» »ये हैं भारत के खूबसूरत और आलिशान बगीचे

ये हैं भारत के खूबसूरत और आलिशान बगीचे

Written By: Goldi

भारत प्राकृतिक विविधता का देश है..यहां पर प्रकृति की ऐसी-ऐसी चीजें देखने को मिलती हैं, जिसके बारे में आप सोच भी नहीं सकते हैं। ग्रामीण इलाकों में तो हर जगह हरियाली देखने को मिलती है। सरसों के खेत में लगे पीले-पीले फूल किसी भी व्यक्ति को अपनी खूबसूरती की तरफ आकर्षित कर लेते हैं।

हरियाली, फूल, पेड़-पौधे किसे नहीं पसंद होंगे। सभी की चाहत होती है कि वह जहाँ रहें, उसके आस-पास प्राकृतिक खूबसूरती रहे। लेकिन शहरी क्षेत्रों में यह संभव नहीं है। इसलिए शहरों में खुबसूरत बगीचे बनाए जाते हैं, ताकि लोगों को यह अहसास होता रहे कि वह भी प्रकृति के नजदीक रहते हैं। लोग वहाँ सुबह-शाम टहलने के लिए जाते हैं और बगीचे की खूबसूरती का मजा लेते हैं।

रॅायल अनुभव लेने के लिए, ज़रूर सफर करें इन ट्रेनों पर

तो क्यूँ न इस वेकेशन अपनी फैमिली के साथ सैर की जाए इन खूबसूरत बाग़-बगीचों की। जो भारत के सबसे खूबसूरत बाग़-बगीचों में गिने जाते हैं। जहां सुंदर फूल, पेड़-पौधों के साथ ही पक्षियों की चहचाहट देखने को मिलेगी व सुनने को मिलेगी। कुछ यूँ हैं भारत के खूबसूरत व मशहूर बाग़-बगीचे।

हैंगिंग गार्डन

हैंगिंग गार्डन

मुंबई में बना यह गार्डन बेहद ही खूबसूरत है। यहां पर अलग-अलग तरह के फूल और पौधे लगाए गए है,जो किसी को भी अपनी तरफ आकर्षित कर लेते हैं। यह गार्डन बच्चों के लिए आकर्षण का खास केंद्र है। यहां पर अलग-अलग तरह के फूल और पौधे लगाए गए हैं।PC: A.Savin

निशात बाग, श्रीनगर

निशात बाग, श्रीनगर

इस गार्डन को मुगल शासकों ने 1633-34 ई. में बनवाया था। यह भारत का दूसरा सबसे बड़ा गार्डन है। यह श्रीनगर से 11 किलोमीटर दूर डल झील के पास पूर्वी हिस्से पर बना हुआ है। इस गार्डन में आपको आनंद का एहसास होगा। साथ ही, इस गार्डन से आप डल झील की खूबसूरती को निहार सकते हैं।PC:Aayush191

इंडियन बोटेनिकल गार्डन, कोलकाता

इंडियन बोटेनिकल गार्डन, कोलकाता

हुगली नदी के किनारे बना 270 एकड़ में बना हुआ यह गार्डन पर्यटकों के बीच खासा लोकप्रिय है, इस पार्क में 1700 अलग-अलग तरह के पेड़-पौधे लगाए गए हैं। बोटेनिकल गार्डन ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा 1787 में बढ़ती कमर्शियल एक्टिविटीज और बाजार को देखते हुए बनाया गया था। इसके अलावा, यहां का बर्ड हाउस आकर्षण का केंद्र है। इस गार्डन की सबसे बड़ी विशेषता यह है की यहाँ पर विशव का सबसे चौड़ा बरगद का पेड़ है 144400 वर्ग मीटर में फैला हुआ है।

लोधी गार्डन,दिल्ली

लोधी गार्डन,दिल्ली

यह दिल्ली का सबसे बड़ा और फेमस पार्क है। इस गार्डन को सैय्यद और लोधी ने 16वीं शताब्दी में बनवाया था। इस गार्डन में गुज़रे दौर की कई सारी कब्रें हैं। इस पार्क में मोहम्मद शाह की कब्र, सिकंदर लोधी की कब्र, शीश गुंबद और बारा गुंबद है। साथ ही, यहां 15वीं शताब्दी की वास्तुकला भी देखते बनती है।

बोटेनिकल गार्डन,ऊटी

बोटेनिकल गार्डन,ऊटी

1847 में इस गार्डन को बनवाया गया था। ऊटी में स्थित इस गार्डन में 2000 से ज्यादा विदेशी प्रजाति के पेड़-पौधे पाए जाते हैं। इस गार्डन में हर साल समर फेस्टिवल मनाया जाता है, जिसे देखने के लिए देश के कोने-कोने से लोग इकठ्ठा होते हैं।PC: AmanDshutterbug

वृन्दावन गार्डन, मैसूर

वृन्दावन गार्डन, मैसूर

यह गार्डन मैसूर से 20 कि.मी दूर कृष्णाराज सागर बांध के नीचे बना हुआ है। आपको बता दें यह बगीचा बहुत ही बड़ा है। इसे कश्मीर में स्थित शालीमार गार्डन की तरह ही मुग़ल आर्किटेक्ट के तहत बनाया गया है। फाउंटेन, फूलों की क्यारी, ग्रीन लॉन और हरी घास के चलते यह बगीचा बेहद खूबसूरत लगता है। इस गार्डन को देख कर आपका मन मुग्ध हो जाएगा। इस गार्डन का खास आकर्षण म्यूजिकल और डांसिंग फाउंटेन है। यह लोगों के लिए सुबह और शाम में खुलता है। आज के समय में यह गार्डन पूरी दुनिया में अपनी सुंदरता के लिए फेमस है।PC:Paweł 'pbm' Szubert

सिम पार्क,कुन्नूर

सिम पार्क,कुन्नूर

सिम पार्क तमिलनाडु के हिल स्टेशन कुन्नूर का सबसे बड़ा लैंडमार्क है। सिम पार्क में 1000 विदेशी पेड़-पौधे हैं। फर्न्स, पाइन्स, मंगोलिया और कामेलिया जैसे पुराने और कम पाए जाने वाले पेड़ आपको यहां दिखेंगे। कुन्नूर का यह प्राकृतिक गार्डन है, जहां पर हर साल फ्रूट शो होता है।

पिंजौर गार्डन,चंडीगढ़

पिंजौर गार्डन,चंडीगढ़

चंडीगढ़ के प्रसिद्ध पार्कों में से एक पिंजर बगीचा पपर्यटकों के बीच प्रमुख आकर्षणों में से एक है..इसे स्थानीय लोग यादविन्द्रा गार्डन के नाम से भी जानते हैं। पिंजौर गार्डन में आपको पौराणिक महत्व की कुछ चीजें देखने को मिलेंगी। पौराणिक कथा के अनुसार, अज्ञातवास के दौरान पांडव इस गार्डन में घूमने के लिए आए थे।इस गार्डन में छोटा-सा चिड़ियाघर, नर्सरी और एक सुंदर-सा लॉन है। पिंजौरा गार्डन को रात के समय में कलरफुल लाइट से सजाया जाता है। यहां फाउंटेन भी है। यहां पर टूरिस्ट्स ज़्यादातर रात के समय घूमने के लिए आते हैं।PC:Shahnoor Habib Munmun

Please Wait while comments are loading...