» »यह वीकेंड होगा शानदार जब फ्रेंड्स के साथ मस्ती होगी नंदीहिल्स पर

यह वीकेंड होगा शानदार जब फ्रेंड्स के साथ मस्ती होगी नंदीहिल्स पर

Written By: Goldi

बेंगलुरु से करीबन 60 किमी की दूरी पर स्थित नंदीहिल्स नंदी दुर्ग चिक्‍काबल्‍लापुर जिले में स्थित है। नंदी हिल्स और नंदी बेट्टा पुराने जमाने में एक घना जंगल हुआ करता हुआ करता था, जहां से आर्क्वती नदी का उद्गम स्थल हुआ करता था।

ये हैं मुगलों का आखिरी मकबरा

समुद्र स्‍तर से 4,851 फीट की ऊंचाई पर स्थित नंदी हिल्‍स, नेचर लवर्स के लिए एक परफेक्ट डेस्टिनेशन है। इस जगह से आप इस जगह की खूबसूरती को बखूबी निहार सकते हैं।

गर्मी की छुट्टियों को बनाना है यादगार..तो पहुंच जाइये यहां

नंदी हिल्‍स का इतिहास बेहद दिलचस्‍प है। इसकी उत्‍पत्ति के बारे में कई कहानियां प्रसिद्ध है। कुछ लोगों का मानना है कि इस पहाड़ी का नाम ऐसा इसलिए है क्‍योंकि इसका आकार सोते हुए बैल की तरह है। इस पहाड़ी पर निर्मित मंदिरों में चोल वंश की झलक स्‍पष्‍ट रूप से देखने को मिलती है। नंदी हिल्‍स पर भारत की आजादी की लड़ाई के सबूत भी मिलते है, यहां टीपू सुल्‍तान ने एक दुर्ग भी बनवाया था, जिसे नंदीदुर्ग के नाम से जाना जाता है जो भारत की आजादी की लड़ाई का महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है।

रूट मैप

रूट मैप

शुरुआती जगह-बेंगलुरु
डेस्टिनेशन-नंदी हिल्स
जाने का उचित समय-यूं तो नंदी हिल्स कभी भी जाया जा सकता है..लेकिन यहां जाने का उचित समय अक्टूबर से जून हैं..जुलाई से लेकर अक्टूबर तक मानसून रहता है..जिस करान पहाड़ियों पर काफी फिसलन हो जाती है।

कैसे जाएँ

कैसे जाएँ

नंदी हिल्‍स तक आसानी से रेल मार्ग, वायु मार्ग और सड़क मार्ग द्वारा पहुंचा जा सकता है। यहां तक पहुंचने के लिए कई साधन मौजूद है।

हवाई मार्ग
नंदी हिल्स का नजदीकी एयरपोर्ट बेंगलुरु एयरपोर्ट है..जोकि नंदीहिल्स से करीबन 40 किमी की दूरी पर स्थित है..सैलानी एयरपोर्ट से टैक्सी द्वारा नंदीहिल्स आसानी से पहुंच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा
नंदीहिल्स का नजदीकी स्टेशन चिक्‍काबल्‍लापुर है..जोकि नंदी हिलस्टेशन से करीबन 10 किमी की दूरी पर है।

सड़क द्वारा
नंदी पहाड़ियों तक पहुंचने के लिए सबसे अच्छा और सबसे पसंदीदा साधनों में से एक सड़क है। पर्यटक आसानी से बेंगलुरु, मैसूर से बस या कार द्वारा आसानी से नंदी हिल्स पहुंच सकते है।PC:Harsha K R

रूट

रूट

बेंगलुरु से नंदीहिल्स की दूरी करीबन 60 किमी है..जिससे इस जगह पहुँचने में आपको करीबन एक घंटे का समय लगता है।

बैंगलोर-येलाहंका-चिक्काजला-देवनहल्ली-नंदी क्रॉस-कराहल्ली क्रॉस-नंदी हिल्स वाया बेल्लारी रोड (नेशनल हाइवे 44 )इस रास्ते से आप नंदी हिल्स एक घंटे में पहुंच जायेंगे।PC: Nikhil Verma

स्टॉप देवनहल्ली

स्टॉप देवनहल्ली

वीकेंड में नंदी हिल्स जाना सबसे बेस्ट है..आप यहां तडके सुबह पहुंच कर सूर्योदय देख सकते हैं। नंदी हिल्स जाते समय आप देवनहल्ली में रुककर चाय नाश्ता आदि आकर सकते हैं। देवनहल्ली टीपू सुलतान का जनम स्थान है।PC:Harsha K R

देवानहल्ली किला

देवानहल्ली किला

देवनहल्ली टीपू सुलतान का जनम स्थान है। यहां एक किला है,जिसका निर्माण 15वीं शताब्दी में हुआ था । देवनहल्ली किला घूमने के बाद आप वहां हल्का सा नाश्ता करने के बाद अपनी यात्रा आगे बढ़ा सकते हैं।

PC: wikimedia.org

नंदीहिल्स

नंदीहिल्स

नंदीहिल्स अपने प्राकृतिक खूबसूरती के चलते बेहद लोकप्रिय स्थल है। नंदी हिल्स के अलावा यहां कई खूबसूरत किले भी देखे जा सकते हैं।PC:Tinucherian

नंदी हिल्स

नंदी हिल्स

अमृता सरोवर एक बेहद ही खूबसूरत सरोवर है, जोकि प्रसिद्ध पिकनिक स्‍पॉट हैं। यहां आकर आप कई प्रकार की अन्‍य एक्‍टीविटी भी कर सकते है जैसे - पैराग्‍लाईडिंग और साइकि‍लिंग आदि।PC:Koshy Koshy

टीपू सुल्तान का किला

टीपू सुल्तान का किला

नंदी हिल्स में टीपू सुल्तान का किला मुख्य आकर्षणों में से एक है। इस किले का निर्माण हैदर अली में शुरू कराया था..जिसे बाद में टीपू सुल्तान ने पूरा किया। यह किला भारत की आजादी की लड़ाई का महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है।हालांकि यह 1791 में ब्रिटिश शासन तक गिर गया था। नंदी हिल्‍स की यात्रा आपके लिए यादगार हो सकती है। इसी स्‍थान पर टीपू सुल्‍तान लोगों को सजा - ए - मौत दिया करते थे और यहीं पर उनका ग्रीष्‍मकालीन महल हुआ करता था। यहीं पर एक ऐसा मार्ग भी था, जिसे गुप्‍त मार्ग के नाम से जाना जाता है और यहां से बचकर निकलने का रास्‍ता था।PC:Hariharan Aruchalam

Please Wait while comments are loading...