» »अब लखनऊ में नहीं होंगे बोर..क्योंकि यहां बनेगी आपकी छुट्टियाँ मजेदार

अब लखनऊ में नहीं होंगे बोर..क्योंकि यहां बनेगी आपकी छुट्टियाँ मजेदार

Written By: Goldi

उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ एक बेहद ही खूबसूरत शहर है...जोकि हमेशा से ही अपने नवाबी अंदाज और मेहमाननवाजी के जाना जाता रहा है । इस शहर की मीठी जुबां और तहज़ीब किसी को भी अपना दीवाना बना दे।

बारिश के मौसम में पार्टनर का हाथ पकड़ कीजिये महाराष्ट्र की खूबसूरत झीलों की सैर

यूं तो लखनऊ में घूमने के लिए काफी जगह मौजूद है, लेकिन अगर आप लखनऊ वासी है और वहीं पुरानी पुरानी चीजों को घूम घूमकर थक गये हैं..तो आज आपको अपने लेख के जरिये मैं अपने इस आर्टिकल में लखनऊ के आसपास के कुछ ऐसे आकर्षक स्थलों से रूबरू कराती हूँ जहाँ ऐतिहासिक शहर होने के साथ साथ वन्यजीव अभ्यारण भी हैं। तो दोस्तों आप अपनी पूरी फैमिली या फिर दोस्तों के साथ तैयार हो जाइए इस यादगार ट्रिप के लिए और एन्जॉय कीजिये 

नवाबगंज पक्षी विहार

नवाबगंज पक्षी विहार

लखनऊ-कानपुर रोड पर मौजूद नवाबगंज पक्षी अभयारण्य में हजारों पंछियों के घोंसले हैं, एक खूबसूरत झील है और खूबसूरत-चंचल हिरनों का पार्क भी। आपको शायद ही पता होगा कि नवाबगंज पक्षी अभयारण्य विदेशी पंछियों को बेहद पसंद है। अगर आप फोटोग्राफी के शौकीन हैं, तो यह जगह आपके लिए जन्नत सरीखी हो सकती है। उगते-ढलते सूरज के बीच पंछियों की कलाबाजियों को कैमरे में कैद करना आपके लिए अद्भुत अनुभव हो सकता है। लखनऊ के किसी भी कोने से यहां पहुंचने में ज्यादा से ज्यादा 2 से ढाई घंटे का वक्त लगेगा और आप पहुंच जाएंगे 500 से ज्यादा अनोखे पंछियों के घर में।

देवा शरीफ़

देवा शरीफ़

लखनऊ से पास बाराबंकी स्थित देवा शरीफ़, महान सूफ़ी संत हाजी वारिस अली शाह की दरगाह है। अक्टूबर-नवम्बर महीने में यहां बहुत बड़ा उर्स (मेला) लगता है, जहां हज़ारों लोग आते हैं. स्थानीय लोगों का मानना है कि यहां आने से मक्का में हज करने जैसा सबाब मिलता है।

बिठूर

बिठूर

बिट्ठुर, लखनऊ से करीबन 100 किमी की दूरी पर स्थित है जोकि गंगा नदी के किनारे पर बसा सुंदर और खूबसूरत शहर है। लखनऊ की घबरा देने वाली भीड़ से काफी दूर स्थित यह स्‍थल पर्यटकों को आराम करने के लिए जीवंत जगह उपलब्‍ध करवाती है। बिट्ठुर, हिंदू धर्म के लोगों के लिए प्रमुख धार्मिक स्‍थल है, साथ ही साथ इस स्‍थल का ऐतिहासिक महत्‍व भी काफी है। मान्यता ये भी है कि ब्रह्मा जी ने धरती पर जीवन की शुरुआत यहीं से की थी।

दुधवा नेशनल पार्क या टाइगर रिज़र्व

दुधवा नेशनल पार्क या टाइगर रिज़र्व

दुधवा नेशनल पार्क, भारत - नेपाल सीमा के पास उत्‍तर प्रदेश राज्‍य के तराई बेल्‍ट में स्थित है। इसे 1958 में वन्‍यजीव अभयारण्‍य के रूप में स्‍थापित किया गया था और 1977 में यह एक राष्‍ट्रीय उद्यान बन गया था। लखीमपुर खीरी के दुधवा टाइगर रिज़र्व में, आप जीप या मिनी बस किराए पर ले सकते हैं। इसके अलावा आप हाथी की सवारी का भी आनंद ले सकते हैं।इसमें फ़ायदा ये है कि हाथी का महावत आपके टूरिस्ट गाइड का भी काम करता है।इस विशाल पार्क में आप तेंदुआ बिल्‍ली, फिशिंग कैट, रैटल, सीविट, जैकॉल या सियार, हॉग हिरण और भौकनें वाला हिरण आदि को देख सकते हैं। साथ ही हिस्‍पिड खरगोश के घर को भी आप देख सकते हैं। इस अभ्यारण में आप घरेलु और प्रवासी पक्षियों की तक़रीबन 400 प्रजाति देख सकते हैं।

