• Follow NativePlanet
Share
» »जाने! साल 2018 के खास ऑफ-बीट डेस्टिनेशन

जाने! साल 2018 के खास ऑफ-बीट डेस्टिनेशन

Written By:

विविधतायों से सम्पूर्ण भारत में पर्यटकों के घूमने के लिए असंख्य जगहें मौजूद हैं, जिन्हें पर्यटक घूमना पसंद करते हैं। इस खूबसूरत से देश में रेतीले रेगिस्तान से लेकर बर्फीले रेगिस्तान, समुद्री तट, मन को चुरा लेने वाले प्रकृति से भरपूर हिल-स्टेशन, ऐतिहासिक वास्तुकला से परिपूर्ण भव्य इमारतें आदि मौजूद हैं, जो हमेशा से ही पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करती रही हैं।

जब बात घूमने की आती है, तो घूमने की जगह निश्चित करना हमेशा से ही एक पेचीदा सवाल रहा है, क्यों कि, हम हमेशा ऐसी ही जगह घूमना पसंद करते हैं, जहां रोमांच का भी मजा और छुट्टियों का भी, तो इसी क्रम में आज हम भारत की कुछ बेहद ही खूबसूरत जगहों से रूबरू कराने जा रहे हैं, जहां जाकर आपको छुट्टियां यकीनन मजेदार और यादगार बनेगीं

गोकर्णा

गोकर्णा

Pc:Nechyporuk Iuliia

खूबसूरत समुद्रों के बारे में सोचते ही दिमाग में सबसे पहला नाम गोवा ही आता है, लेकिन पर्यटकों की भीड़ के चलते यहां सुकून भरी छुट्टियां बिताना थोड़ा मुश्किल सा है, तो क्यों ना इस बार रुख कर्नाटक स्थित गोकर्णा की ओर किया जाये। मीलों दूर तक फैला रेतीला समुद्री तट, शीशे से साफ़ पानी और ढेरों सारी वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स एक्टिविटीज

आस्था से सराबोर गोकर्णा...

ये खूबसूरत जगह सिर्फ बीच के लिए ही नहीं बल्कि भारत के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में भी शुमार है, पर्यटक इस जगह खूबसूरत मन्दिरों को घूम सकते हैं, जिनमे महाबलेश्वर मंदिर बेहद खास माना जाता है। इस खूबसूरत बीच अपर पार्टनर के साथ आप टहलते हुए डूबते हुए सूरज को निहारना कतई ना भूले।

तुर्तुक

तुर्तुक

Pc:Ambroix

लेह से करीबन 211 किमी की दूरी पर स्थित तुर्तुक एक बेहद ही खूबसूरत गांव है, जो कभी बाल्टिस्तान रियासत का हिस्सा हुआ करता था। यह के बेहद ही खूबसूरत गांव हैं, जो 1971 तक पाकिस्तान के हिस्से में था,यह पूरी तरह से एक मुस्लिम गांव है, यहां के लोग लद्दाखी, बालती, और उर्दू बोलते हैं। तुर्तुक भारत में आखिरी चौकी है जिसके बाद पाकिस्तान-नियंत्रित गिलगिट-बाल्टिस्तान शुरू होता है। तुर्तुक को सियाचिन ग्लेशियर का गेटवे भी कहा जाता है।

दिल्ली से लेह रोड ट्रिप करने से पहले इसे पढ़ना ना भूले

पर्यटकों के लिए तुर्तुक वर्ष 2009 में खुला गया है, इस खूबसूरत गांव में आने वाले पर्यटक यहां सुंदर घाटियों को देख कसते हैं।शोकक नदी के ऊपर स्थित पठार पर स्थित कुछ गोम्पा भी मौजूद हैं। तुर्तुक भारत की कुछ बेहतरीन जगहों में से एक है जहां कोई बाल्टी संस्कृति को देखा जा सकता है, खास बात यहां की यह है कि, यहां आने वाले पर्यटकों का स्वागत गांव वाले दिल खोलकर करते हैं।

