• Follow NativePlanet
Share
» »सामने आ गया राज, कि प्राचीनकाल मंदिर क्यों बनाये गये थे नदी किनारे!

सामने आ गया राज, कि प्राचीनकाल मंदिर क्यों बनाये गये थे नदी किनारे!

Written By:

हिन्दू धर्म में नदियों को दैवीय दर्जा दिया गया है, और इन नदियों का हिंदुयों मंदिर से एक खास नाता है। पौराणिक कथायों के मुताबिक, नदियों और मंदिर स्थापना का एक खासा सम्बन्ध है, जिस कारण इन नदियों को बेहद पवित्र माना जाता है।

माना जाता है कि, इन पवित्र नदियों में डुबकी लगाने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। श्रद्धालु मंदिर में भगवान के समक्ष मत्था टेकने से पहले इन नदियों में डुबकी अवश्य लगाते हैं। इसी क्रम में इस लेख में जानते हैं भारत के कुछ बेहद ही खूबसूरत मन्दिरों के बारे में जो पवित्र नदियों के तट पर स्थित हैं-

काशी विश्वनाथ मंदिर

काशी विश्वनाथ मंदिर

उत्तरप्रदेश की धार्मिक नगरी वाराणसी में स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर पवित्र नदी गंगा नदी के तट पर स्थित है। प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर वाराणसी में सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है।Pc:Flickar

श्रृंगेरी शारदाबा मंदिर

श्रृंगेरी शारदाबा मंदिर

आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित श्रृंगेरी शारदाबा मंदिर कर्नाटक की तुंगा नदी के किनारे स्थित है। दिलचस्प बात यह है कि तुंगा नदी मंदिर के एकदम पास से बहती है , और यहां मछली पकड़ना वर्जित है।Pc:Vaikoovery

कालीघाट काली मंदिर

कालीघाट काली मंदिर

कालीघाट काली मंदिर कोलकाता के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। यह हुगली नदी के पुराने छोर पर स्थित है। हालांकि समय के साथ मंदिर से नदी दूर होती चली गयी लेकिन, आज भी मंदिर के पास नहर को बहते देखा जा सकता है,जिसे आदि गंगा नाम दिया गया है क्योंकि इसे हुगली नदी के मूल स्रोत माना जाता है।Pc:Giridhar Appaji Nag Y

त्र्यंबकेश्वर मंदिर

त्र्यंबकेश्वर मंदिर

उत्तराखंड के ऋषिकेश में स्थित त्र्यंबकेश्वर मंदिर गंगा नदी के किनारे स्थित एक 13 मंजिला मंदिर है। भगवान शिव का यह सुंदर मंदिर भारत में नदियों के किनारों पर स्थित शीर्ष मंदिरों में से एक है।Pc:meg and rahul

श्रीरंगम मंदिर

श्रीरंगम मंदिर

श्रीरंगम रंगनाथस्वामी मंदिर दक्षिण भारत में पंचरंगा क्षेत्र क्षेत्र के बीच आद्या रंग (अंतिम मंदिर) के रूप में माना जाता है। श्रीरंगम तमिलनाडु में कावेरी नदी के एक द्वीप पर स्थित है।Pc: Raj

ओमकारेश्वर मंदिर

ओमकारेश्वर मंदिर

मध्य प्रदेश के खंडवा में स्थित ओमकारेश्वर मंदिर नर्मदा नदी के किनारे स्थित है। यह भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है।Pc:YashiWong

निमीशंबा मंदिर

निमीशंबा मंदिर

कावेरी नदी के तट पर स्थित निमीशम्बा मंदिर श्रीरंगपट्ट के गंजम में स्थित है। यहां देवी निमशिम्बा मंदिर का प्रमुख देवता है।Pc:Prof tpms

 त्र्यम्बकेश्वर ज्योर्तिलिंग मन्दिर

त्र्यम्बकेश्वर ज्योर्तिलिंग मन्दिर

नासिक में गोदावरी नदी के पास स्थित है, त्रयम्बकेश्वर-भगवान की भी बड़ी महिमा हैं गौतम ऋषि तथा गोदावरी के प्रार्थनानुसार भगवान शिव इस स्थान में वास करने की कृपा की और त्र्यम्बकेश्वर नाम से विख्यात हुए। मंदिर के अंदर एक छोटे से गंढे में तीन छोटे-छोटे लिंग है, ब्रह्मा, विष्णु और शिव- इन तीनों देवों के प्रतीक माने जाते हैं। शिवपुराण के ब्रह्मगिरि पर्वत के ऊपर जाने के लिये चौड़ी-चौड़ी सात सौ सीढ़ियाँ बनी हुई हैं। इन सीढ़ियों पर चढ़ने के बाद 'रामकुण्ड' और 'लष्मणकुण्ड' मिलते हैं और शिखर के ऊपर पहुँचने पर गोमुख से निकलती हुई भगवती गोदावरी के दर्शन होते हैं।

साहसिक एडवेंचर्स के लिए बनाए ऋषिकेश का प्लान, इन स्पोर्ट्स को करें यात्रा डायरी में शामिल

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स