादेव, अनंत,शंकर आदि के नाम से भी जाना जाता है। हिन्दू धर्म में भगवान शिव सृष्टि के रचियातायों में से एक हैं। शिव भक्त शिव के दर्शन के लिए कड़ी कठिन चड़ाई कर इनके दर्शन को हिमालय और अमरनाथ गुफा तक पहुंचते हैं।

भारत में शिव के ज्योतिर्लिंग और कई मंदिर स्थापित है, जहां हर साल लाखों की तादाद में श्रद्धालु पहुंचते हैं। भारत में भगवान शिव के ये कई खूबसूरत मंदिर है जो समुंद्र से लेकर रेगिस्तान और हिमालय की चोटी पर स्थित है। इसी क्रम में आइये जानते हैं, शिव के कुछ बेहद ही खूबसूरत मन्दिरों के बारे में,जिनके बारे में कम लोग ही जानते हैं-

तुंगनाथ मंदिर

तुंगनाथ मंदिर

तुंगनाथ को दुनिया का सबसे बड़ा शिव मंदिर माना जाता है, जोकि रुद्रप्रयाग जिले में उत्तराखंड के तुंगनाथ पर्वत की श्रृंखला में स्थित पंच केदार मंदिरों में सबसे ऊँचे स्थान पर स्थित है। यहां के लोगो की माने, तो यह मंदिर करीबन 5000 वर्षो से भी अधिक पुराना है।
Pc:Varun Shiv Kapur

तुंगनाथ

तुंगनाथ

तुंगनाथ का शाब्दिक अर्थ 'पीक के भगवान' है। इस मंदिर में भगवन शिव के हाथ की पूजा की जाती है, जो कि वास्तुकला के उत्तर भारतीय शैली का प्रतिनिधित्व करती है। मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार पर नंदी बैल की पत्थर कि मूर्ति है, जो हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव का आरोह है। समुद्रस्तर से करीबन 12 हजार फीट ऊंचाई पर स्थित मंदिर तुंगनाथ हमेशा बर्फ से ढका रहता है, और दुर्गम रास्ते होने के कारण यहां शिव के अन्य मन्दिरों के मुकाबले श्रधालुयों की कम ही भीड़ देखने को मिलती है।Pc:Varun Shiv Kapur

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

यहां आने के लिए पहले ऋषिकेश आएं। ऋषिकेश के लिए नजदीकी एयरपोर्ट देहरादून है। देहरादून के लिए सभी बड़ी सिटीज से फ्लाइट्स मिलती हैं। यहां से चोपता टैक्सी या बस से जा सकते हैं। चोपटा का नजदीकी स्टेशन ऋषिकेश (209 किमी) है। यहां लगभग सभी सिटीज से ट्रेन्स आती हैं। दिल्ली, देहरादून, कोलकाता, मुंबई, जयपुर, पटना, अहमदाबाद, गया, वाराणसी, पुरी, कोची और भुवनेश्वर से डायरेक्ट ट्रेन चलती हैं। यहां से ऊखीमठ और चोपता के लिए टैक्सी, बस मिलती हैं। दिल्ली, हरियाणा, यूपी, पंजाब और उत्तराखंड से ऋषिकेश के लिए बसेस चलती हैं। यहां से NH58 पर रूद्रप्रयाग वाली रोड पर जाने से ऊखीमठ पड़ेगा। ऊखीमठ से चोपटा 40 किमी है। बस या टैक्सी लें।
Pc:Varun Shiv Kapur

कोटिलिंगेश्वर मंदिर

कोटिलिंगेश्वर मंदिर

कोटिलिंगेश्वर मंदिर कर्नाटक के कोलार में काम्मासांदरा गांव में स्थित है। कोलार जिला बैंगलोर से लगभग 70 किमी दूर है। कोटिलेशेश्वर मंदिर कोलार गोल्ड फील्ड से दस किमी की दूरी पर स्थित है। कहा जाता है कि, स्वामी शंभू शिवमूर्ति ने अपने सपने में भगवान शिव को देखा था, बाद में उन्होंने यहां एक शिव मंदिर का निर्माण करने का निर्णय लिया। कोटिलिंगेश्वर का पहला शिव लिंग 1980 में स्थापित किया गया था। पिछले कुछ वर्षों में, इस मंदिर के आसपास लाखो शिवलिंगा स्थापित किये गये हैं।Pc:Visurao4all

कोटिलिंगेश्वर

कोटिलिंगेश्वर

इस मंदिर में कोटिलिंगेश्वर की पूजा होती है..इस मंदिर का मुख्य आकर्षण 33 मीटर का सबसे बड़ा शिव लिंग है। इस लंबे लिंगम के सामने एक बड़ी नंदी (बैल) प्रतिमा भी है। कोटिलिंगेश्वर मंदिर में करीबन हर आकार के करीब 90 लाख शिवलिंग स्थापित है..इस मंदिर में एक करोड़ लिंग स्थापित करना मंदिर की परियोजना है। परिसर में शिव लिंगों की संख्या के कारण इसे कोटिलिंगेश्वर कहा जाता है।
Pc:Gopal Venkatesan

कैसे पहुंचे?