रोइंग

रोइंग

Pc: PrasadBasavaraj

रोइंग, हरी - भरी घाटियों और करामती पहाडि़यों वाला पर्यटन स्‍थल है जो अरूणाचल प्रदेश के लोअर दिबांग वैली जिले का मुख्‍यालय है। यह मिस्‍मी पहाड़ी की तलहटी पर स्थित एक शहर है जहां मैत्रीपूर्ण लोग रहते है। रोइंग में प्रमुख रूप से मिस्‍मी और अदि जनजाति के लोग निवास करते है।

भगवान कृष्णा के ससुराल तेजू में ले प्रकृति के मनमोहक नजारे

झीलों का शांत पानी, नदियों की कलकलाहट और ऊंचाई से गिरते झरने की आवाज के बाद उनके पानी का आसमान के रंग से प्रतिबिंम्‍बित होना और नीले रंग का दिखना, बादलों को भूमि के ऊपर मंडराना आदि पर्यटकों के मन में यादगार अनुभव छोड़ देता है। बर्फ से ढकी चोटियां, अशांत नदियां, रहस्‍यवादी पहाडियां और यहां पाएं जाने वाले जीव - जन्‍तु और सुंदर वनस्‍पतियां, रोइंग के कुछ प्रमुख आकर्षण है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध रोइंग में रंगीन और आकर्षक जनजातियां व प्राचीन पुरातात्विक स्‍थल है जो प्रकृति प्रेमियों, साहसिक पर्यटकों, पुरातत्‍वविदों और मानव विज्ञानी के बीच इस जगह को बेहद खास बना देते है। सच्‍चे प्रकृति प्रेमी जो वास्‍तव में प्रकृति का आनंद उठाना चाहते हो, वह रोइंग की वादियों में सैर के लिए जरूर आएं।

मलिहाबाद

मलिहाबाद

अगर आप इन गर्मियों आम चखना चाहते हैं, लखनऊ से करीबन 27किमी की दूरी पर स्थित मलिहाबाद अपने आमों के चलते पूरी दुनिया में जाना जाता है, जिसे अब तक न जाने कितने पुरस्कार भी मिल चुके हैं। यहाँ का दशहरी आम अपने आपमें लाजवाब है। जिसका नाम आते ही मुँह में पानी आ जाता है। अगर आपने सभी आमों को खाके मलिहाबाद का दशहरी आम ना खाया तो समझो बहुत कुछ छोड़ दिया। क्योंकि इसका स्वाद है ही ऐसा जो इसे किसी भी दाम में खरीदने को मजबूर कर दे।

विहिगाव

विहिगाव

महाराष्ट्र के प्रसिद्ध हिलस्टेशन इगतपूरी से करीबन 12 किमी की दूरी पर स्थित विहिगांव पर्यटकों के बीच साहसिक खेलों के चलते बेहद लोकप्रिय है। यह खूबसूरत जगह अशोका झरने के नाम से भी जानी जाती है, जहां पर्यटक इस झरने के आसपास रेप्लिंग और ट्रेकिंग आदि का मजा ले सकते हैं।

महाराष्ट्र के 21 खूबसूरत व आकर्षक हिल स्टेशन्स!

दारंग

दारंग

हिमाचल प्रदेश की खूबसूरत वादियों में छुपा हुआ खूबसूरत दारंग मैक्लोडगंज से करीबन 45 मिनट की दूरी पर स्थित चाय के बगानों के लिए जानी जाती है, यहां के लोगों की माने तो यह भारत का सबसे पुराना चाय का बगान है। यहां आप चाय के बगानों के पास ही स्थित खूबसूरत होमस्टे और रिजोर्ट्स में रहकर इस खूबसूरत जगह की असीम प्राकृतिक सुन्दरता को निहार सकते हैं और खुली हवा में घूमते चाय की पत्तियां भी तोड़ सकते हैं। इस खूबसूरत जगह को घूमते हुए पर्यटक आसपास डल झील, बैजनाथ मंडी और कांगड़ा किला आदि भी देख सकते हैं।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स