» »आत्मिक शांति की तलाश में हैं तो पहुंचे अरबिंदो आश्रम

आत्मिक शांति की तलाश में हैं तो पहुंचे अरबिंदो आश्रम

Written By: Goldi

अगर आप आत्मिक शांति की तलाश में है, तो आपके लिए अरबिंदो आश्रम से अच्छी जगह कोई नहीं हो सकती।अरबिंदो आश्रम सिर्फ भारतीयों के बीच ही नहीं बल्कि विदेशियों के बीच भी खासा लोकप्रिय है।

आत्मिक शांति के जरुर जायें इन खूबसूरत मठों में

आश्रम की स्थापना 1 926 में अरविंद घोष ने की, जोकि एक दार्शनिक और कवि थे। जो अंग्रेजों के अत्याचार से बचने के लिए पांडिचेरी आए थे।पांडिचेरी पहुंचने के बाद, उन्होंने आध्यात्मिक गतिविधियों और योग करना शुरु कर दिया।

भारत के 6 सबसे प्रसिद्ध योगा सेंटर्स।

इस आश्रम का नेतृत्व मीरा अल्फासा द्वारा अपने मृत्युदिवस, 24नवम्बर,1926 तक किया गया जिन्हें 'माँ' नाम से अधिक जाना जाता है। उन्होंने श्री अरबिंदो आश्रम ट्रस्ट का भी नेतृत्व किया जिसकी स्थापना उन्होंने श्री अरबिंदों की मृत्यु के बाद 1950 में की थी।

आश्रम घूमने का समय

आश्रम घूमने का समय

आश्रम संपूर्ण वर्ष खुला रहता है। हालांकि, चूंकि पांडिचेरी एक समुंदर के किनारे का शहर है, गर्मियों के महीनों में गर्म होता है; ज्यादातर लोग इस सीजन से बचते हैं। हालांकि सर्दियों इर बारिश के मौसम में यहां पर्यटकों का जमावड़ा देखा जा सकता है।PC:Tapanmajumdar

आश्रम के बारे में

आश्रम के बारे में

अरबिंदो आश्रम के अनुयायी की एक बड़ी संख्या है, उनमें से एक मीरा अल्फासा था,जो अरबिंदो से काफी प्रेरित थी, उन्हें माता कहा जाता था और उन्होंने आश्रम की स्थापना में एक महत्वपूर्ण भूमिका भीनिभाई थी। अरबिंदो की मृत्यु के बाद, 1950 में आश्रम का संचालन उन्होंने ने ही किया था। आश्रम पांडिचेरी के पूर्वी भाग में स्थित है।

आश्रम

आश्रम

अरबिंदो आज भी इस आश्रम के गुरु हैं..इस आश्रम में और जगहों की तरह ऐसी परंपरा का पालन नहीं करती जिसमें एक गुरु आश्रम के मुखिया का स्थान लेता है। अरबिंदो की मृत्यु के बाद माता और अरबिंदो ही केवल गुरु हैं। ऐसा कहा जाता है कि माँ ने एक बार कहा था कि अरबिंदो अभी भी हमारे बीच है। आश्रम श्री अरबिंदो आश्रम ट्रस्ट द्वारा संचालित है जो 1 9 55 में मदर द्वारा स्थापित एक सार्वजनिक धर्मार्थ न्यास है। ट्रस्ट का प्रबंधन पांच न्यासी बोर्डों द्वारा किया जाता है। आश्रम में 80 से अधिक विभाग हैं, जिनमें खेतों, उद्यान, अस्पताल, गेस्ट हाउस और आदि हैं।

PC: Sonphoto

स्टूडियो

स्टूडियो

आश्रम में एक आर्ट गैलरी भी है...जिसे माँ अल्फासो ने प्रोत्साहित किया था, जिसके परिणामस्वरूप आर्ट गैलरी का निर्माण हुआ, जिसे स्टूडियो के नाम से भी जाना जाता है आश्रम में आर्ट गैलरी वर्ष 1 9 63 में खोला गया था और मदर द्वारा "द स्टूडियो" नाम दिया गया था। आर्ट गैलरी संरक्षित और चित्रों और तस्वीरों का एक संग्रह दर्शाती है जो माता के संग्रह के रूप में जाना जाता है। इस संग्रह में 2500 पेंटिंग हैं, जिन्हें आश्रम में कलाकारों द्वारा और साथ ही दूसरों केलिए चित्रित किया गया था।

PC: Henri Cartier Bresson

आश्रम पुस्तकालय

आश्रम पुस्तकालय

लाइब्रेरी 1 9 54 में एक बड़े फ्रांसीसी औपनिवेशिक भवन में शुरू हुई थी। पुस्तकालय बड़ी संख्या में पत्रिकाओं के साथ 25 अलग-अलग भाषाओं में 80,000 पुस्तकों का संग्रह है। इस स्थान पर भारतीय और पश्चिमी शास्त्रीय रिकॉर्ड का एक बड़ा संग्रह भी मौजूद है। इस आश्रम के अधिकारियों की अनुमति के साथ ही पहुँचा जा सकता है।PC:Vinamra Agrawal

अरबिंदो आश्रम

अरबिंदो आश्रम

आश्रम में तीन साल से कम उम्र के बच्चों को आने की अनुमति नहीं है और आश्रम प्रबंधन की विशेष अनुमति के बाद ही फोटोग्राफी करना संभव होता है।PC: Offical Site

अरबिंदो आश्रम

अरबिंदो आश्रम

यह आश्रम सुबह 8बजे से 12बजे तक और दोपहर 2बजे से शाम 6बजे तक लोगों के लिए खुला रहता है।

Please Wait while comments are loading...