» »खुद को रखना चाहते हैं ताउम्र जवां..तो जरुर जायें धोसी पहाड़ी

खुद को रखना चाहते हैं ताउम्र जवां..तो जरुर जायें धोसी पहाड़ी

Written By: Goldi

भारत विवधताओं का देश है...यहां कई जगहें बेहद अद्भुत है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं।तो वहीं यहां कुछ ऐसी भी जगहें हैं जो बेहद ही रहस्यपूर्ण है..साथ ही बेहद रोमांचक भी जो हमारे दिलो-दिमाग में एक नहीं कई तरह के प्रश्न पैदा करती हैं।   
                              भारत के इस मंदिर के सामने बौना है बुर्ज खलीफा

इसी क्रम में मै आज आपको एक ऐसी पहाड़ी के बारे में अवगत कराने जा रहीं हूं...जहां आपके जवां होने का राज छुपा हुआ है।यह पहाड़ी कोई और नहीं बल्कि प्रकृति की गोद में बसी पहाड़ी अरावली है। बताया जाता है,अरावली पर्वत श्रृंखला के पास एक ज्वालामुखी है। लेकिन इस ज्वालामुखी में हजारों साल से कोई विस्फोट नहीं हुआ है।

कहां स्थित है पहाड़ी?

कहां स्थित है पहाड़ी?

धोसी पहाड़ी दक्षिण हरियाणा एवं उत्तरी राजस्थान की सीमाओं पर स्थित है। पहाड़ी का हरियाणा वाला भाग महेंद्रगढ़ जिले में स्थित है एवं सिंघाणा मार्ग पर नारनौल से5 किमी दूरी पर है और राजस्थान वाला भाग झुन्झुनू में स्थित है।PC: Sudhirkbhargava

कहां स्थित है यह ज्वालामुखी?

कहां स्थित है यह ज्वालामुखी?

राजस्थान और हरियाणा की सीमा पर अरावली श्रेणी में स्थित धोसी पहाडी़ ज्वालामुखी के मुंहाना जैसी दिखती है। इसलिए इसे ‘आग्नेयगिरि' भी पुकारते हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस ज्वालामुखी को धोसी पहाड़ी के नाम से भी जाना जाता है। भूगर्भशास्त्रियों का कहना है कि पिछले 2 मिलियन सालों में अरावली पर्वत श्रृंखला में कोई ज्वालामुखी विस्फोट नहीं हुआ, इसलिए इसे ज्वालामुखी संरचना मानना सही नहीं है।PC: Sudhirkbhargava

कई आयुर्वेदिक रहस्य

कई आयुर्वेदिक रहस्य

मान्यता है कि धोसी पहाड़ी में आयुर्वेद से संबंधित कई रहस्य जुड़े हुए हैं। आयुर्वेद में सदा जवान बने रहने के लिए जिस औषधि के बारे में कहा गया है उसका नाम कायाकल्प है।यह एक ऐसी औषधि है, जिससे स्किन अच्छी होने के साथ स्वास्थ्य भी बेहतर होता है।PC:Sudhirkbhargava

धोसी पहाड़ी की देन है च्यवनप्राश

धोसी पहाड़ी की देन है च्यवनप्राश

वैसे तो आयुर्वेद की सबसे महान खोज च्यवनप्राश को माना जाता है पर शायद ही कोई यह जानता होगा कि च्यवनप्राश जैसी आयुर्वेदिक दवा धोसी पहाड़ी की ही देन है।PC:Sudhirkbhargava

कायाकल्प को खोजा जा सकता है

कायाकल्प को खोजा जा सकता है

इसी तरह कायाकल्प भी इसी पर्वत पर मिल सकती है लेकिन इसे खोजना आसान काम नहीं है। हां यह जरूर है कि महाभारत के अनुसार त्रेता युग में बने इसे ज्वालामुखी और धोसी पर्वत पर कायाकल्प नाम की इस औषधि होने की पूरी सम्भावना है।PC: Sudhirkbhargava

कुरूक्षेत्र

कुरूक्षेत्र

हरियाणा में कुरूक्षेत्र को तो सब जानते ही हैं जहां महाभारत युद्घ हुआ लेकिन शायद कम ही लोगों को पता होगा कि भिवानी की धोसी पहाडियां भी ऋषि-मुनियों की आवासस्थली रही हैं। इन पहाडियों पर ही छोटे-छोटे आश्रम बने होते थे और आहार-विहार के रूप में यहां पौधों से प्राप्त खाद्य और जडी़-बूटियों का प्रयोग किया जाता था। ब्रह्राव्रत रिसर्च फाउंडेशन सहित कर्इ भूगर्भीय जानकारों ने भी यहां कुछ औषधियों की खोज की थी।PC:Sudhirkbhargava

Please Wait while comments are loading...