• Follow NativePlanet
Share
» »ऐतिहासिक और प्राकृतिक सौंदर्य से सराबोर है श्रीरंगपटना

ऐतिहासिक और प्राकृतिक सौंदर्य से सराबोर है श्रीरंगपटना

Posted By: Namrata Shatsri

भारत एक ऐसा देश है जहां अनेक संस्‍कृतियों, परंपराओं और वन्‍जीवों के साथ-साथ प्रकृति का बेजोड़ संगम देखने को मिलता है। इस देश की धरती पर ऐतिहासिक और सांस्‍कृतिक महत्‍व रखने वाले स्‍थानों की कोई कमी नहीं है। अगर आप भारत के इतिहास का एक अलग रंग देखना चाहते हैं तो श्रीरंगपटना आ सकते हैं। इतिहासप्रेमियों के लिए यहां सब कुछ है।

ये जगह संगम के लिए भी प्रसिद्ध है। कर्नाटक के मंड्या जिले में स्थित कावेरी नदी से बना एक द्वीप है श्रीरंगपटना। टीपू सुल्‍तान के शासनकाल के दौरान ये मैसूर की राजधानी हुआ करती थी। इस खूबसूरत जगह पर ना केवल प्राकृतिक छटाएं बिखरी हुई हैं बल्कि धार्मिक, सांस्‍कृतिक और ऐतिहासिक महत्‍व रखने वाली जगहें भी हैं।

भारत के 10 ऐतिहासिक स्मारक, जिनको देखकर अपने को भारतीय कहलाने पर गर्व करेंगे आप

इस जगह का नाम यूनेस्‍को द्वारा विश्‍व धरोहर की सूची के लिए भी घोषित किया जा चुका है। इस क्षेत्र के आसपास कई सुंदर और आकर्षित स्‍थल हैं। मैसूर से श्रीरंगपटना 15 किमी दूर है और इस वजह से यहां पर बैंगलोर और अन्‍य प्रमुख शहरों से आसानी से ट्रेन और बसें मिल जाती हैं।

श्रीरंगपटना में कई दर्शनीय स्‍थल हैं जिनमें मंदिर, गार्डन और ऐतिहासिक जगहें शामिल हैं। आइए जानते हैं श्रीरंगपटना के दर्शनीय स्‍थलों के बारे में :

दरिया दौलत पैलेस

दरिया दौलत पैलेस

प्राकृतिक सौंदर्य से सराबोर ये जगह खूबसूरत बगीचे के अंदर निर्मित है। इसे इंडो सारासेनिक शैली में बनवाया गया है। सन् 1784 में टीपू सुल्‍तान ने इसे बनवाया था। बेंगलुरू में इस इमारत का प्रतिरूप भी निर्मित है जिसे समर पैलेस के नाम से जाना जाता है। इसे भी सन् 1791 में टीपू सुल्‍तान द्वारा बनवाया गया था।Pc:Akash Singh

श्री रंगनाथास्‍वामी मंदिर

श्री रंगनाथास्‍वामी मंदिर

दक्षिण भारत का प्राचीन रंगनाथास्‍वामी मंदिर भगवान विष्‍णु के स्‍वरूप रंगनाथ को समर्पित है। इसे 9वीं शताब्‍दी में गंगा राजवंश द्वारा बनवाया गया था। कावेरी नदी के किनारे बने पांच प्रमुख तीर्थस्‍थलों में से ये एक है और इन पांच तीर्थों को एकसाथ पंचारंगा क्षेत्रम् के नाम से जाना जाता है।Pc: K R Ramesh

संगम

संगम

यह तीन पवित्र नदियों कावेरी, लोकपावनी और हेमवती का संगम स्‍थल है। यहां आकर आपको एक अद्भुत शांति का अहसास होगा। ये जगह आपके मन के साथ-साथ दिमाग को भी शांति प्रदान करेगी। टीपू सुल्‍तान के दौर की ये जगह पर्यटकों के लिए काफी लोकप्रिय है।
Pc:Ashwin Kumar

टीपू सुल्‍तान गुंबज

टीपू सुल्‍तान गुंबज

कई खूबसूरत बगीचों से घिरा ये मकबरा बहुत ही सुंदर और आकर्षक है। इस मकबरे में टीपू सुल्‍तान के पिता हैदर अली और मां फातिमा बेगम की कब्र है। हाथ से सजे दरवाज़े इस मस्जिद की खूबसूरत में चार चांद लगाते हैं।Pc:Cchandranath84

श्रीरंगपटना किला

श्रीरंगपटना किला

शहर के पश्चिम क्षेत्र में स्थित ये छोटा सा किला है जिसे शहर की सुरक्षा को ध्‍यान में रखकर बनवाया गया था। ये बहुत ही खूबसूरत किला है जोकि दो दीवारों से घिरा है। इस किले में ब्रिटिश सैनिकों को कैद कर के रखा जाता है और यहां पर कई सैनिकों की मौत भी हो चुकी है। ये किला ऐतिहाकसक महत्‍व रखता है।Pc:Chitra sivakumar

बेली डंग्‍योन

बेली डंग्‍योन

श्रीरंगपटना में आप ये प्रमुख स्‍थल देख सकते हैं। हालांकि, बेली डंग्‍योन लॉर्ड हैरिस का बंगला है लेकिन ये जगह भी ऐतिहासिक महत्‍व रखती है। अगर आप प्रकृति के बीच वन्‍यजीवों को देखना चाहते हैं तो श्रीरंगपटना से 3 किमी दूर स्थित रंगनाथिट्टू पक्षी अभ्‍यारण्‍य देखने आ सकते हैं।

श्रीरंगपटना आने का सबसे सही समय अक्‍टूबर से मार्च तक का है। इस समय यहां का मौसम सुहावना रहता है। अप्रैल से सितंबर के बीच यहां भारी बारिश होती है इस‍लिए इस दौरान श्रीरंगपटना घूमने आना सही नहीं रहता है।Pc:Vinayaraj

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स