• Follow NativePlanet
Share
» »जब बॉलीवुड की फिल्मों में नजर आयीं भारत की कुछ बेहद ही आकर्षक इमारतें

जब बॉलीवुड की फिल्मों में नजर आयीं भारत की कुछ बेहद ही आकर्षक इमारतें

Written By:

फिल्म 3 इडियट्स के बाद से ही लेह लद्दाख पर्यटकों खासकर की युवा पर्यटकों के बीच खासा प्रसिद्ध हुआ है, हर कोई इस नायब खूबसूरती को देखना चाहता है। बॉलीवुड हमे कई खूबसूरत जगहों का दीदार कराता है, जैसे परिस, बुडापेस्ट, स्विटज़रलैंड आदि।

विदेशों के अलावा भारत में कुछ ऐसी जगहे ऐतिहासिक इमारतें मौजूद हैं, जो बार बार फिल्म कारों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। तो इसी क्रम में आज हम आपको भारत की कुछ ऐतिहासिक इमारतों से रूबरू कराने जा रहें हैं, जिन्हें आपने कई बार फिल्मों में देखा होगा।

तो क्यों ना अगली बार छुट्टियों में बॉलीवुड की पसंदीदा डेस्टिनेशन को घूमा जाए

बागोर की हवेली

बागोर की हवेली

Pc: flicker
फिल्म ये जवानी है दीवानी में अभिनेत्री कल्कि कोच्लिन की शादी में दिखाई गयी बागोर की हवेली उदयपुर में स्थित है। बागोर की हवेली, पिछोला झील के पास स्थित मेवाड़ रॉयल कोर्ट के मुख्यमंत्री, अमीर चंद बादवा द्वारा निर्मित एक पुराना भवन है। बारीक नक्काशी और सुंदर कांच का काम इस 18 वीं सदी की हवेली का प्रमुख आकर्षण है।

राजस्थान में मरुस्थलीय त्रिकोणीय यात्रा- जोधपुर, जैसलमेर और बीकानेर का त्रिसंगम!

बागोर के महाराणा शक्ति सिंह ने वर्ष 1878 में मुख्य संरचना में तीन मंजिलें और जोड़ी। 1986 में, पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र (डब्ल्यू जेड सी सी) को यह इमारत दे दी गई। यहाँ एक संग्रहालय है, जो भित्ति चित्र और शाही वस्तओं के माध्यम से मेवाड़ की संस्कृति और परंपरा को प्रदर्शित करता है। इसके साथ - साथ पर्यटक पासा खेल, हाथ के पंखे, गहनों के बक्से, हुक्के, और पान के बक्से यहाँ देख सकते हैं। सुंदर रंगीन शीशों से बना मोर संग्रहालय का मुख्य आकर्षण है। रानी चैंबर में, यात्री मेवाड़ के कुछ मूल चित्रों को देख सकते हैं। हवेली के अंदरूनी हिस्से सुंदर और नाजुक शीशे के काम से सजे हैं।

विक्टोरिया मेमोरियल

विक्टोरिया मेमोरियल

Pc:Tapas Biswas
इसमें कोई दो राय नहीं है कि, बॉलीवुड फिल्मों की बेस्ट लोकेशन में कोलकाता शीर्ष पर है। कोलकाता में अब तक सैकड़ों हिंदी बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग सम्पन्न हो चुकी है। अगर आपने फिल्म मेरी प्यारी बिंदु देखी होगी, तो आपको उसमे कोलकाता के भव्य पर्यटन स्थल विक्टोरिया मेमोरियल भी नजर आया होगा।

विक्टोरिया मेमोरियल की नींव सन् 1906 में वेल्स के राजकुमार द्वारा रखी गयी थी।इस इमारत की रचना ब्रिटिश और मुग़ल दोनों शैलियों को मिलाकर की गयी थी। इसे इंडो सारासेनिक रिवाइवल आर्किटेक्चर (हिन्द- अरबी नव वास्तुकला) के नाम से भी जाना जाता है, जो वास्तुशिल्प की एक शैली है और इसे 19 वीं सदी में ब्रिटिश सरकार द्वारा उपयोग किया जाता था। विक्टोरिया मेमोरियल में 25 गैलरियां हैं। इन गैलरियों में मूर्ति गैलरी, राजसी गैलरी, सेंट्रल हॉल, पोर्ट्रेट गैलरी, हथियार और शस्त्रागार गैलरी और कोलकाता गैलरी हैं। म्यूजियम के अन्य प्रदर्शनियों में पुराने ज़माने के सिक्कों, स्टैम्प्स और नक्शों की प्रदर्शनी लगी हुई हैं। कीजिये दर्शन कोलकाता के भव्य आकर्षण स्थलों का

