» »भारत का ऐसा मंदिर..जिसमे प्रसाद के रूप में मिलता है "सोना-चांदी"

भारत का ऐसा मंदिर..जिसमे प्रसाद के रूप में मिलता है "सोना-चांदी"

Written By: Goldi

हम भारतीयों को किसी चीज में यकीन हो ना हो लेकिन भगवान में आस्था पूरी है..जो कभी नहीं डिग सकती। हर साल लाखो और करोड़ो की तादाद में श्रद्धालु मन्दिरों में दर्शन करने पहुंचते हैं।

                 अम्बुबाची मेला, कामाख्या देवी का मासिक धर्म जब बनता है लोगों के जश्न का कारण

जब भी हम किसी मंदिर में दर्शन करने पहुंचते हैं तो हमे उस मंदिर के पुजारी प्रसाद के रूप में लड्डू,या फिर बतासे फल इत्यादि देते हैं। लेकिन आज मै आपको अपने लेख के जरिये एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहीं हूं..जहां आपको पूजा करने के पश्चात प्रसाद के रूप में सोना मिलेगा।

                           उत्तर प्रदेश में यात्रा करने के लिए10 खूबसूरत स्थल

जी हां, यह सच है..यह मंदिर मध्य प्रदेश के रतलाम का सबसे प्रसिद्ध महालक्ष्मी का मंदिर है, लेकिन साल में कुछ दिन के लिए ही इस मंदिर में कुबेर का दरबार लगता है। आइए जानते है इस कुबेर का दरबार लगने का कारण...

महालक्ष्मी जी का मंदिर

महालक्ष्मी जी का मंदिर

मध्य प्रदेश में स्थित प्रचीन महालक्ष्मी जी का मंदिर है। आन्ध्र प्रदेश तिरुपति की तरह इस मंदिर में भक्त करोड़ों रूपए के गहने और नगदी के रूप में चढावा चढ़ाते है।

धन तेरस पर होती है खास पूजा

धन तेरस पर होती है खास पूजा

दिपावाली के विशेष अवसर पर इस मंदिर को ही बेहद ही खूबसूरत अंदाज में सजाया जाता है। इस मंदिर को दिपावली के मौके पर नोटों से ही सजाया जाता है। यहां पर भक्तों के द्वारा चढ़ाए गए नोटों से ही पूरे मंदिर
में वंदनवार बनाई जाती है।

दिवाली के बाद प्रसाद में मिलता है सोना

दिवाली के बाद प्रसाद में मिलता है सोना

फिर दिवाली के बाद इस मंदिर में जाने वाले भक्तों को प्रसाद के रूप में ये आभूषण और नगदी बांट दिए जाते हैं। लोग बहुत दूर-दूर से इस प्रसाद को लेने के लिए पहुंच जाते है। कहा जाता है कि लोग इस प्रसाद को शगुन और शुभ मानते हुए कभी खर्च नहीं करते। अपने पास संभालकर रखते है।

मनोकामना होने पर भक्त चढाते है सोना

मनोकामना होने पर भक्त चढाते है सोना

यहां आने वाले भक्त पनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए सोना चढाता है और इसी कारण इस मन्दिर में करोड़ों अरबो का सोना मौजूद हो जाता है।

आखिर क्यों बांटा जाता है सोना

आखिर क्यों बांटा जाता है सोना

यकीनन आपके दिमाग में यह सवाल जरुर होगा तो आपको बता दें कि, इस मन्दिर में सोना बांटने की परम्परा हजारों सालों से चली आ रही है। पुजारी का कहना है की इस मंदिर से मिले सोने को यदि कोई अपने पर्स में या तिजोरी में रखता है तो उसकी तिजोरी या पर्स कभी खाली नहीं होता है।

विदेशी पर्यटकों का लगता है जमावड़ा

विदेशी पर्यटकों का लगता है जमावड़ा

आपको जानकार हैरानी होगी की इस मंदिर में विदेशी लोग भी आते है दिवाली के दिन यहाँ करोड़ों की संख्या में भक्त और पर्यटक आते है।

Please Wait while comments are loading...