• Follow NativePlanet
Share
» »भारत में इन शहरों में देख सकते हैं मुगल कला की झलक

भारत में इन शहरों में देख सकते हैं मुगल कला की झलक

Posted By: Namrata Shatsri

 भारतीय उपमहाद्वीपीय के विकास की कहानी अलग-अलग कालखण्डों से होकर गुजरती है। प्राचीन काल से लेकर मध्ययुग, भारत के विभिन्न राजा-रजवाड़ों के नाम रहा है। यहां तक की भारतीय भूमि बाहरी शक्तियों का भी प्रभाव झेल चुकी है। यहां अंग्रेजों से लेकर अफगानी शासकों तक ने राज किया है।

भारत पर राज करने वाले मुगलों का दौर काफी लंबा बताया जाता है। जिन्होंने लूटपाट मचाने के साथ-साथ कई ऐतिहासिक धरोहरों से भारत को आबाद भी किया है। भारत में ब्रिटिशों के आने तक लगभग 300 सालों तक मुगलों का शासन रहा। भारत के अधिकांश शहरों में आप मुगल साम्राज्‍य की झलक देख सकते हैं। इस लेख के जरिए आज हम आपको मुगल दौर की वास्तु व शिल्पकला से रूबरू कराने जा रहे हैं। 

फिल्म 'मणिकर्णिका' की शूटिंग लोकेशन 

आगरा

आगरा

दुनिया के सात अजूबों में से एक ताज महल है, जोकि यूपी के आगरा में स्थित है। मुगल काल के दौरान आगरा महत्‍वपूर्ण जगहों में से एक था । बाबर द्वारा यमुना नदी के तट पर खोजा गया आगरा मुगलों की पहली राजधानी बना। आगरा को अकबराबाद के नाम से भी जाना जाता है। क्‍योंकि यहां महान बादशाह अकबर की हुकूमत भी चलती थी। मुगल काल के दौरान आगरा में कई खूबसूरत इमारतें बनाई गईं थी। मुगलों और भारत के इतिहास को जानने के लिए आप इस ऐतिहासिक स्थल की सैर कर सकते हैं। आगरा के प्रमुख स्‍थलों में ताज महल, लाल किला, अकबर का मकबरा, दीवान ए खास आदि हैं।

फतेहपुर सीकरी

फतेहपुर सीकरी

भारत के आगरा जिले में स्थित शानदार शहर है फतेहपुर सीकरी। जो वास्‍तुकला का बेहद खूबसूरत उदाहरण माना जाता है। सन् 1571 से 1585 तक बादशाह अकबर के काल में फतेहपुर सीकरी मुगलों की राजधानी हुआ करता था। माना जाता है कि अकबर की गुजरात पर जीत और पुत्र प्राप्ति की खुशी में इस शहर को बनवाया गया था। इसलिए इस शहर को जीत का शहर यानि 'फतेहपुर सीकरी' नाम दिया गया। आज ये शहर भारत के सबसे लो‍कप्रिय पर्यटन स्‍थलों में से एक है, जिसे यूनेस्‍को द्वारा विश्‍व धरोहर घोषित किया जा चुका है। यहां के प्रमुख दर्शनीय स्‍थलों में बुलंद दरवाज़ा, पंच महल, जामा मस्जिद शामिल हैं।

शाहजहानाबाद

शाहजहानाबाद

1638 में बने शाहजहानाबाद को शाहजहां के शासनकाल में मुगलों की राजधानी बनाया गया था। 1857 तक इस शहर को मुगलों की राजधानी के रूप में रखा गया। जिसके बाद ब्रिटिशों ने इस शहर का पूरी तरह से काया पलट कर दिया। आज शाहजहानाबाद पुरानी दिल्‍ली का एक हिस्‍सा है और यहां मुगल काल की कई ऐतिहासिक इमारतें मौजूद हैं। अगर आप मुगल काल के अंतिम दौर और इसके शासकों को करीब से जानना चाहते हैं तो आपको शाहजहानाबाद जरूर आना चाहिए। जामा मस्जिद से लेकर लाल किले और जीनत महल से लेकर चांदनी चौक तक, शाहजहानाबाद में पर्यटकों के लिए सब कुछ है।

Pc:Tim Moffatt

लाहौरा ( आज का पाकिस्‍तान )

लाहौरा ( आज का पाकिस्‍तान )

मुगलों के शासनकाल के दौरान जब अकबर बादशाह बने तो उन्‍होंने लाहौर को अपनी राजधानी बनाया। उनके द्वारा बनाई गई कुछ इमारतें आज भी यहां मौजूद हैं जबकि कुछ नष्‍ट कर दी गई हैं। 1584 से 1598 तक लाहौर मुगलों की राजधानी रहा है। इसके बाद अकबर के पोते शाहजहां ने शाहजहानाबाद को मुगलों की राजधानी बना दिया था। आज ये दुनिया की अल्‍फा सिटीज़ में से एक है और इसे पाकिस्‍तान के प्रमुख शहरों में से एक माना जाता है। साथ ही यह शहर पाकिस्‍तान में राजनीतिक और ऐतिहासिक महत्‍व भी रखता है। लाहौर में प्रमुख आकर्षक स्‍थल लाहौर का किला, वजीर खान मस्जिद, जहांगीर का मकबरा, शाही हमाम आदि हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स