आमेर किला

आमेर किला

Pc:Kuldeepsingh Mahawar
जयपुर के भव्य किलों में से एक आमेर किला बॉलीवुड में बेहद लोकप्रिय है, यहां अब तक फिल्मो की शूटिंग सम्पन्न हो चुकी है,जिनमे से एक है खूबसूरत।

ऐतिहासिक आमेर अपनी गौरवशाली कथाओं और नक्काशी, कलात्मक शैली, शीश महल के लिए विश्व प्रसिद्ध है। आमेर का किला उच्च् कोटि की शिल्प-कला का उत्कृष्ट नमूना माना जाता है। इस किले के अंदर बने महल अपने आपमें बे-मिसाल हैं। इन्हीं महलों में शामिल है शीश महल जो अपनी आलीशान अद्भुत नक्काशी के लिए जाना जाता है। इस किले को लाल पत्थरों से बनाया गया है और इस महल के गलियारे सफ़ेद संगमरमर के बने हुए हैं। यह किला काफी ऊंचाई पर बना हुआ है इसलिए इस तक पहुँचने के लिए काफी चढ़ाई चढ़नी पड़ती है।

जल महल

जल महल

Pc: flicker
फिल्म शुद्ध देशी रोमांस की शूटिंग के जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन जल महल के आसपास सम्पन्न हुई थी।

मान सागर झील के बीचोबीच स्थित जल महल स्थापित है। ऐसा कहा जाता है कि, यह महल जयपुर के राजाओं के लिए पक्षियों के शिकार का एक पिकनिक स्थल हुआ करता था। जल महल, जो 250 सालों पहले स्थापित किया गया समय की कसौटी पर खड़ा उतरा है। पाँच मंज़िलों के इस महल के चार मंज़िल झील के पानी में जलमग्न हो चुके हैं। यह असाधारण महल, तब की वास्तुकला की कुशलता का एक जीता जागता उदाहरण है। जल महल से, चारों तरफ अरावली पर्वत और
नाहरगढ़ पहाड़ों से घिरा नज़ारा अत्युत्तम है। महाराजा सवाई प्रताप सिंग ने यह जल महल सन् 1778-1803 में बनवाया था। इस महल तक नौका की सैर द्वारा ही पहुँचा जा सकता है।

झीलों का ऐसा नजारा भारत के अलावा कहीं और नहीं मिलेगा!

नाहरगढ़ किला

नाहरगढ़ किला

Pc:Tharakan
आमिर खान अभिनीत फिल्म रंग दे बसंती की शूटिंग जयपुर स्थित नाहरगढ़ किले में सम्पन्न हुई थी। नाहरगढ़ किला, अरावली पर्वतों की श्रृंखला में बना हुआ है जो भारतीय और यूरोपीय वास्‍तुकला का सुंदर समामेलन है। किले के नाम में बाने वाला शब्‍द नाहरगढ़ का अर्थ होता है - बाघों का निवास। इस किले का निर्माण कार्य 1734 में पूरा किया गया, हालांकि बाद में 1880 में महाराजा सवाई सिंह माधो द्वारा किले की विशाल दीवारों और बुर्जो का पुननिर्माण भी करवाया गया था।

बड़ा बाग

बड़ा बाग

Pc:Ankit khare
जैसलमेर शहर से 6 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बड़ा बाग़ एक विशाल पार्क अपने शाही स्मारकों या छतरियों के लिए प्रसिद्ध है जिसे विभिन्न भट्टी शासकों द्वारा निर्मित किया गया। सब के बीच, राजा महारावल जैत सिंह की कब्र सबसे प्राचीन स्मारक है। पार्क के अंदर स्मारकों के अलावा, पर्यटक जैतसार टंकी, जैत बांध और एक गोवर्धन स्तंभ को भी देख सकते हैं। बांध और टंकी दोनों के निर्माण में पत्थरों के ठोस टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया था। जैसलमेर के इस खूबसूरत बाग़ में ही सलमान खान और ऐश्वर्या राय अभिनीत फिल्म हम दिल दे चुके सनम की शूटिंग सम्पन्न हुई थी।

