» »अब लॉन्ग वीकेंड पर नहीं होगी बोरियत..क्योंकि ये खूबसूरत हॉलिडे डेस्टिनेशन कर रही हैं आपका इंतजार

अब लॉन्ग वीकेंड पर नहीं होगी बोरियत..क्योंकि ये खूबसूरत हॉलिडे डेस्टिनेशन कर रही हैं आपका इंतजार

Written By: Goldi

भारत की राजधानी दिल्ली से पांच घंटे की दूरी पर स्थित जयपुर विश्वविखाय्त शहर है..कारण है शहर की शाही विरासत और वास्तुकला, राजसी किलों और महलों, जीवंत संस्कृति और जीवन शैली और दीवारों शहर के गुलाबी लाल रंग सुंदरता।

जोधपुर के मेहारानगढ़ किले की राजसी यात्रा!

हर साल हजारो की तादाद में देशी समते विदेशी पर्यटक जयपुर घूमने पहुंचते हैं, लेकिन क्या जयपुर वासी भी हर छुट्टी में सिर्फ जयपुर ही घूमते होंगे...शायद नहीं। अगर आप जयपुर के हैं या फिर अभी अभी जयपुर शिफ्ट हुए हैं और वहीं नाहरगढ़ का किला, आमेर का किला घूम-घूमकर बोर हो चुके हैं..तो हम आपको बतायेंगे जयपुर के आसपास स्थित कुछ बेहद ही खूबसूरत वीकेंड और लॉन्ग वीकेंड डेस्टिनेशन के बारे..जहां जाकर आप अपनी छुट्टियों को बेहद शानदार बना सकते हैं।  

चोमू

चोमू

राजस्थान की राजधानी जयपुर से करीब 33 किमी की दूरी पर चौमू एक ऐतिहासिक विरासत है। यह जयपुर के NH11 के माध्यम से जाने पर यहां का सफर सिर्फ 55 मिनट लगते है यहाँ पर सबसे अधिक 300 साल पुराना चौमू पैलेस है जो आजकल एक होटल के रूप में जाना जाता है। यह होटल एक ऐतिहासिक है यह उस समय के राजपूत राजाओं की भव्य जीवन शैली को दर्शाता है और यह सारी आधुनिक सुविधाएं प्रदान करता है। चौमू महल की सैर करते हुए आप पारंपरिक राजस्थानी खाना डाल बाटी चूरमा और ऊंट की सवारी का लुत्फ उठा सकते हैं। सन्डे और वीकेंड्स में आप यह ट्रिप अपने फैमिली और दोस्तों के साथ एन्जॉय कर सकते हैं।

माधोगढ़

माधोगढ़

राजधानी जयपुर से 42 किमी की दूरी पर स्थित माधोगढ़ जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग 11 (NH11) पर स्थित है। वीकेंड के दौरान आप यहां की ट्रिप प्लान कर सकते हैं..यहां देखने के लिए ऐतिहासिक किला है जिसे अब हेरिटेज होटल में तब्दील कर दिया गया है । माधोगढ़ की आप यात्रा करेगे तो आपको यहां पर बहुत घने जंगल देखने को मिलेंगे और यहां पर खेत है जिसमे एक बार लड़ाई हुई थी यह युद्ध तुंगा युद्ध के लिए जाना जाता है।

दौसा

दौसा

जयपुर से 60 किमी की दूरी अपर स्थित दौसा के पास स्थित मेहंदीपुर बालाजी के दर्शन किये जा सकते हैं...यह भारत का एक धार्मिक स्थल है यहां पर भूत भगाने के द्रश्य को आप अपनी आखों से देख सकते हो। इस मंदिर को बुरी आत्माओ से भरा होने के लिए जाना जाता है। जबकि कुछ लोगो का मानना है कि भूत भगाने का द्रश्य यहां देखा जाता है दूसरी जगह नही। फिर भी हजारों श्रद्धालु इस मंदिर में अपने प्रियजनों को बुरी आत्माओं और भूतों के कब्जे से मुक्त कराने के लिए हर दिन की यात्रा करते है।PC:Seoduniya,pramod kumar gupta,

सांभर

सांभर

जयपुर से सांभर 70 किमी की दूरी पर स्थित सांभर झील को नमक की सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण झील के रूप में जाना जाता है। यहां पर इसके अलावा पवित्र देवयानी टैंक, महल के पास नलियासर में पुरातात्विक खुदाई और शाकम्बरी मंदिर इस जगह के अन्य आकर्षक केंद है। यहां आप ढेर सारे प्रवासी पक्षियों को देख सकते हैं।PC: nevil zaveri

विराटनगर

विराटनगर

विराटनगर एक नवोदित पर्यटन स्थल है, जो बैराट नाम से भी लोकप्रिय है। 'विराटनगर' नाम वापस से हमें महाभारत के दौर की ओर ले जाता है।पौराणिक कथा के अनुसार इस जगह की खोज राजा विराट ने की थी, जिनके राज्य में पांडवों ने एक साल की गुप्त निर्वासन अवधी बितायी थी। तो चलिए आज इसी पौराणिक विचित्र रचना के बारे में और अवलोकन करते हैं। यह जगह धार्मिक यात्रा के रूप में घूमने के लिए अच्छा विकल्प है यहां पर एक परिपत्र बौद्ध मंदिर है, जो भारत की प्राचीनतम ज्ञात संरचनात्मक मंदिर माना जा रहा है इसकी खुदाई में घरों के अवशेष मिले है। यहां पर कई बौद्ध मठों और जैन मंदिर भी है।PC: Raonaresh

