• Follow NativePlanet
Share
» »भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

Written By: Staff

भारत अनेकों मंदिरों से घिरा हुआ है, यहाँ चारों और भगवान, देवी के मंदिर ही मंदिर हैं। जिनकी अपनी विशेषतायें हैं। बेहद अद्भुत लगता है दृश्य जब भक्त भगवान व देवी के चरणों में शरण मांगते हैं। वाकई यह आस्था का अनूठा संगम है जहाँ भगवान व् देवी के दर्शन के लिए दूर दूर से लोग, हर परेशानी को हरा के यहाँ पहुँचते हैं। साथ ही भगवान के दरबार में हाज़िरी भी लगाते हैं।

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

दुर्गा जी के म‍ंदिरों का कीजिये दर्शन
Photo Courtesy: Abhijit Kar Gupta

तो दोस्तों मैं अपने इस आर्टिकल में दुर्गा देवी के 5 मंदिरों के बारे में बता रही हूँ। जहाँ का वातावरण बेहद अद्भुत है और जो पूरे विश्व में अपनी अलग पहचान रखते हैं। दुर्गा माता पार्वती का दूसरा नाम है, जो भगवान शिव की पत्नी माता पार्वती का दूसरा रूप मानी जाती हैं। माना जाता है कि माता दुर्गा देवी की उत्पत्ति राक्षसों का वध करने के लिए हुई थी। तो दोस्तों जानिये परमशक्ति दुर्गा देवी के मंदिरों के बारे में। जहाँ दुर्गा देवी के दर्शन के लिए आप अवश्य आएं।
पढ़ें:वो धनुषकोडी, जहां रामसेतु का निर्माण कर भगवान श्रीराम माता सीता को लाने गए लंका

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

नैना देवी मंदिर
Photo Courtesy: Vipin8169

नैना देवी मंदिर

ऐसा माना जाता नैनीताल का नाम नैना देवी मंदिर के ऊपर ही रखा गया है। जो अपनी परामर्श शक्ति और लोकप्रियता के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दो नैन हैं जो नैना देवी के माने जाते हैं, यह मंदिर नैना देवी को समर्पित है। इस मंदिर में सती के शक्ति रूप की पूजा होती है। कहा जाता है कि जब भगवान शिव सती के मृत शरीर को लेकर जब कैलाश पर्वत जा रहे थे तब इसी रास्ते में देवी सती के नेत्र गिरे थे। इसीलिए इस जगह पर इन मंदिर की स्थापना की गई थी।
पढ़ें:नैनीताल का नैना देवी मंदिर, जहां गिरे थे माता सती के दो नयन

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

कामाख्या देवी मंदिर
Photo Courtesy: Kunal Dalui

कामाख्या देवी मंदिर

गुवाहाटी से तक़रीबन 8 किलोमीटर दूर कामाख्या में यह मंदिर स्तोत है जो असम की राजधानी दिसपुर के पास है। यह मंदिर शक्ति की देवी सती का मंदिर है, जिससे विशाल तांत्रिक महत्त्व जुड़ा हुआ है। यह मंदिर नीलाचल पर्वत पर बना हुआ है। वर्तमान में यह तंत्र सिद्धि का सर्वोच्च स्थल माना जाता है। यह हिन्दू धर्म के अनुसार 51 शक्तिपीठ में से एक है और सबसे महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों में गिना जाता है। इस मंदिर की अपनी अनेक विशेषतायें हैं जो अपने आश्चर्यों से भक्तों को आश्चर्य कर देती हैं। अगर आप भी इस मंदिर के आश्चर्यों को अपने अपनी आँखों से देखना चाहते हैं तो यहाँ अवश्य आएं।
पढ़ें:कामाख्या देवी मंदिर : जहां गिरी थी माँ सती की योनि, लगता है तांत्रिकों और अघोरियों का मेला