गोलाकोंडा किला

गोलाकोंडा किला

Pc:Haseeb1608
रोहित शेट्टी निर्देशित फिल्म सिन्घ्म रिटर्न्स के एक गाने की शूटिंग हैदराबाद स्थित गोलाकोंडा किले में सम्पन्न हुई थी। गोलकोण्डा का किला हैदराबाद शहर से 12 किमी की दूरी पर स्थित है। यह किला अपने बेशकीमती खजानों व रहस्यमयी गुफाओं के लिए जाना जाता है। यहां लंबे वर्षों तक काकतीय राजाओं ने राज किया।

इस किले की खान में मिला था, दुनिया का बेशकीमती हीरा 'कोहिनूर'

इतिहासकारों की मानें तो इस पहाड़ी किले को बनाने का सुझाव राजा प्रताप रूद्रदेव को एक गड़ेरिये ने दिया था। जिसके बाद इस किले का निर्माण करवाया गया। अगर आप इस किले का नाम का शाब्दिक अर्थ देखें तो पता चलेगा, कि 'गोलकोण्डा' दो शब्दों के मेल से बना है, 'गोल्ला' जिसका अर्थ गड़रिया व 'कोण्डा' यानी पहाड़ी। अगर आप इस किले के सबसे ऊपरी भाग पर जाएं तो आपको इसकी ऊंचाई का पता चलेगा, जहां से आप पूरे हैदराबाद का दीदार कर सकते हैं।

ताजमहल

ताजमहल

Pc:wikimedia.org
दुनिया के सात अजूबों में से एक ताजमहल को कई बार बॉलीवुड फिल्मों में फिल्माया जा चुका है, जिनमे से हैं तेवर, झूम बराबर झूम, बंटी-बबली आदि। इसका निर्माण मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज महल की याद में करवाया था। यहीं मुमताज महल का मकबरा भी है। ताजमहल भारतीय, पर्सियन और इस्लामिक वास्तुशिल्पीय शैली के मिश्रण का उत्कृष्ट उदाहरण है। यहां स्थित मुमताज महल का मकबरा ताजमहल का मुख्य आकर्षण है। सफेद संगमरमर से बना यह मकबरा वर्गाकार नींव पर आधारित है। यह मेहराबरूपी गुंबद के नीचे है और यहां एक वक्राकार गेट के जरिए पहुंचा जा सकता है।

ताज के ये 52 फ्रेम देखकर खुद-ब-खुद मुहं से निकल पड़ता है "वाह ताज"

हुमायूं का मकबरा

हुमायूं का मकबरा

Pc:Anandkshitij
बॉलीवुड के बीच दिल्ली स्थित ऐतिहासिक इमारते काफी लोकप्रिय है, इन इमारतों में और आसपास आये दिन फिल्मों की शूटिंग होती रहती हैं। हुमायूं के मकबरे को फिल्म मेरे ब्रदर की दुल्हन में फिल्माया गया है। मुगल सम्राट हुमायूँ का मकबरा दिल्ली के प्रसिद्ध पुराने किले के पास स्थित है। इस मकबरे को हुमायूँ की याद में उनकी पत्नी हामिदा बानो बेगम द्वारा ने सन् 1562 में बनवाना शुरू किया था जबकि संरचना का डिज़ाइन मीरक मिर्ज़ा घीयथ नामक पारसी वास्तुकार ने बनाया था। मकबरे को हुमायूँ की मृत्यु के नौ साल बाद बनवाया गया था। यह बगीचे युक्त मकबरा चारों तरफ से दीवारों से घिरा है जिसमें सुन्दर बगीचे, पानी के छोटी नहरें, फव्वारे, फुटपाथ और कई अन्य चीजें पाई जाती हैं। इस चहारदीवारी में कई अन्य मुगल शासकों की कब्रें हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स