Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »मांडवा: राजसी और ग्राम्य जीवन का समागम!

मांडवा: राजसी और ग्राम्य जीवन का समागम!

किसी क्षेत्र की नब्ज़ और गहराई को अच्छी तरह से जानने का सबसे अच्छा तरीका होता है उसके इलाके और स्थानीय संस्कृति के माध्यम से उसे जानना। राजस्थान का मांडवा गाँव भी कुछ इसी प्रकार का क्षेत्र है, जिसे आप तब ही पूरी तरह से जान पाएंगे जब आप उसकी संस्कृति, उसके लोक परम्पराओं, उसकी भाषा को करीब से जानेंगे। राजस्थान के झुनझुन जिले में स्थित मांडवा अपने अतीत की भव्यता को शान से दर्शाता है।

शेखावाटी जिसे एक 'ओपन आर्ट गैलरी' की तरह जाना जाता है, यहाँ स्थित हवेलियों और भित्तिचित्रों के लिए मुख्यतः जाना जाता है। ऐतिहासिक दृष्टि से मांडवा शेखावाटी क्षेत्र का ही भाग है और यह राजस्थान में अपनी खूबसूरत हवेलियों और जीवंत भित्तिचित्रों के लिए प्रसिद्द है। मांडवा को शेखावाटी जनपद में ठाकुर नवल सिंह द्वारा सन् 1755 में बसाया गया था। गुजरात और दिल्ली के मध्य रास्ते में पड़ने वाले इस शहर से पुराने समय में मध्य-पूर्व एशिया और चीन के व्यापारी इसी मार्ग से आते जाते थे जिसकी वजह से यह व्यापार का मुख्य केंद्र बन गया था।

[गुजरात में स्थित रानी की वाव!]

पर समय के साथ-साथ यहाँ के धनी वयापारी दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता जैसे बड़े शहरों की ओर प्रस्थान करने लगे। लेकिन उनहोंने मांडवा में जो हवेलियाँ बनवाई थीं, वे आज भी अपने वैभव से पर्यटकों का मन मोह लेती हैं। इन हवेलियों की चित्रकारी और पच्चीकारी पुरे विश्व भर में प्रसिद्द हैं।

अपनी कई सारी विशेषताओं की वजह से मांडवा 'रेगिस्तान का हीरा' कहलाता है। चलिए आज उन्हीं विशेषताओं के साथ कराते हैं हम आपको मांडवा की आकर्षक सैर!

मांडवा का इतिहास

मांडवा का इतिहास

कहा जाता है कि मांडवा के संस्थापक मांडू जाट नाम के मुखिया थे, जो बाद में शेखावत राजपूतों शासकों के अधीन निखरा। हालाँकि यह नगर सन् 1755 में ठाकुर नवल सिंह के समय में एक महत्वपूर्ण व्यापारिक स्थल के रूप में उभरा।

Image Courtesy: Damien Halleux Radermeck

मांडवा में क्या देखें?

मांडवा में क्या देखें?

मांडवा की चमक हैं, वहां के भित्तिचित्र। इसमें कोई शक नहीं है कि इस शांत नगर में घूमते समय आपको रंगों से और ज़्यादा प्यार हो जायेगा। जगह-जगह पर हवेलियां और उनमें किये गए भित्तिचित्र आपको पूरे सैर के दौरान अपने में बाँधे रखेंगे।

Image Courtesy:Nicolás Pérez

मांडवा में क्या देखें?

मांडवा में क्या देखें?

यहाँ बने हुए भित्तिचित्र उस समय के कारीगरों की कार्य कुशलता को तो दर्शाते ही हैं, इसके साथ साथ यहाँ के राजसी अतीत को भी बखूबी दर्शाते हैं। इन चित्रों में राजस्थान के समृद्ध संस्कृति की साफ झलक दिखाई पड़ती है।

Image Courtesy:Jean-Pierre Dalbéra

मांडवा की हवेलियाँ

मांडवा की हवेलियाँ

जैसा कि यह पुराने समय में वयापार का प्रमुख मार्ग हुआ करता था, कई धनी व्यापारी इस मार्ग से अपना व्यापार किया करते थे। कई तो यहीं बस गए और बड़ी बड़ी हवेलियों का निर्माण करवाया। कई सारी हवेलियों का निर्माण ठाकुर नवल सिंह के शासन राज में हुआ।

