Search
  • Follow NativePlanet
Share
» »पति प्रेम की निशानी, रानी सती मंदिर!

पति प्रेम की निशानी, रानी सती मंदिर!

भारत मंदिरों का खज़ाना है, देवी देवताओं से लेकर जानवरों तक को यहाँ के मंदिर समर्पित हैं। यहाँ तक कि कई ऐसे भी मंदिर हैं जहाँ बाइकों(गाड़ियों) की पूजा की जाती है। ऐसी ही कुछ खास और अद्वितीय मंदिरों की तलाश करते हुए चलिए आज हम चलते हैं ऐसे मंदिर के दर्शन करने जो राजस्थान की एक महिला को समर्पित है।

[ज़रा संभल कर जाइयेगा किराडू मंदिर के दर्शन करने, कहीं आप पत्थर के न बन जाएँ!]

जी हाँ, आज हम यहाँ बात करेंगे ऐसे मंदिर की जो एक महिला को समर्पित है और यह राजस्थान में स्थित है। राजस्थान के झुनझुनु जिले में स्थित यह भारत के ऐसे मंदिरों में से एक है जो मनुष्यों को समर्पित है। इस अद्वितीय मंदिर का नाम एक राजस्थानी महिला, रानी सती के नाम पर पड़ा जो 13वीं से 17 वीं सदी तक यहाँ रहीं। जब रानी सती ने अपने पति के मरने के बाद सती प्रथा को अपनाते हुए आत्मदाह कर लिया तब वहां के लोगों ने उनको समर्पित इस मंदिर कर निर्माण किया। रानी सती को नारायणी नाम से भी जाना जाता है और प्यार से लोग उन्हें दादीजी भी कहते हैं।

[जयपुर-पुष्कर-उदयपुर, रोड ट्रिप!]

आइये आज हम चलते हैं ऐसे ही पवित्र और अद्वितीय मंदिर के दर्शन करने।

मंदिर की पौराणिक कथा

मंदिर की पौराणिक कथा

मंदिर के अस्तित्व की कहानी महाभारत के समय में हमें ले जाती है। ऐसा कहा जाता है कि नारायणी की इच्छा थी अभिमन्यु से विवाह करने की जिसे भगवान श्रीकृष्ण ने आशीर्वाद देते हुए दोनों के अगले जन्म में पूरा किया।

Image Courtesy:Ankit Sihag

मंदिर की पौराणिक कथा

मंदिर की पौराणिक कथा

उस समय हिसार का राजा जो अभिमन्यु के घोड़े को जीतना चाहता था, उसने अपने पुत्र को अभिमन्यु से युद्ध करने के लिए भेजा ताकि वह उस युद्ध में उस घोड़े को जीत कर ला सके। उस युद्ध में राजा के बेटे को अभिमन्यु ने मार डाला और विजय प्राप्त की। गुस्से में राजा ने नारायणी के आँखों के सामने अभिमन्यु की हत्या कर दी।

Image Courtesy:Ankit Sihag

मंदिर की पौराणिक कथा

मंदिर की पौराणिक कथा

नारायणी, जो महिला शक्ति और बहादुरी की प्रतीक थीं, उसने उस राजा से लड़ाई की और उसे मार डाला। इसके बाद उन्होंने राणा जी, घोड़े के रखवाले को आदेश दिया कि उनके पति के अंतिम संस्कार के साथ उनकी भी आत्मदाह की तैयारी की जाये।

Image Courtesy:Guptaele

मंदिर की पौराणिक कथा

मंदिर की पौराणिक कथा

सती के प्रति वफादार होने के नाते, राणाजी को आशीर्वाद प्राप्त हुआ कि पूजा में सती के नाम के साथ उनका भी नाम लिया जायेगा। इसलिए तब से उन्हें रानी सती कहा जाने लगा।

Image Courtesy:Ankit Sihag

मंदिर के प्रति लोक मान्यता

मंदिर के प्रति लोक मान्यता

राजस्थान के स्थानीय लोगों का दृढ़ विश्वास है कि रानी सतीजी, स्त्री शक्ति की प्रतीक और मां दुर्गा का अवतार थीं। उन्होंने अपने पति के हत्यारे को मार कर बदला लिया और फिर अपनी सती होने की इच्छा पूरी की।

Image Courtesy:Guptaele

मंदिर के प्रति लोक मान्यता

मंदिर के प्रति लोक मान्यता

रानी सती मंदिर भारत के सबसे अमीर मंदिरों में से एक है। वैसे अब मंदिर का प्रबंधन सती प्रथा का विरोध करता है। मंदिर के गर्भ गृह के बाहर बड़े अक्षरों में लिखा है- हम सती प्रथा का विरोध करते हैं।

Image Courtesy:Akash0609

मंदिर की वास्तुशैली

मंदिर की वास्तुशैली

यह मंदिर मुख्यतः इस लिए भी जाना जाता है क्यूंकि यहाँ किसी भी देवी देवता की कोई भी छवि या चित्र नहीं है। बस मंदिर के मुख्य कक्ष में रानी सती की एक तस्वीर लगी हुई है और बाकि मंदिर की सारी दीवारें रंग बिरंगे चित्रों से सजी हुई हैं। पूरे मंदिर की रचना संगमरमर के पत्थर की बनी हुई है।

Image Courtesy:Guptaele

मंदिर की वास्तुशैली

मंदिर की वास्तुशैली

मंदिर परिसर के अंदर अन्य मंदिर भी स्थापित हैं जिनमें भगवान हनुमान, गणेश भगवान, सीता माता और शिव जी की पूजा की जाती है। मंदिर परिसर में षोडश माता का सुंदर मंदिर है, जिसमें 16 देवियों की मूर्तियां लगी हैं। परिसर में सुंदर लक्ष्मीनारायण मंदिर भी बना है।

Image Courtesy:Guptaele

मंदिर की वास्तुशैली

मंदिर की वास्तुशैली

मंदिर कई भित्ति चित्रों और अन्य चित्रों से भरा हुआ है जो उस जगह के इतिहास को बखूबी दर्शाते हैं। मंदिर परिसर के बिल्कुल केंद्र में शिव जी की एक बड़ी सी प्रतिमा स्थापित है जो चारों ओर बगीचे से घिरा हुआ है।

Image Courtesy:Guptaele

रानी सती मंदिर पहुँचें कैसे?

रानी सती मंदिर पहुँचें कैसे?

राजस्थान का झुनझुनु क्षेत्र अन्य मुख्य शहरों जैसे, दिल्ली, जयपुर,जोधपुर और बीकानरे के सड़क मार्गों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। शहरों से झुनझुनु तक के लिए कई ट्रेन सुविधाएं भी उपलब्ध हैं।

यहाँ का सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा जयपुर में है जो यहाँ से लगभग 184 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

Image Courtesy:Guptaele

तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X