• Follow NativePlanet
Share
» »तस्वीरों में निहारे गोल्डन सिटी को

तस्वीरों में निहारे गोल्डन सिटी को

Written By:

गोल्डन सिटी के नाम से विख्यात जैसलमेर विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल महान थार रेगिस्तान के बीच में स्थित है। यह सुनहरा शहर राजस्थानी लोक संगीत और नृत्य रूपों, जिन्हे वैश्विक मंच पर अत्याधिक सराहा जाता है, के लिए प्रसिद्ध है।

यहां स्थित कई ऐतिहासिक इमारते बलुया पत्थर से निर्मित हैं, जो सूरज की रोशनी में भव्यता के साथ चमकती है, जो इसे गोल्डन सिटी बनाता है। यह जगह घूमने के शौकीनों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है, यहां कई ऐतिहासिक किले हैं, जो यहां के शासकों द्वारा निर्मित हैं। जिनमे से कुछ तो अब बरबर हालत में हैं, तो कुछ आज भी बीते जमाने की बेहतरीन वास्तुकला का प्रदर्शन करते हुए प्रतीत होतें हैं।

राजसी गढ़, राजस्थान में ऐतिहासिक किलों की सैर!

अगर आपने अभी तक जैसलमेर की यात्रा नहीं की है, तो चलिए आज आपको तस्वीरों के जरिये से जैसलमेर की खूबसूरती का दीदार कराते हैं।

अन्ना सागर झील

अन्ना सागर झील

रेगिस्तान के बीच स्थित अन्ना सागर मन को आनंदित कर देती हैं, शाम को यहां से डूबते हुए सूरज के अद्भुत नजारे देखे जा सकते हैं।Pc: Flicka

बड़ा बाग

बड़ा बाग

जैसलमेर से 6 किमी की दूरी पर स्थित बड़ा बाग अपने खूबसूरत शाही स्मारकों और छतरियों के लिए प्रसिद्ध है जिसे विभिन्न भट्टी शासकों द्वारा निर्मित किया गया।Pc:Honza Soukup

गड़ीसागर झील

गड़ीसागर झील

इस खूबसूरत झील में आप नौकायन के साथ साथ डूबते हुए और उगते हुए सूरज के मनोरम नजारों का आनन्द उठा सकते हैं।
Pc: Terry Presley

जैसलमेर किला

जैसलमेर किला

सूरज की किरने पड़ते ही बलुआ मिट्टी से बना यह किला एकदम सोने की तरह चमकने लगता है, इसलिए इसे स्वर्ण किला भी कहा जाता है। यह किला एक 30 फुट ऊंची दीवार से घिरा हुआ है। यह एक विशाल 99 बुर्जों वाला किला है। वर्तमान में, यह शहर की आबादी के एक चौथाई के लिए एक आवासीय स्थान है। किला राजपूत और मुगल स्थापत्य शैली का आदर्श संलयन दर्शाता है।Pc:Manoj Vasanth

खाभा किला

खाभा किला

खाभा, जैसलमेर शहर से 35 किमी की दूरी पर स्थित एक छोटा सा पुरवा है। यहाँ आने वाले पर्यटक राजस्थान की ग्रामीण जीवन शैली की एक झलक देख सकते हैं। यहाँ टेंट, झोपड़ियों और शिविरों के रूप में आवास के विकल्प उपलब्ध हैं।Pc:Chandra

कुलधारा

कुलधारा

स्वर्ण नगरी जैसलमेर से करीब 25 किलोमीटर दूर बसे गांव कुलधारा एक भुतहा गांव माना जाता है। यहां आने वालों के मुताबिक जैसे जैसे आप इस गांव के खँडहर में चलते जाएंगे आपको एक अजीब सी ठंड और बेचैनी का एहसास होगा।आज यहां कई सारे होटल और रिसोर्ट हैं जो आपको आपके रिस्क पर इस गांव का भ्रमण कराते हैं तो अगर आप राजस्थान में हैं तो एक बार इस वीरान गांव की रोमांचकारी यात्रा अवश्य करें।Pc:nevil zaveri

पटवों की हवेली

पटवों की हवेली

पटवों की हवेली जैसलमेर की पहली हवेली है, जिसका निर्माण गुमन चंद पटवा द्वारा 1805 ई0 में अपने पांच बेटों के लिए कराया था,इस परिसर में कुल पांच हवेलियां हैं, ये सभी हवेलियां करीबन 50 सालों में बनकर तैयार हुई थी। वर्तमान में, यहाँ भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण का कार्यालय और राज्य कला और शिल्प विभाग स्थित हैं।Pc:Nagarjun Kandukuru

सलीम सिंह की हवेली

सलीम सिंह की हवेली

सलीम सिंह की हवेली को जहाज महल भी कहा जाता है,जिसका निर्माण सलीम सिंह के द्वारा 1815 ई0 में बनाया गया था। इस इमारत में 38 बाल्कनी हैं जिनका डिजाइन एक दूसरे से पूरी तरह अलग है। इमारत का प्रवेश द्वार कई हाथियों द्वारा संरक्षित है।Pc:Ashwin Kumar

सूर्य गेट

सूर्य गेट

जैसलमेर के प्रमुख आकर्षणों में से एक है सूर्या गेट है, जोकि 12वीं सदी में बनाया गया था, आज भी यह गेट अच्छी हालत में हैं, हमारा सुझाव है कि अपनी जैसलमेर यात्रा पर इस स्थान को देखना बिलकुल न भूलें आप Pc:Ashwin Kumar

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Nativeplanet sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Nativeplanet website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more