» »मॉनसून में लें भारत के इन त्‍योहारों का मज़ा

मॉनसून में लें भारत के इन त्‍योहारों का मज़ा

By: Namrata Shatsri

दुनियाभर में भारत को रंग, भोजन, त्‍योहारों, विविधता के लिए जाना जाता है। अगर आप भारत के हर कोने को करीब से जानना चाहते हैं तो मॉनसून के दौरान आने वाले त्‍योहारों से बेहतर समय और कोई नहीं हो सकता है।

मंदिर जहां रात होते ही नृत्य करती हैं आत्माएं, बजती हैं पायलें

त्‍योहारों की धूम देखने के लिए मॉनसून का समय सबसे बेहतर माना जाता है। भारत में बारिश की पहली फुहार के साथ ही त्‍योहारों की भी शुरुआत होती है। देश के हर हिस्‍से में अपने ही अलग तरीके से मॉनसून के त्‍योहार मनाए जाते हैं। इस दौरान होने वाले अनुभव को शब्‍दों और तस्‍वीरों में बयां नहीं किया जा सकता है। आइए एक नज़र डालते हैं देशभर में होने वाले त्‍योहारों पर।

आदी पेरुक्‍कू, तमिलनाडु

आदी पेरुक्‍कू, तमिलनाडु

तमिलनाडु राज्‍य का बेहत महत्‍वपूर्ण त्‍योहार है आदी पेरुक्‍कू। इस त्‍योहार पर लोग देवी के विभिन्‍न रूपों की पूजा करते हैं और उनसे सुख, शांति और समृद्धि की कामना रकते हैं। ये त्‍योहार सामान्‍यत: जलाशयों के निकट मनाया जाता है। इस त्‍योहार में पानी का बहुत महत्‍व होता है।PC:Peenumx

आदी पेरुक्‍कू, तमिलनाडु

आदी पेरुक्‍कू, तमिलनाडु

तमिलनाडु राज्‍य का बेहत महत्‍वपूर्ण त्‍योहार है आदी पेरुक्‍कू। इस त्‍योहार पर लोग देवी के विभिन्‍न रूपों की पूजा करते हैं और उनसे सुख, शांति और समृद्धि की कामना रकते हैं। ये त्‍योहार सामान्‍यत: जलाशयों के निकट मनाया जाता है। इस त्‍योहार में पानी का बहुत महत्‍व होता है।

PC: gbSk

बेह्दिअनख्‍लाम, मेघालय

बेह्दिअनख्‍लाम, मेघालय

मेघालय की प्‍नार जनजाति द्वारा ये अनोखा त्‍योहार मनाया जाता है। इस त्‍योहार को हर साल जुलाई के मध्‍य में बुवाई के मौसम के खत्‍म होने पर मनाया जाता है। ये त्‍योहार प्रकृति की विनाशकारी शक्तियों पर काबू पाने के लिए मानव जाति के संघर्ष को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है।

PC: Vishma thapa

मिंजार, हिमाचल प्रदेश

मिंजार, हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश का प्रमुख त्‍योहार है मिंजार जो सात दिनों तक चलता है। इस दौरान वर्षा के देवता की पूजा होती है और उनसे लोग अच्‍छी फसल के लिए कामना करते हैं। आमतौर पर ये त्‍योहार जुलाई और अगस्‍त के महीने में मनाया जाता है।PC: vinodbahal

हेमिस, लद्दाख

हेमिस, लद्दाख

हेमिस मठ में ये त्‍योहार मनाया जाता है और यह त्‍योहार लद्दाख के सबसे बड़े बौद्ध मठों में मनाया जाने वाला सबसे खास त्‍योहार है। ये त्‍योहार रंग, संस्‍कृति, कला और धर्म का उत्‍सव मनाने के लिए आयोजित किया जाता है। इस त्‍योहार पर लोग मास्‍क पहनकर नृत्‍य करते हैं।PC: yoshif

जन्‍माष्‍टमी

जन्‍माष्‍टमी

भगवान कृष्‍ण के जन्‍मोत्‍सव के रूप में जन्‍माष्‍टमी का त्‍योहार मनाया जाता है। पूरे देश में इस त्‍योहार के प्रति एक जैसी ही आस्‍था और श्रद्धा देखने को मिलती है। श्रीकृष्‍ण का जन्‍म मथुरा शहर में हुआ था इसलिए इस जगह पर जन्‍माष्‍टमी का उत्‍सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। देश में जन्‍माष्‍टमी की धूम देखने के लिए मथुरा और वृंदावन जा सकते हैं। ये त्‍योहार अगस्‍त और सितंबर के महीने में मनाया जाता है।

PC:Vinoth Chandar

ओणम, केरल

ओणम, केरल

केरल का प्रमुख त्योहहार है ओणम जो मलयालम महीने चिंगम यानि अगस्तै से सितंबर के बीच 10 दिनों के लिए मनाया जाता है। इस त्योलहार को केरल के हर धर्म, जाति और रंग के लोग मनाते हैं। देशभर के मलयाली लोग इस त्योतहार पर अपने घरों को फूलों के कारपेट से सजाते हैं जिसे पूकलम कहा जाता है और स्वादिष्ट व्यंरजन बनाते हैं।

PC:Ramesh NG

गणेश चतुर्थी

गणेश चतुर्थी

जन्‍माष्‍टमी की ही तरह पूरे भारत में बड़ी धूमधाम से गणेश चतुर्थी का त्‍योहार मनाया जाता है। ये त्‍योहार भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र भगवान गणेश को समर्पित है। ये त्‍योहार अगस्‍त या सितंबर के महीने में आता है। इस अवसर पर मिट्टी से बनी गणेश जी की मूर्तियों को घर में स्‍थापित किया जाता है और पंडाल लगाएं जाते हैं। सार्वजनिक स्‍थानों पर भी गणेश जी की पूजा की जाती है और 10 दिनों के बाद किसी भी जलाशय, नदी या तालाब में गणेश जी की मूर्ति का‍ विसर्जन कर दिया जाता है।PC:Dave.kaustubh