• Follow NativePlanet
Share
» »प्रकृति के इस खास तोहफे को जरुर देखें, ऐसा ना हो की देर हो जाये

प्रकृति के इस खास तोहफे को जरुर देखें, ऐसा ना हो की देर हो जाये

Written By:

जब हम किसी प्राकृतिक जगहें घूमने फिरने निकलते हैं, तो हम कई प्राकृतिक नजारों से परिचित होते हैं, जिन्हें देख बस लगता है, अगर जन्नत है तो यहीं है। किसी ने सही कहा है जनाब, जरा बाहर तो निकलिये,जहां कई छिपे हुए चमत्कार अनदेखी भव्यता और प्रकृति के आकर्षण आपका इंतजार कर रहे हैं।

प्रकृति की विवधतायों में से एक है सफेद बाघ , जी हां जो प्रकृति का ही खूबसूरत नमूना है। यह बाघ अन्य बाघों से देखने में ज्यादा खूबसूरत लगता है। आज भी भारत के इस खास दुर्लभ बाघ को जंगलों में निहारा जा सकता है। तो क्यों ना इन छुट्टियों सैर हो जाये सफ़ेद बाघों के उद्यानों की

सुंदरबन नेशनल पार्क

सुंदरबन नेशनल पार्क

पश्चिम बंगाल स्थित सुंदरवन दुनिया के सबसे समर्द्ध क्षेत्रों में से एक है और इसिलिए, यह दुनिया के प्राकृतिक चमत्कारों के रूप में भी जाना जाता है। मैंग्रोव जंगलों से ढंका सबसे बड़ा तटीय क्षेत्र होने के नाते अन्य वन्यजीव पार्को की तुलना में सुंदरबन बेहद खूबसूरत है, और इसकी सुन्दरता में चार चांद लगाते हैं, यहां के सफेद बाघ।

सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान एक बाघ अभयारण्य है जो कई बंगाल बाघों को घर है। अक्सर सफेद बाघ को सुंदरबन के जंगलों में देखा गया है, तो अगर आप सफेद बाघ देखना चाहते हैं, तो सुंदरबन की सैर अवश्य करें।Pc:Chi King

मुकुंदपुर वाइल्डलाइफ सेंचुरी

मुकुंदपुर वाइल्डलाइफ सेंचुरी

मध्य प्रदेश में रीवा से करीब 20 किमी की दूरी पर स्थित मुकुंदपुर वन्यजीव अभयारण्य 25 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ, दुनिया का पहला श्वेत टाइगर अभयारण्य है जो विशेष रूप से दुर्लभ सफेद बाघों की आबादी की रक्षा के लिए बनाई गया है।

ऐसा कहा जाता है कि, वर्ष 1951 में मुकुंद के क्षेत्र में दुनिया में पहली बार सफ़ेद बाघ को रीवा के महाराजा मार्तंड सिंह ने देखा था। हालांकि, पिछले कुछ दशकों से किसी ने भी सफेद बाघ नहीं देखा है। लेकिन फिर भी माना जाता है कि, आज भी यह यह क्षेत्र कई सफेद बाघों का घर है।

बांधवगढ़ नेशनल पार्क

बांधवगढ़ नेशनल पार्क

बांधवागढ़ राष्ट्रीय उद्यान मध्य प्रदेश का एक और संरक्षित क्षेत्र है, जोकि कई प्रजातियों के साथ बाघो का भी घर है। यह पार्क भारत में बाघों की उच्च घनत्व के लिए जाना जाता है और यदि आप जंगल सफारी करते हुए बाघों को देखना चाहते हैं तो ये नेशनल पार्क बेस्ट प्लेस है।

निलगिरी पहाड़ी

निलगिरी पहाड़ी

पश्चिमी घाट का महत्वपूर्ण हिस्सा है, निलगिरी पहाड़ी भारत के सबसे समर्द्ध क्षेत्रों में से एक है जिसमें विभिन्न वन्य जीवनके आलवा कई समृद्ध जैव विविधताएं शामिल हैं। इस पहाड़ी की खूबसूरती यहां मौजूद सफेद बाघ और दुगना कर देते हैं। निलगिरी की पहाड़ियों की सैर करते हुए आप यहां के दुर्लभ सफेद बाघों को देख सकते हैं।

 काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान असम के गर्व में से एक है। यह उल्लेख करना जरूरी है कि यह लुप्तप्राय भारतीय एक सींग वाले गैंडे का घर है और दुनिया में बाघों की सबसे अधिक घनत्व को समयोजित करते हुए, 2006 में इसे बाघ अभयारण्य के रूप में भी घोषित किया गया। राष्ट्रीय उद्यान एक यूनेस्को विश्व विरासत स्थल भी है। इसके अलावा इस वन्य जीव पार्क में सफेद बाघों को भी देखा जा सकता है।

इस नेशनल पार्क में सफेद बाघों की उपस्थिति काफी रहस्मयी है, अब तक इस पार्क में सफेद बाघों को सिर्फ नेशनल पार्क में काम करने वालों ने ही देखा है, अगर आप भी भाग्य शाली हुए तो, जंगल सफारी का आनन्द लेते हुए आप इस दुर्लभ प्रजाति को अपने कैमरे में कैद कर सकते हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स