• Follow NativePlanet
Share
» »सर्दियों में जयपुर की कुछ इस तरह करें सैर

सर्दियों में जयपुर की कुछ इस तरह करें सैर

Written By: Namrata Shatsri

राजस्‍थान के गुलाबी शहर जयपुर में भारत के कई शक्‍तिशाली साम्राज्‍यों का राज रहा है। इस शहर में अनेक किले और मंदिर हैं जो हज़ारों की संख्‍या में पर्यटकों को हर साल यहां आने के लिए आकर्षित करते हैं। जयपुर भारत के प्रसिद्ध पर्यटन स्‍थलों में से एक बन चुका है।

राजस्‍थान को राजाओं की भूमि भी कहा जाता है। इसके जोधपुर, जैसलमेर आदि जैसे शहर सांस्‍कृतिक रूप से समृद्ध हैं जो आपको इतिहास से रूबरू करवाएंगें। आज इस लेख के ज़रिए हम आपको बताएंगें कि जयपुर में घूमने जाने पर आप क्‍या कर सकते हैं। नवंबर से फरवरी के मौसम में जयपुर घूमना सबसे बढ़िया रहता है।

आमेर किले पर हाथी की सवारी

आमेर किले पर हाथी की सवारी

इस किले को हाथी पर सवार होकर देखने का अलग ही मज़ा है। शानदार आमेर का किला लाल बलुआ पत्‍थर और संगमरमर से बना है जोकि हिंदू वास्‍तुकला की शैली को दर्शाता है।

इस किले में शीश महल, सुख निवास, दीवान-ए-आम आदि जैसी संरचनाएं देखी जा सकती हैं। ये सभी काफी खूबसूरत हैं। ये किला रोज़ सुबह 8 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक खुलता है।
PC:Jason Rufus

पैलेस - होपिंग

पैलेस - होपिंग

जयपुर में कई शानदार महल और किले हैं जिन्‍हें इतिहास के अनेक शक्‍तिशाली राजाओं द्वारा बनवाया गया है। इन किलों और महलों में पैलेसे होपिंग से आप खुद को पुराने दौर में महसूस करेंगें। जयपुर सिटी पैलेस, जयगढ़ किला, रामबाग पैलेस, हवा महल आदि उत्‍कृष्‍ट स्‍थापत्‍यकला का बेजोड़ नमूना हैं।PC:Tim Moffatt

जयपुर की प्राचीन गलियों की सैर

जयपुर की प्राचीन गलियों की सैर

जयपुर को करीब से जानने के लिए आपको इसकी सड़कों की सैर करनी पड़ेगी। शहर के केंद्र में स्थित स्‍टैच्‍यू सर्किल गार्डन में घूम सकते हैं या फिर एशिया के सबसे बड़े सर्किल में से एक जवाहर सर्किल गार्डन की सैर भी कर सकते हैं। जयपुर की सड़कों पर कचौड़ी और स्‍थानीय व्‍यंजनों का मज़ा लेना ना भूलें।PC:Y'amal

राजस्‍थान लोक उत्‍सवों का हिस्‍सा बनें

राजस्‍थान लोक उत्‍सवों का हिस्‍सा बनें

राजस्‍थान में हर साल असंख्‍य त्‍योहार और उत्‍सव मनाए जाते हैं जिनमें से कई उत्‍सव जयपुर में आयोजित किए जाते हैं। सितंबर में तीज उत्‍सव, मार्च में एलीफैंट उत्‍सव और जनवरी में दुनिया के सबसे बड़े साहित्‍य उत्‍सव जयपुर साहित्‍य उत्‍सव का आयोजन किया जाता है।

PC: Koshy Koshy

शाही ठाठ

शाही ठाठ

जयपुर के शानदार महल और किले दुनियाभर के हज़ारों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। इनमें से कुछ किलों और महलों को लग्‍जरी होटल में तब्‍दील कर दिया गया। जयपुर में पर्यटक इन शाही होटलों में रूक कर राजसी ठाट-बाट का आनंद ले सकते हैं।

रामबाग पैलेस और जय महल पैलेस ऐसी दो जगहें हैं जिन्‍हें लग्‍जरी होटल में तब्‍दील कर दिया गया है। यहां ठहर कर आप खुद को सालों पहले के दौर में महसूस करेंगें।PC:Arnie Papp