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

करणी माता का मंदिर
Photo Courtesy: Magnus Manske

करणी माता मंदिर

राजस्थान के ऐतिहासिक शहर बीकानेर से तक़रीबन 30 किलोमीटर दूर एक छोटा सा गांव देशनोक की सीमा पर यह अद्भुत मंदिर स्थित है, जो जोधपुर के सड़क मार्ग पर ही पड़ता है। इस मंदिर के करामाती आश्चर्य इसे देवी के भक्तों के बीच खासा लोकप्रिय बनाते हैं। इस मंदिर को चूहे वाला मंदिर के नाम से भी जानते हैं।

इस मंदिर में हज़ारों लाखों चूहों को देख भक्त दंग रह जाते हैं। इसकी ख़ास बात यह है कि इतने चूहे होने के बावजूद यहाँ कोई महामारी का खतरा नहीं होता। अनेकों भक्तों का मत है कि करनी माता साक्षात दुर्गा देवी का अवतार थीं, जो यहाँ तक़रीबन साढ़े सात सौ वर्ष पूर्व यहाँ पर बनी एक गुफा में रहकर अपने इष्ट देव की पूजा किया करती थीं। इसलिए यहाँ यह भव्य मंदिर स्थापित किया गया था।
पढ़ें:वसंत नवरात्रि स्पेशल : दुर्गा मंदिर, जहां खुद प्रकट हुई मां की मूर्ति

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

अधर देवी मंदिर
Photo Courtesy: Selmer van Alten

अधर देवी मंदिर (अर्बुदा देवी)

राजस्थान का एक मात्र खूबसूरत हिल स्टेशन माउंट आबू जितना की अपनी खूबसूरती और ठंडी जलवायु के लिए जाना जाता है उतना ही यह अधर देवी मंदिर के लिए भी विश्व प्रसिद्ध है। अधर देवी दुर्गा के नौ रूपों में से एक कात्यायनी का रूप हैं। जो देश की 52 शक्तिपीठों में छठा शक्तिपीठ में गिना जाता है। जहाँ भगवान शिव के तांडव के समय माता पार्वती का अधर यहीं गिरा था।

यह मंदिर तीन नामों से जाना जाता है- अर्बुदा देवी,अधर देवी और अम्बिका देवी। कहा जाता है कि यह मंदिर साढ़े पांच साल पुराना है। चूँकि यहाँ माता पार्वती था इसलिए इसका नाम अधर पड़ गया। ऐसा माना जाता है की जब भगवान शिव ने माता पार्वती के शरीर पर तांडव किया था तब उसी दौरान माता पार्वती के होंठ इसी स्थल पर गिरे थे।
पढ़ें:कश्मीर से लेके कन्याकुमारी तक जानें कहां कहां है 'मां दुर्गा' के अलग अलग मंदिर

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

दुर्गा देवी का भव्य मंदिर
Photo Courtesy: Henk Kosters

दुर्गा मंदिर

वाराणसी का यह भव्य मंदिर माता दुर्गा को समर्पित है। माना जाता है की यह मंदिर 18 वीं शताब्दी में निर्माण गया था जिसे बंगाल की एक रानी ने बनवाया था। इस मंदिर में एक दुर्गा कुण्ड है जो इस मंदिर का अहम हिस्सा है। नवरात्र में यह मंदिर देखने योग्य होता है। इस मंदिर की साज-सज्जा ऐसी होती है जैसे मानों नई नवेली दुल्हन हो। यहाँ आप दुर्गा देवी का आशीर्वाद और देवी के दरबार में हाज़िरी लगाने के लिए आ सकते हैं। जहाँ देवी खुद कामनाएं सुनती हैं।
पढ़ें:अस्सी घाट : यहां शुम्‍भ - निशुम्‍भ के वध के बाद मां दुर्गा ने फेंकी थी अपनी तलवार

भारत के 5 विश्व प्रसिद्ध दुर्गा देवी मंदिर

दुर्गा देवी के अवतार
Photo Courtesy: Jonoikobangali

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स