» » महाराष्ट्र का ऐसा किला जिसे कभी कोई नहीं जीत सका..जाने क्यों

महाराष्ट्र का ऐसा किला जिसे कभी कोई नहीं जीत सका..जाने क्यों

Written By: Goldi

अगर आपको ऐतिहासिक किले देखने का उनके बारे में जाने का शौक है तो आपको एक बार अपने जीवन में मुरुद-जंजीरा किला की सैर जरुर करनी चाहिए । यह एक ऐसा किला है जिसे कभी कोई नहीं जीत सका। इस किले की बनावट ऐसी है कि इस पर कब्जे के लिए कई बार हमले हुए लेकिन कोई भी इस किले के अंदर घुस नहीं सका।

अगर इतिहास में है दिलचस्पी तो सैर करें भारत की 500 साल पुरानी ऐतिहासिक इमारतों की

मुरुद-जंजीरा किला महाराष्ट्र राज्य के रायगड जिले के तटीय गाँव मुरुड में स्थित है। यह भारत के पश्चिमी तट का एक मात्र किला हैं, जो की कभी भी जीता नहीं गया। यह किला 350 वर्ष पुराना है।

अमर प्रेम की ऐतिहासिक निशानियाँ

यह किला समुद्र तल से 90 फीट ऊंचा है। इसकी नींव 20 फीट गहरी है। यह किला सिद्दी जौहर द्वारा बनवाया गया था। इस किले का निर्माण 22 वर्षों में हुआ था। यह किला 22 एकड़ में फैला हुआ है। इसमें 22 सुरक्षा चौकियां है। ब्रिटिश, पुर्तगाली, शिवाजी, कान्‍होजी आंग्रे, चिम्‍माजी अप्‍पा तथा शंभाजी ने इस किले को जीतने का काफी प्रयास किया था, लेकिन कोई सफल नहीं हो सका। इस किले में सिद्दिकी शासकों की कई तोपें अभी भी रखी हुई हैं।

मुरुद-जंजीरा किला

मुरुद-जंजीरा किला

मुरुद-जंजीरा किला का निर्माण सिद्दी जौहर द्वारा ने करवाया था..इस किले की बनावट ऐसी है,कि इस पर किसी भी दुश्मन ने चड़ाई की लेकिन कभी भी कोई भी दुश्मन इस किले को जीत ना सका।PC:Damitr

बेहद पुराना है किला

बेहद पुराना है किला

40 फीट ऊंची दीवारों से घिरा ये किला अरब सागर में एक आइलैंड पर है।इसका निर्माण अहमदनगर सल्तनत के मलिक अंबर की देखरेख में 15 वीं सदी में हुआ था। बता दे, यह किला 350 वर्ष पुराना है। इसकी नींव 20 फीट गहरी है।PC:Pmohite

कुल तीन दरवाजे हैं किले में

कुल तीन दरवाजे हैं किले में

जंजीरा किले का परकोटा बहुत ही मजबूत है, जिसमें कुल तीन दरवाजे हैं। दो मुख्य दरवाजे और एक चोर दरवाजा। मुख्य दरवाजों में एक पूर्व की ओर राजापुरी गांव की दिशा में खुलता है, तो दूसरा ठीक विपरीत समुद्र की ओर खुलता है। चारों ओर कुल 19 बुर्ज हैं। प्रत्येक बुर्ज के बीच 90 फुट से अधिक का अंतर है।PC:Nilesh3 str

चारो और रखी जाती थी तोपें

चारो और रखी जाती थी तोपें

किले के चारों ओर 500 तोपें रखे जाने का उल्लेख भी कहीं-कहीं मिलता है। इन तोपों में कलाल बांगड़ी, लांडाकासम और चावरी ये तोपें आज भी देखने को मिलती हैं।PC: Damitr

चंद कदम की दूरी के बाद दिखना बंद हो जाता है किला

चंद कदम की दूरी के बाद दिखना बंद हो जाता है किला

मुरुद-जंजीरा किले का दरवाजा दीवारों की आड़ में बनाया गया है। जो किले से कुछ मीटर दूर जाने पर दीवारों के कारण दिखाई देना बंद हो जाता है। यही वजह रही है कि दुश्मन किले के पास आने के बावजूद चकमा खा जाते हैं और किले में घुस नहीं पाते हैं।PC:Marathe2002

किले के अंदर बसा था पूरा शहर

किले के अंदर बसा था पूरा शहर

बताया जाता है कि,पुराने समय में किले के अंदर एक पूरा का पूरा शहर बसा हुआ था...राजपाठ खत्म होने के बाद सारी बस्ती वहां से पलायन कर गई। इस किले पर 20 सिद्दी शासकों ने राज किया। अंतिम शासक सिद्दी मुहम्मद खान था, जिसका शासन खत्म होने के 330 वर्ष बाद 3 अप्रैल 1948 को यह किला भारतीय सीमा में शामिल कर लिया गया।PC: Damitr

मीठे पानी की झील

मीठे पानी की झील

यह किला समुद्र के काफी नजदीक स्थित है बावजूद किले में मीठे पानी की झील स्थित है..इस बात का रहस्य आज तक कोई पता नहीं लगा सका कि, आखिर ये मीठा पानी आता कहां से है।PC: Damitr

शाह बाबा का मकबरा

शाह बाबा का मकबरा

इसमें एक शाह बाबा का मकबरा भी है। अरब सागर में स्थित यह किला समुद्र तल से 90 फीट ऊंचा है। इतिहास में यह किला जंजीरा के सिद्दीकियों की राजधानी के रूप में प्रसिद्ध है।PC: Marathe2002

जंजीरा का किला जाने के लिए

जंजीरा का किला जाने के लिए

जंजीरा का किला जाने के लिए ऑटोरिक्‍शा से मुरुड से राजपुरी जाना होता है। यहां से नाव द्वारा जंजीरा का किला जाया जा सकता है। एक व्‍यक्‍ित का नाव का किराया 12 रु. है। समय: सुबह 7 बजे से शाम 6 से 7 के बीच। यह किला शुक्रवार को दोपहर से 2 बजे तक बंद रहता है।PC:Abhijit.naohate

कैसे पहुंचे

कैसे पहुंचे

हवाईजहाज द्वारा
मुरुद से सबसे नजदीक मुंबई एयरपोर्ट है, जो यहां से 165 किमी दूर है। मुंबई के लिए सभी बड़े शहरों से फ्लाइट्स हैं।

ट्रेन द्वारा
पनवेल स्टेशन मुरुद से सबसे नज़दीक है, जो यहां से 122 किमी दूर है। यहां से आप अलीबाग के लिए बस ले सकते हैं। स्टेट ट्रांसपोर्ट की कई बसें आपको स्टेशन से आसानी से मिल जाएगी।

सड़क द्वारा
मुरुद जाने के लिए आपको महाड़ जाना पड़ेगा आप पुणे और मुंबई से बस लेकर यहां तक जा सकते हैं।PC: Shivam S

 

Please Wait while comments are loading...