» »हिमाचल का खूबसूरत हिलस्टेशन-नारकंडा

हिमाचल का खूबसूरत हिलस्टेशन-नारकंडा

Written By: Goldi

उत्तरभारत का खूबसूरत राज्य हिमाचल प्रदेश की खूबसूरत वादियों के दीवाने सिर्फ विदेशी ही नहीं बल्कि देशी पर्यटक भी है। हरी भरी खूबसूरत वादियों से लबालब हिमाचल लोगो के दिल में बसता है...यकीन मानिए अगर आप एक बार हिमाचल की वादियों की सैर कर आये तो आप बार बार उस खूबसूरती का दीदार करने पहुचेंगे।

शिमला की रोमांचक वादियों में लुफ्त उठायें वेकेशन का

यूं तो हिमाचल में कई खूबसूरत पर्यटन स्थल है-जैसे मनाली, शिमला,कुल्लू आदि..इसी बीच एक ऐसा ही खूबसूरत पर्यटन स्थल है नारकंडा। इस खूबसूरत हिलस्टेशन पर आपको अन्य जगहों के मुकाबले कम भीड़ देखने को मिलेगी..

खूबसूरत दृश्य और संस्कृति के लिए जाना जाता है कुल्लू

नारकंडा में बर्फ से ढके शक्तिशाली हिमालय पर्वत श्रृंखला और इसकी तलहटी पर हरे जंगलों पर्यटकों का मन मोह लेते हैं।नारकंडा हिंदुस्तान-तिब्बत रोड पर 2708 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, यह भारत के लोकप्रिय हिल स्टेशनों में से एक है। पूर्णिमा की चाँद की रौशनी में चारो और फैली सफेद बर्फ और गहरी घाटियां प्राकृतिक सौन्दर्य की अद्भुत संपदा से लबालब नारकंडा बहुत ही खूबसूरत नजर आता है।

हाटु मंदिर

हाटु मंदिर

हाटु माता मंदिर पहाड़ी की चोटी पर स्थित है।स्थानीय लोगों द्वारा पूजा का एक पवित्र स्थान के रूप में माना जाता है।PC:Chirag85

हाटु पीक

हाटु पीक

हाटु चोटी, नारकंडा शहर का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। 3300 मीटर की ऊंचाई पर, यह चोटी शहर का उच्चतम बिंदु है और हिमालय रेंज के एक विहंगमदृश्य प्रदान करता है जिसमें इसके बर्फ के पहाड़, पाइन के घने जंगल, सेब के बगीचे, और हरे धान के खेत शामिल हैं। हाटु पीक नारकंडा से 8 किमी की दूरी पर स्थित है।PC:Wittystef

महामाया मंदिर

महामाया मंदिर

महामाया मंदिर, समय और परिवर्तन की देवी काली को समर्पित, एक अन्य लोकप्रिय मंदिर नारकंडा में स्थित है। शाही महल के अंदर सुन्दरनगर के राजा द्वारा निर्मित, इसकी स्थापत्य शैली एक किले के समान है।समुद्र स्तर से 1810 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, मंदिर के प्रवेश द्वार पर चांदी, लकड़ी और एल्यूमीनियम शीट की सामग्री का प्रयोग किया गया है। मंदिर की स्थिति ध्यान और विश्राम के लिए आदर्श है।

थानेदार

थानेदार

नारकंडा के पास स्थित जगह थानेदार एक बेहद ही खूबसूरत जगह है...यहां अमेरिका से आये सत्यानन्द स्टोक्स जिनका असली नाम सेमयुल स्टोक्स था..वह यहां पादरी हुआ करते थे। उन्होंने यहां एक भारतीय हरिजन लड़की से विवाह कर हिन्दू धर्म अपना लिया और अपना नाम बदलकर सत्यानन्द स्टोक्स रख लिया।धर्म बदलने के बाद उन्होंने ऊंचाई पहाड़ी पर एक खूबसूरत मंदिर का निर्माण भी करवाया।

PC: Ashish Gupta

अमेरिकी सेब का बगीचा

अमेरिकी सेब का बगीचा

थानेदार में स्थित प्रसिद्ध स्टोक्स फार्म, नारकंडा से थोड़ी दूरी पर स्थित है, जिसे व्यापक रूप से अपने सेब के बगीचे के लिए मान्यता प्राप्त है और एक अंतरराष्ट्रीय ख्याति भी है।ये फार्म एक अमेरिकी आदमी सैमुअल स्टोक्स उर्फ़ सत्यानन्द स्टोक्स की विरासत है, जिसकी उन्होंने 18वीं सदी की शुरूआत की थी। अगर आप देब से लदे हुए पदों को देखन चाहते हैं तो जून से लेकर सितम्बर के बीच में यहां की यात्रा करें।

ट्रैकिंग

ट्रैकिंग

अगर आप ट्रैकिंग के शौक़ीन हैं तो,नारकंडा आपके लिए एकदम उचित जगह है..यहां का ट्रैकिंग मार्ग चीड़, ओक, रोडोडेन्ड्रान, देवदार, सील, देवदार, और समृद्ध पेड़ के जंगलों से घिरा हुआ हैं।

सर्दियों में ले स्कीइंग का मजा

सर्दियों में ले स्कीइंग का मजा

अगर आप जमकर बर्फबारी का मजा लेना चाहते हैं, तो सर्दियों के दौरान नारकंडा की सैर करें..इस दौरान आप यहां बर्फ में खेलने वाले साहसिक खेलो का मजा ले सकते हैं। हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम हर वर्ष विभिन्न स्कीइंग कोर्स का आयोजन जनवरी से मार्च के महीनों में करता है। नारकंडा में स्कीइंग के लिए मौसम दिसम्बर के महीने से शुरू होता है और मार्च तक रहता है।PC:Aggkanika

Please Wait while comments are loading...