कैसे पहुंचे?

कोटिलिंगेश्वर पहुँचने के लिए श्रधालुयों को पहले कोलार पहुंचना होगा.. उसके बाद टैक्सी या बस से आगे जा सकते हैं। बैंगलोर से यह मंदिर करीब 95 किमी की दूरी पर स्थित है। कोलार के लिए बैंगलोर से नियमित बसें चलती हैं। अगर आप ट्रेन से जा रहे हैं तो आपको कोलार या बंगारपेट रेलवे स्टेशन में उतरना होगा। उसके बाद टैक्सी या बस से आगे जा सकते हैं।Pc:Ted Drake

मुरुदेश्वर

मुरुदेश्वर

यह मंदिर कर्नाटक में स्थित है और भगवान शिव के एक नाम मुरुदेश्वर पर ही इस मंदिर का नाम मुरुदेश्वर रखा गया है। अरब सागर के तट पर स्थित यह मंदिर बहुत ही शांत और सुंदर है यहां भी आप भगवान शिव की आराधना कर सकते हैं।Pc:Prashant Sahu

 मुरुदेश्वर

मुरुदेश्वर

यह 249 फुट लंबा दुनिया का सबसे बड़ा गोपुरम माना जाता है। इसके अलावा मंदिर परिसर में भगवान शिव की विशाल मूर्ति है, जो दूर से दिखाई देती है। प्रतिमा की ऊंचाई 123 फीट है और इसे बनाने में लगभग 2 साल लगे। मूर्ति इस तरह तैयार की गई है कि सूर्य का प्रकाश सीधे इस पर पड़े और इस तरह यह बहुत शानदार दिखाई देती है। मूल रूप से, मूर्ति की चार बाहें है और इसे सोने से सुशोभित किया गया है।Pc:Sankara Subramanian

कैसे जाएँ

कैसे जाएँ

मुरुदेश्वर का नजदीकी हवाई अड्डा मैंगलोर हवाई अड्डा है, यहां से मुरुदेश्वर करीबन 165 किमी की दूरी पर स्थित हैं। अगर आप ट्रेन द्वारा आ रहे हैं तो, इसका नजदीकी रेलवे स्टेशन मुरुदेश्वर है, स्टेशन पहुँचने के बाद स्थानीय वाहन या टैक्सी द्वारा मुरुदेश्वर की यात्रा की जा सकती है। कर्नाटक के किसी भी शहर से मुरुदेश्वर के लिए बसों की सुविधा उपलब्ध है।Pc:Prasannabanwat

बिजली महादेव

बिजली महादेव

बिजली महादेव मंदिर, ब्यास नदी के किनारे, कुल्लू का एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल, मनाली के निकट स्थित है। हिंदुओं के विनाश के देवता, शिव, को समर्पित, यह जगह समुद्र स्तर 2450 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह मंदिर पहाड़ी, भारत के उत्तर में हिमालय की तलहटी में रहने वाले लोगों के समूहों की एक व्यापक सामान्यीकरण, स्थापत्य शैली का प्रतिनिधित्व करता है, अपने 60 फुट लंबा स्तंभ के लिए प्रसिद्ध है। स्थानीय विश्वास के अनुसार, मंदिर के अंदर रखी मूर्ति शिव का प्रतीक 'शिवलिंग', बिजली की वजह से कई टुकड़े में टूट गया था।
Pc:Akshat Sharma

बिजली महादेव

बिजली महादेव

बाद में, मंदिर के पुजारियों के टुकड़े एकत्र किये और उन्हें मक्खन की मदद के साथ वापस जोड़ दिया। शिवलिंग के हिस्से जोड़ने का यह समारोह प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इस मंदिर की यात्रा की योजना बना पर्यटकों के लिए यह एक कठिन चढ़ाई वाला रास्ता है जहाँ बगल में देवदार के पेड़ रहते हैं। मंदिर से पार्वती और कुल्लू घाटियों के सुंदर दृश्यों को देखा जा सकता है।Pc:Ashish Sharma

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

कुल्लू हिमाचल प्रदेश राज्य परिवहन निगम की बस सेवा के माध्यम से अपने निकटतम स्थलों के साथ अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली, चंडीगढ़, पठानकोट और शिमला से पर्यटक हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम की डीलक्स द्वारा यहां आसानी से पहुंच सकते हैं।Pc:Raghav507

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स