चित्रकूट

चित्रकूट

विन्ध्य पर्वत श्रृंखलाओं से घिरा चित्रकूट उत्तर भारत के सबसे शांत और पवित्र स्थानों में से एक है। यहां पर कई झरने आपका मन मोह लेंगे। ये जगह उन लोगों के लिए ख़ास है, जो गर्मियों में शांत और ठंडी जगह के साथ-साथ धार्मिक जगह की यात्रा भी करना चाहते हैं। चित्रकूट में धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व के अनेक स्थल हैं, जिनके दर्शन-पूजन करने के लिए श्रद्धालु बारंबार आते हैं। पर्यटक यहां स्थित कामदगिरि पर्वत की परिक्रमा करते हैं।

लायन सफ़ारी, इटावा

लायन सफ़ारी, इटावा

वाइल्ड लाइफ़ लवर्स! चिड़ियाघर की तरह पिंजरे में बंद नहीं, बल्कि आज़ाद घूम रहे असली शेरों से मुलाक़ात करनी हो, तो आप इटावा की लायन सफ़ारी जा सकते हैं।यहां आपको शेरों के अलावा ऐसे बहुत से जंगली जानवर मिलेंगे, जिन्हें आप अक्सर डिस्कवरी चैनल पर देखा करते हैं।

गढ़वाल

गढ़वाल

उत्तराखंड स्थित गढ़वाल की अद्भुत ख़ूबसूरती आपका मन मोह लेगी। गर्मियों में ये जगह आपको स्वर्ग से कम नहीं मालूम होगी. पहाड़ियां, घाटियां, नदियां, झील, जंगल, जानवर और मंदिरों से भरी इस जगह पर हर उम्र के लोगों के लिए कुछ न कुछ रोमांचक है।गढ़वाल ट्रेकिंग के लिए मशहूर है, इसके अलावा आप यहां रिवर राफ्टिंग,बंजी जम्पिंग,पैराग्लाइडिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

वाराणसी

वाराणसी

आस्थाओं और धार्मिक रंग में डूबा उत्तर प्रदेश का प्राचीन नगर वाराणसी अपने आकर्षण के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। जहाँ दूर दूर से सैलानी आते हैं। इस ऐतिहासिक नगर को भगवान शिव की नगरी कहा जाता है। इस शहर के बारे में कहा जाता है कि जो एक बार यहाँ आया वो निश्चित ही मोक्ष प्राप्ति करेगा।

झाँसी

झाँसी

बुन्देलखंड का प्रवेशद्वार झाँसी उत्तर प्रदेश का एक ऐतिहासिक शहर है। जहाँ 'खूब लड़ी मर्दानी वो है झाँसी वाली रानी' की कथाओं से रचा हुआ है। यह ऐतिहासिक शहर खासकर झाँसी की रानी रानी लक्ष्मीबाई के नाम से मशहूर है। यहाँ आप झाँसी का किला, रानी महल, झाँसी संग्राहलय, गणेश मंदिर, महाराजा गंगाधर राव की छतरी, महालक्ष्मी मंदिर आदि।

पीलीभीत

पीलीभीत

उत्तर प्रदेश का बेहद आकर्षक शहर पीलीभीत अपने घने जंगलों और जंगली जानवरों के लिए पर्यटकों की पहली पसंद के रूप में सामने आता है जहाँ पर्यटक आना चाहते हैं। इस शहर में उत्तर प्रदेश के सबसे ज़्यादा जंगल पाये जाते हैं। हालांकि इस शहर की कुछ सीमा नेपाल से जुडी हुई है। यहाँ आप कई ऐतिहासिक इमारतों को देख सकते हैं साथ ही टाइगर रिज़र्व को भी देखा जा सकता है।

नैनीताल

नैनीताल

दोस्तों के साथ ट्रिप एन्जॉय करनी हो या फिर हनीमून पर जाना हो लखनऊ वासियों के लिए नैनीताल एक बेस्ट आप्शन है। नैनीताल अपने खूबसूरत परिदृश्यों और शांत परिवेश के कारण पर्यटकों के स्वर्ग के रूप में जाना जाता है। अगर आप एडवेंचर स्पोर्ट्स में भी दिलचस्पी रखते हैं तो नैनीताल आपके लिए किसी जन्नत से कम नहीं है...आप यहां रिवर राफ्टिंग,बंजी जम्पिंग,पैराग्लाइडिंग का भी लुत्फ उठा सकते हैं।

आगरा

आगरा

अगर आप प्यार की मूर्त यानी ताजमहल का दीदार करना चाहते हैं तो,आगरा से लखनऊ आप एक दिन की ट्रिप भी कर सकते हैं। आगरा में ताजमहल के अलावा आप फतेहपुर सिकरी,आगरा किला, महताब बाग आदि घूम और देख सकते हैं।

पन्ना

पन्ना

मध्यप्रदेश का पन्ना ज़िला डायमंड सिटी के नाम से जाना जाता है। पन्ना ख़ूबसूरत, शांत और निर्मल है. यहां के मंदिरों में आपको हिन्दू- मुस्लिम वास्तुकला की झलक दिखेगी। पन्ना नेशनल पार्क, हीरे की खान,मगरमच्छ सेंचुरी , बलदेव जी मंदिर, जुगल किशोर मंदिर, पद्मादेवी मंदिर आदि यहां के प्रमुख स्थान हैं, जहां आप घूम सकते हैं।यहां एक ख़ूबसूरत झरना है, जिसके पास ही पांडवों की गुफाएं हैं।

Please Wait while comments are loading...