Image Courtesy:Nicolás Pérez

मांडवा की हवेलियाँ

मांडवा की हवेलियाँ

लक्ष्मी नारायण हवेली, मोहनलाल सारा हवेली, गोएंका डबल हवेली, बिनसिंधुर नेवतिया हवेली, आदि मांडवा की कुछ हवेलियों में से एक है। इनमें से कुछ अब हेरिटेज होटल में बदल गए हैं, जहाँ शाही तरीके से ठहरने की व्यवस्था है।

Image Courtesy:Daniel VILLAFRUELA

मांडवा की हवेलियाँ

मांडवा की हवेलियाँ

यहाँ की 'सात हवेली' बहुत प्रसिद्द है। शहर में एक पुराना किला और संग्रहालय भी है। संग्रहालय का नाम 'ठाकुर हरिसिंह स्मारक संग्रहालय' है, जिसमे वीर राजपूतों के अस्त्र शस्त्र, पुराने सिक्के, वस्त्र तथा अनेक कलात्मक मूर्तियाँ रखी हुई हैं।

Image Courtesy:Daniel Villafruela.

मांडवा का किला

मांडवा का किला

मांडवा का किला 18 वीं शताब्दी के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। किले में किये गए खूबसूरत भित्तिचित्र पर्यटकों को अपनी ओर अपने सुन्दर तोरण से प्रवेश करने को आकर्षित करते हैं।

Image Courtesy:Dhirad

मांडवा का किला

मांडवा का किला

भगवान कृष्णा और अन्य कई पौराणिक पात्रों के चित्र आप इस किले के अंदर देख सकते हैं। आज मांडवा का किला अपनी असली चमक को बरक़रार रखे हुए एक हेरीटेज होटल के रूप में शान से खड़ा है।

Image Courtesy:Koen

प्रसिद्द शूटिंग लोकेशन

प्रसिद्द शूटिंग लोकेशन

बॉलीवुड ने सबसे कलात्मक तरीके से इस सुन्दर शहर का खूबसूरत इस्तेमाल किया है। जी हाँ, मांडवा कई बॉलीवुड फ़िल्म में दर्शाये गए प्रसिद्द शूटिंग स्थलों में से एक है। बजरंगी भाईजान, लव आजकल, जब वी मेट और हाल ही में रिलीज़ होने वाली मिर्ज़या फिल्म की शूटिंग के कुछ हिस्से इसी खूबसूरत और जीवंत नगर में शूट किये गए हैं।

Image Courtesy:Nicolás Pérez

मांडवा की यात्रा

मांडवा की यात्रा

आपकी मांडवा की यात्रा सबसे यादगार यात्रा होगी जैसा कि यह एक शांत, रंग बिरंगा और ऐतिहासिक नगर है। अगर आपको राजस्थान में असली राजस्थान यानि की राजसी और ग्रामीण जीवन का अनुभव एक साथ पूरी तरह से करना है, तो यही वह जगह है जिसकी आपको तलाश है।

Image Courtesy:Prashant Ram

मांडवा पहुँचें कैसे?

मांडवा पहुँचें कैसे?

राजस्थान में स्थित मांडवा बीकानेर से लगभग 193 किलोमीटर की दूरी पर और जयपुर से लगभग 188 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Image Courtesy:Nicolás Pérez

मांडवा पहुँचें कैसे?

मांडवा पहुँचें कैसे?

बस द्वारा: राजस्थान के प्रमुख शहरों जैसे जयपुर, जोधपुर, और बीकानेर से मांडवा के लिए रोज़ाना बसों की सुविधा उपलब्ध है।

Image Courtesy:Nicolás Pérez

मांडवा पहुँचें कैसे?

मांडवा पहुँचें कैसे?

ट्रेन द्वारा: मांडवा से लगभग 31 किलोमीटर की दूरी पर स्थित नवलगढ़ रेलवे स्टेशन यहाँ का सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन है।

Image Courtesy:Dhirad

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X