जल महल की खूबसूरती

जल महल की खूबसूरती

जल महल का मतलब होता है पानी का महल और ये महल झील के ऊपर बना है। इसी वजह से इसे जल महल कहा जाता है। ये मानव निर्मित झील है जो दरभावली नदी के पार एक बांध के निर्माण के द्वारा बनाई गई थी।

शानदार जल महल को आमेर के महाराजा जय सिंह 2 ने 18वीं शताब्‍दी में बनवाया था। ये महल काफी खूबसूरत है।PC:Arian Zwegers

राजस्‍थानी खाने का मज़ा

राजस्‍थानी खाने का मज़ा

राजस्‍थान अपने व्‍यंजनों की विविधता और स्‍वाद को लेकर भी प्रसिद्ध है। खाने के शौकीन लोगों के लिए इस शहर में बहुत कुछ है। इसके अलावा यहां आप दाल बाटी चूरमा, लाल मास, गट्टे की खिचड़ी और मिज्ञई में आम की लौंजी, गुज्‍जा आदि खा सकते हैं।PC:Zac Davies

हवा महल पर फोटोग्राफी

हवा महल पर फोटोग्राफी

जयपुर का सबसे प्रमुख आकर्षण हवा महल है जिसका मतलब होता है हवा का पैलेस। इसे महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने शाही महिलाओं के लिए बनवाया था ताकि वो बाहर निकले बिना बाहर की गतिविधियों को देख सकें।

इस महल में आकर आप खुद को तस्‍वीरें खिंचवाने से रोक नहीं पाएंगें।PC:Nico Crisafulli

नाहरगढ़ किले पर साइकलिंग

नाहरगढ़ किले पर साइकलिंग

अरावली की पहाड़ियों पर काफी ऊंचाई पर स्थित है नाहरगढ़ किला, जहां से जयपुर शहर का खूबसूरत नज़ारा दिखाई देता है। एक ज़माने में ये किला आमेर किले और जयगढ़ किले के साथ शहर का मजबूत रक्षा दुर्ग हुआ करता था।

नाहरगढ़ किले पर आप साइकलिंग करके भी पहुंच सकते हैं। एडवेंचर प्रेमियों के लिए 18 किमी लंबा ये रूट काफी रोमांचक होता है।

PC:vsvinaykumar

राजस्‍थानी कपड़ों की खरीदारी

राजस्‍थानी कपड़ों की खरीदारी

जयपुर में कई दुकानें हैं जहां राजस्‍थानी कपड़े, एसेसरीज़, जूते और ज्‍वेलरी मिलती हैं। शॉपोहोलिक लोगों के लिए जयपुर किसी जन्‍नत से कम नहीं है। हस्‍तशिल्‍प चीज़ों के लिए मिर्जा ईस्‍माइल रोड़, कपड़ों के लिए जौहरी बाज़ार और राजस्‍थानी जूती और जूतों के लिए नेहरू बाज़ार जा सकते हैं।PC:Jason Rufus

जंतर-मंतर की यात्रा पर वैज्ञानिक ज्ञान भी लें

जंतर-मंतर की यात्रा पर वैज्ञानिक ज्ञान भी लें

जंतर-मंतर जयपुर की शानदार इमारत है जिसमें 19 खगोलीय यंत्र रखे हैं। इसका निर्माण राजा सवाई सिंह 2 ने करवाया था। इसमें एक विशाल सूर्य घड़ी भी है। इसके कारण जंतर-मंतर को यूनेस्‍को की विश्‍व धरोहर की सूची में शामिल किया गया है। इस इमारत में लाइट और साउंड शो देखना ना भूलें। ये सुबह 9 बजे से शाम 4.30 बजे तक खुलता है।PC:Russ Bowling

ऊंट की सवारी

ऊंट की सवारी

राजस्‍थान आए और ऊंट की सवारी नहीं की तो आपका सफर अधूरा रहेगा। जयपुर की सड़कों पर आपको ऊंट घूमते दिख जाएंगें। जयपुर में ऊंट की सफारी पर पूरे शहर को देख सकते हैं। ये अनुभव काफी अलग है।PC: Rohanguj2

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स

We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Nativeplanet sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Nativeplanet website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more