» »अगर है चीते से हकीकत में सामना करने की हिम्मत..तो पहुंच जायें यहां

अगर है चीते से हकीकत में सामना करने की हिम्मत..तो पहुंच जायें यहां

Written By: Goldi

अभी तक हमने और आपने बाघ या शेर को दूर से ही देखा हो, लेकिन आज आज मै आपको अपने आर्टिकल के जरिये उन जगहों या उन वन्यजीव पार्क से रूबरू कराने जा रहीं हूं, जहां आप चीतों या शेरो को बखूबी देख सकते हैं। वैसे,
भारत में 450 से ज़्यादा वन्यजीव अभ्यारण्य, 100 से ज़्यादा राष्ट्रीय उद्यानों, 40 से ज़्यादा बाघ अभ्यारणों के साथ, भारत वण्य जीव प्राणीयों का विश्व में सबसे बड़ा निवास है। हमें चाहिए की अपनी इस विशेषता को बरकरार रख अपनी विशेषता
को और बढ़ाएँ और पशु पक्षी के जीवन कल्याण के साथ अपने जीवन को सवारें।

तो इस सुहाने मौसम में तैयार हो जाइए अपने कैमरों के साथ, वन्य प्राणियों के कुछ खूबसूरत और अद्भुत पलों को क़ैद करने के लिए। निकल पड़िए अपनी सफ़ारी यात्रा में जीवों को और करीब से जानने के लिए। हम दावा करते हैं कि
इस अद्भुत यात्रा के बाद, आपका जीवों के प्रति प्रेम और बढ़ जाएगा। क्लिक कर स्लाइड्स पर डालिए एक नजर...

रणथंबोर राष्ट्रीय उद्यान, राजस्थान

रणथंबोर राष्ट्रीय उद्यान, राजस्थान

शाही राजस्थान में रणथंबोर राष्ट्रीय उद्यान चीते को देखना किसी रोमांचक से कम नहीं है। जो पुराने ज़माने में भारतीय राजाओं का शिकार करने का मुख्य स्थल हुआ करता था। यह भारत की पुरानी धरोहरों में से भी एक है। यहाँ पर निवास करने वाले बाघ पर्यटकों के कैमरे के सामने पोज़ देते हुए मिल जाएँगे। क्यूं है ना यह अभ्यारण्य दिलचस्प?

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान, उत्तराखंड

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान, उत्तराखंड

जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान की सुनहरी यात्रा सन् 1936 से ही आरंभ हो गयी थी जब इसे एशिया का सबसे पहला राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। उसके बाद सन् 1974 में यह सबसे पहला बाघ अभ्यारण्य के रूप में उभर कर सामने आया। सबसे पुराना यह अभ्यारण्य बिल्लियों की एक अनोखी जाति, एक अलग किस्म के बाघों और अन्य जंगली जातियों जैसे फिशिंग बिल्लियाँ, हिमालयी तहर, सीरो, आदि जैसे जीवों के लिए भी विश्व
प्रसिद्ध है। अक्टूबर से फरवरी तक जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क का घूमने का बेस्ट समय है।

बंधवगढ़ नेशनल पार्क, मध्यप्रदेश

बंधवगढ़ नेशनल पार्क, मध्यप्रदेश

मध्य प्रदेश राज्य में स्थित बंधवगढ़ नेशनल पार्क बाघ की आबादी की सबसे बड़ी संख्या के लिए लोकप्रिय है।यहां सैलानियों को जंगली बिल्लियों की जाति यहाँ फोटोज़ क्लिक करवाने के लिए अलग-अलग पोज़ में दिख जाएँगी। यहाँ के जानवर अब मानव हस्तक्षेप के आदि हो गये हैं। यहाँ की आपकी यात्रा शांत और मंत्रमुग्ध कर देने वाली होगी।बंधवगढ़ की यात्रा का सबसे अच्छा समय अक्टूबर और अप्रैल के बीच है।
PC : AJAY CHANDWANI

सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान, पश्चिम बंगाल गंगा डेल्टा में स्थित सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल है। एक बड़े क्षेत्र में फैले हुए, सुंदरबन न केवल रॉयल बंगाल टाइगर का घर है, बल्कि कई लुप्तप्राय जानवरों, पक्षी और जलीय प्रजातियां भी यहां मौजूद है। आपने कभी किसी बाघ को तैरते देखा है? नहीं ना! यहाँ पर आप उन्हें तैरते हुए भी देखेंगे। यहाँ की सैर, बाघों के साथ वो भी पानी में तैरते हुए आपकी सबसे रोचक सैर होगी।

सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान, पश्चिम बंगाल गंगा डेल्टा में स्थित सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल है। एक बड़े क्षेत्र में फैले हुए, सुंदरबन न केवल रॉयल बंगाल टाइगर का घर है, बल्कि कई लुप्तप्राय जानवरों, पक्षी और जलीय प्रजातियां भी यहां मौजूद है। आपने कभी किसी बाघ को तैरते देखा है? नहीं ना! यहाँ पर आप उन्हें तैरते हुए भी देखेंगे। यहाँ की सैर, बाघों के साथ वो भी पानी में तैरते हुए आपकी सबसे रोचक सैर होगी।

गंगा डेल्टा में स्थित सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल है। एक बड़े क्षेत्र में फैले हुए, सुंदरबन न केवल रॉयल बंगाल टाइगर का घर है, बल्कि कई लुप्तप्राय जानवरों, पक्षी और जलीय प्रजातियां भी यहां मौजूद है। आपने कभी किसी बाघ को तैरते देखा है? नहीं ना! यहाँ पर आप उन्हें तैरते हुए भी देखेंगे। यहाँ की सैर, बाघों के साथ वो भी पानी में तैरते हुए आपकी सबसे रोचक सैर होगी।

ताडोबा-अंधारी बाघ अभयारण्य, महाराष्ट्र

ताडोबा-अंधारी बाघ अभयारण्य, महाराष्ट्र

ताडोबा-अंधारी बाघ अभयारण्य, महाराष्ट्र का सबसे पुराना और सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है। इस अभयारण्य का नाम एक महान आदिवासी प्रमुख ताडोबा के नाम पर रखा गया है जो कि बाघ के साथ एक मुठभेड़ में मारा गया था। पार्क के घने जंगलों, मार्शलैंड और झील बाघों और अन्य अति सुंदर प्रजातियों के अस्तित्व और समृद्धि के लिए योगदान दे रहे हैं। इस वन्य जीव पार्क को घूमने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक है।

Please Wait while comments are loading...