 आभानेरी

आभानेरी

यह जयपुर से 80 किमी की दूरी पर स्थित आभानेरी राजस्थान का एक प्रसिद्ध गाँव, जिसे बावड़ियों का गाँव भी कहा जाता है। यहाँ विश्व की सबसे बड़ी बावड़ी के साथ कई छोटी-छोटी अन्य बावड़ियाँ भी हैं। इन बावड़ियों के साथ आभानेरी का हर्षत माता मंदिर भी पर्यटकों का मुख्य आकर्षण का केंद्र है। आभानेरी गाँव का नाम आभा नगरी(चमकने वाला शहर) था, लेकिन धीरे-धीरे भाषा की तोड़ मरोड़ से इसका नाम आभानेरी पड़ गया।PC:Chetan

अजमेर

अजमेर

राजस्थान की राजधानी से सटा हुआ अजमेर दरगाह शरीफ के लिए जाना जाता है...पूरे भारत से यहां लोग अपनी हाजरी लगाने पहुंचते हैं...माना जाता है कि इस दरगाह में जाने से आप के मन में जो इच्छा होती है उसके लिए आप सच्चे मन से दुआ करते है तो वो पूरी हो जाती है।इसके साथ ही कई अढाई दिन का झोपड़ा, अना सागर झील, अकबर का किला आदि घूमा जा सकता है।PC: wikimedia.org

पुष्कर

पुष्कर

राजस्थान की धार्मिक नगरी के नाम से मशहूर पुष्कर जयपुर से 145 किमी की दूरी पर स्थित है...यह शहर तीन तरफ से पहाड़ियों से घिरा, पुष्कर एक सुरम्य झील और कई मंदिर है। इस जगह का सबसे प्रसिद्ध मंदिर ब्रह्मा मंदिर है जो पुरे भारत में ब्रह्मा जी का एक ही मंदिर है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार पर एक 'हंस ' बना हुआ है जो भगवान ब्रह्मा का दिव्य वाहक है और एक सूंदर प्रतिमा है।पुष्‍कर झील, चारों तरफ से लगभग 300 मंदिरों और 52 घाटों ( जो झील के किनारों पर एक श्रृंखला में स्थित हैं ) से घिरा हुआ है। जहां श्रृद्धालु पवित्र स्‍नान करते हैं। यह एक धारणा है कि अगर कोई व्‍यक्ति कार्तिक पूर्णिमा के दिन इस झील में पवित्र डुबकी लगाता है तो उसे मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। घूमने के अलावा आप यहां से कढ़ाई के कपड़े, जूते, चूड़ियाँ, पीतल के बर्तन, रंगीन सैडल और दीवार के पर्दे पुष्कर के मुख्य बाजार में स्टालों से खरीदारी कर सकते हैं।PC:Nishank.varshney

रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान

रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान

रणथम्भोर राजस्थान का बहुत बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है । यह वन्यजीव अभ्यारण 392 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है । ये दक्षिण पूर्वी राजस्थान है जो जयपुर से 130 किलोमीटर दूर सवाई माधोपुर जिले में स्थित है । यह राष्ट्रीय उद्यान सूंदर गुलाबी नगर जयपुर के महाराजाओ के शिकारगाह के रूप में था । रणथम्भोर राष्ट्रीय उद्यान पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है । राष्ट्रीय उद्यान में विभिन्न जंगली जानवरों, सियार, चीते, हाइना, दलदल मगरमच्छ, जंगली सुअरों और हिरण की विभिन्न किस्में है । इसके आलावा वह जलीय वनसप्ति जीव भी है। यह इतनी आकर्षक जगह है जहाँ पर कई फोटोग्राफर और वन्यजीव प्रेमी आते है और अच्छे फोटो खींचते है ।PC: Ranjan Ghosal

कोटा

कोटा

राजस्थान स्थित कोटा तिष्ठित शैक्षिक शहर के रूप में पूरे भारत में में लोकप्रिय है...कोटा शहर चंबल नदी के पूर्वी किनारे पर स्थित है। यहां पर प्रभावशाली किलों, महल, मंदिर, बगीचे औरविश्व के सात आश्चर्यों की छोटी प्रकृति है यहां आप शाम को घूमने का अच्छा आनंद ले सकते हो।

PC:Akshaykota

बीकानेर

बीकानेर

बीकानेर ऊंट सवारी के लिए सबसे अच्छा शहर है इस रेगिस्तानी शहर में आपको सप्ताह के अंत में घूमने के लिए आना चाहिए। यह शहर रेत के टीलों से घिरा हुआ है शहर में शानदार किलों और महलों लाल-गुलाबी बलुआ पत्थर में बनाया गया है जो अपने समृद्ध इतिहास का प्रदर्शन करता है। बीकानेर जयपुर से 335 किमी की दुरी पर स्थित है। यहां पर पहुँचने के लिए आपको NH11 के माध्यम से 5 घण्टे का समय लगेगा।

PC:Noledam

उदयपुर

उदयपुर

झीलों कास शहर जयपुरवासियों के साथ साथ हर किसी का लोकप्रिय हॉलिडे डेस्टिनेशन है..यह जगह महल, बगीचों, झीलों आदि के लिए जाना जाता है। उदयपुर शहर जयपुर से 395 किमी की दुरी पर स्थित है यहां पर पहुँचने के लिए NH8 के माध्यम से 5 घण्टे और 54 मिनट का समय लगता है।PC: Flicka

Please Wait while comments are loading...