» »जाने पूर्वोत्तर भारत के प्रसिद्ध मठ

जाने पूर्वोत्तर भारत के प्रसिद्ध मठ

Written By: Goldi

भारत एक ऐसा देश है,जहां सभी धर्मो का आदर सत्कार किया जाता है..यहां सभी भाई चारे के साथ एक दूसरे से मिलकर प्रेम से वास करते हैं। बात अगर भारत के धर्मों की हो और ऐसे में हम बौद्ध धर्म पर चर्चा न करें तो सारी बात फिर अधूरी रह जाती है। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है।

सत्य के मार्ग से होते हुए अहिंसा पर चलने का पाठ पढ़ाते हैं भारत के ये बौद्ध मठ

अगर ऐतिहासिक साक्ष्यों की माने तो इस धर्म की जड़ें 483 ईसा पूर्व से 563 ईसा पूर्व के मध्य मिलती हैं। इतिहासकारों के लिए इस धर्म की शुरुआत हमेशा से ही कौतुहल का विषय रही है। 

आपको बताते चलें कि बौद्ध धर्म को अड़तीस करोड़ से अधिक लोग मानते हैं और यह दुनिया का चौथा सबसे बड़ा धर्म है। भारत में कई सारे मठ है जोकि हिमालय की तलहटी में स्थित है..मठों का हिमालय में होने का कारण एक यह भी है, क्योंकी यहां एकांत में आत्मिक ध्यान लगाना काफी आसान होता है।

अहिंसा का उपदेश देते हैं भारत के ये टॉप 10 बौद्ध मठ

मठ बौद्ध भिक्षुओं के घर,जो खुद को दुनिया से काट कर भगवान की उपासना करते हैं...हालांकि अब इन मठो को लोगो के लिए भी खोल दिया गया है..इन मठों के चारों ओर के पर्वत "ओम मणि पद्मी हम" के मंत्रों को देखा जा सकता हो यदि आप एक आत्मा की खोज और शांति की तलाश में हैं, तो भारत के उत्तर-पूर्वी हिस्सों में मठों का चयन कर सकते हैं।

रूमटेक मठ

रूमटेक मठ

रूमटेक मठ, रूमटेक में स्थित है जो गंगटोक से 24 किमी. की दूरी पर स्थित है। यह मठ, तिब्‍बती बौद्ध धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक केन्‍द्रों में से एक है। इसे धर्म चक्र केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। यह मठ, समुद्र स्‍तर से 5800 फीट की ऊंचाई पर स्थित है और गंगटोक शहर के समीप ही बना हुआ है। यह मठ तिब्‍बत के बाहर, काग्‍यु वंश के महत्‍वपूर्ण केन्‍द्रों में से एक है। रूमटेक मठ, तिब्‍बत के सुरफू मठ के समान बनवाया गया है। यह मठ चार मंजिला है जो पूरे सिक्किम में सबसे बड़ा मठ है। तिब्‍बत पर चीनी आक्रमण के बाद, तिब्‍बत के ग्‍यालवा कारमापा के 16 वें अवतार अपने कुछ भिक्षुओं के साथ यहां आकर बस गए। इसके बाद, चोग्‍याल ने रूमटेक के इस क्षेत्र को इन भिक्षुओं को तोफहे के रूप में दे दिया था, जिसे बाद में धार्मिक अध्‍ययन के लिए एक केन्‍द्र बना दिया गया था।PC: dhillan chandramowli

तवांग मठ

तवांग मठ

तवांग मठ भारत का सबसे बड़ा और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा मठ है। इसकी स्थापना मेराक लामा लोड्रे ने 1860-1861 में की थी। तवांग जिले के बोमडिला से यह मठ 180 किमी दूर है। समुद्र तल से 10 हजार फीट की ऊंचाई पर एक पहाड़ पर स्थित इस मठ को गालडेन नमग्याल लहात्से के नाम से भी जाना जाता है।PC:Giridhar Appaji Nag Y

बोमिडला मठ

बोमिडला मठ

जहाँ बौद्ध लामा और भिक्षु रहते हैं, जी.आर.एल मठ के नाम से भी प्रसिद्ध है। इसे महायान बौद्ध धर्म की लामाई आस्था का प्रमुख केंद्र भी माना जाता है। जी.आर.एल मठ अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी कामेंग जि़ले में स्थित है और इसे 1965-66 में त्सोना गोंटसे रिनपोछे के 12वें अवतार द्वारा बनवाया गया था। मुख्य गोम्पा की तीन डिवीज़नें हैं- लोअर गोम्पा, मध्य गोम्पा और ऊपरी गोम्पा। ऊपरी गोम्पा को मुख्य मठ माना जाता है। लोअर गोम्पा तिब्बती वास्तुकला की समृद्धि को दर्शाते हुए मुख्य बाज़ार के अंत में स्थित है।PC:Chaduvari

लिंग्दम मठ

लिंग्दम मठ

लिंग्दम मठ गंगटोक शहर से लगभग 20 किमी स्थित है और पूर्व सिक्किम में सबसे सुंदर मठों में से एक है। यह मठ एक विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है जो महान प्राकृतिक दृश्य प्रदान करता है। जब आप यहां आएँगे तो यहां आपको एक बिलकुल नया कल्चर देखने को मिलेगा जिसको देखने के बाद आपको ये एहसास होगा कि आप तिब्बत में हैं।PC:Arpan Mahajan

फोदोंग मठ

फोदोंग मठ

फोदोंग मठ गंगटोक से 28 किमी दूर स्थित है, इस मठ का निर्माण 18 वीं सदी की शुरुआत में किया गया था। इस मठ के निर्माण के दौरान सिक्किम के 9 वें कर्मपा ने तीन और मठो की स्थापना की थी-रुमेटेक, फोडोंग और रलांग जिसमें से रमटेक जिनमे से रूमटेक सबसे महत्वपूर्ण है।

PC: dhillan chandramowli

एंचे मठ

एंचे मठ

एंचे मठ सिक्किम की राजधानी गंगटोक में एक ऊँची पहाड़ी पर स्थित है।इसका निर्माण 1 9 0 9 में थुतोब नामग्याल के शासनकाल के दौरान हुआ था। एन्केई एकांत के लिए अनुवादित है; किंवदंतियों के अनुसार, गुरु पद्मसंभव को यहां खांगेन्दांगों, यब्बियन और महाकाल की आत्माओं को मिलाया था।PC:Kothanda Srinivasan

दुर्पिन मठ

दुर्पिन मठ

दुर्पिन मठ कालिंपांग का सबसे बड़ा मठ है..यह मठ तिब्बती बेहद पुराना है जोकि 108 संस्करणों में शामिल हैं। ये पांडुलिपियां दलाई लामा ने 1 9 56 में कालींपोंग की यात्रा के दौरान उपहार में दी थी और 1 9 76 में दलाई लामा ने इस मठ की स्थापना की थी।PC: Joydeepkarar

Please Wait while comments are loading...