• Follow NativePlanet
Share
» »इस दिसंबर करें नार्थ इंडिया के इन टॉप 10 खूबसूरत ट्रैवल डेस्टिनेशंस की सैर

इस दिसंबर करें नार्थ इंडिया के इन टॉप 10 खूबसूरत ट्रैवल डेस्टिनेशंस की सैर

Posted By: Staff

ट्रैवल समय का मोहताज नहीं है ये कभी भी किया जा सकता है। अब यदि आप हालिया दिनों में ट्रैवल का सोच रहे हैं तो आज का हमारा ये लेख आपके ही लिए है। आज हम अपने इस आर्टिकल के जरिये आपको अवगत कराने वाले हैं उत्तर भारत के कुछ ऐसे डेस्टिनेशंस से जो दिसंबर में जाने के लिए एक परफेक्ट डेस्टिनेशन हैं। ज्ञात हो कि आज हमारे द्वारा बताये गए ये ऐसे भी हैं जिनकी नैसर्गिक सुंदरता आपको वो सुख देगी जिसकी कल्पना आपने शायद ही कभी की हो।

भारत के वो टॉप 5 बला के सुन्दर गांव जिनको शायद ही जानते हों टूरिस्ट और ट्रैवलर

गौरतलब है कि वर्तमान में चाहे उत्तर प्रदेश हो या बिहार और दिल्ली इन राज्यों में एक ट्रैवलर को एक बिलकुल नए तरह के कल्चर का दीदार होगा। ऐसा इसलिए भी कहा जा सकता है क्योंकि हमेशा ही उत्तर भारत के राज्यों ने अपनी अनूठी सभ्यता और संस्कृति के चलते देश दुनिया के लाखों पर्यटकों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया है।

Read : भारत के वो टॉप 10 टूरिस्ट डेस्टिनेशंस जिनका शायद ही कभी आपने नाम सुना हो

तो अब देर न करते हुए आपको बताते हैं की इस दिसंबर सम्पूर्ण उत्तर भारत के वो कौन कौन से लुभावने डेस्टिनेशंस हैं जिन्हें एक ट्रैवलर को हर हाल में घूमना चाहिए।

गुड़गांव

गुड़गांव

हरियाणा का सबसे बड़ा शहर गुड़गांव को राज्य की आर्थिक और औद्योगिक राजधानी समझा जाता है। यह शहर दिल्ली से 30 किमी दक्षिण में है। दिल्ली के चार उपग्रह शहरों में से एक गुड़गांव राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) का हिस्सा है। यहां नया गुड़गांव और पुराना गुड़गांव नाम से दो शहर है और दोनों में बड़ा फर्क देखने को मिलता है। पुराना गुड़गांव में बुनियादी ढांचें का विकास नहीं हो पाया है और यह काफी भीड़ भरा भी है। वहीं नया गुड़गांव में आप आसमान को छूती इमारतें और सुनियोजित विकास देख सकते हैं। भारत में प्रति व्यक्ति आय के मामले में चंडीगढ़ और मुंबई के बाद गुड़गांव का तीसरा स्थान है।

रेवाड़ी

रेवाड़ी

रेवाड़ी हरियाणा के रेवाड़ी जिले में स्थित एक शहर है। दिल्ली से 82 किलोमीटर दूर स्थित,यह राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का अंग है। इतिहास कहता है कि हेमू, भारत का अंतिम हिन्दू सम्राट, रेवाड़ी में पला बढ़ा व शिक्षित हुआ। उनकी हवेली अभी भी शहर के कुतबपुर इलाके में मौजूद है। अपने समय में, सम्राट नें तांबे की चादर, बर्तन, और पीतल के निर्माण हेतु एक धातु उद्योग की नींव रखी थी। यह अभी भी इन उत्पादों के लिए प्रसिद्ध है। रेवाड़ी हरियाणा में गुड़गांव जिले का एक हिस्सा था। यह बाद में महेंद्रगढ़ का एक हिस्सा बना तथा 1989 में तब तक रहा, जब तक यह एक स्वतन्त्र जिला नहीं बन गया।

चैल

चैल

चैल हिमाचल के सोलन जिले में स्थित है। समुंदरी तट से 2226 मीटर ऊँची और सध टिब पहाड़ी पर स्थित यह स्थान बहुत सुंदर है। लोर्ड़ किच्नर के आदेश अनुसार पटियाला के महाराजा, अधिराज भूपिंदर सिंह को शिमला से निर्वासित कर दिये गए, इसका बदला लेने के लिए उन्होंने चैल को अपनी गीष्मकालीन राजधानी बना कर यहाँ सुंदर चैल महल का निर्माण किया। चैल महल का निर्माण 1891 में हुआ और यह चैल की शाही वीरासत है। इसके अलावा चैल का वन्यजीव अभयारण्य जहाँ कई प्रकार के पेड़ पौधे पाए जाते हैं, चैल के प्रमुख आकर्षण का केंद्र हैं।

कसौली

कसौली

कसौली हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में स्थित एक लोकप्रिय हिल स्टेशन है। समुद्र सतह से लगभग 1800 मीटर की ऊँचाई पर स्थित इस स्थान का वर्णन भारतीय महाकाव्य रामायण में किया गया है। पौराणिक कथाओं के अनुसार संजीवनी पहाड़ी से लौटते समय हिंदू भगवान हनुमान ने इस जगह पर कदम रखा था। इस स्थान का नाम पर्वत की एक धारा के नाम पर पड़ा जो जबली और कसौली के बीच से बहती है और जिसे कौसल्या कहा जाता है। 19 वीं शताब्दी में कसौली गोरखा राज्य का महत्वपूर्ण भाग बन गया। बाद में ब्रिटिश लोगों द्वारा इस जगह को प्रमुख बटालियन शहर में बदल दिया गया।

बडगाम

बडगाम

बडगाम, जम्‍मू और कश्‍मीर का सबसे नया जिला है जिसे 1979 में श्रीनगर से विभाजित करके बनाया गया था। यह जिला, समुद्र के स्‍तर से 5,281 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण प्रसिद्ध बडगाम में टोपोग्राफी यानि स्‍थानिक भूगोल में कई परिवर्तन नजर आते हैं, यहां मैदान और पर्वतों को एक साथ देखा जा सकता है। दक्षिण और दक्षिण पश्चिम की दिशा में यह जिला पूरा पहाड़ी क्षेत्र है जबकि पूरब और उत्‍तर दिशा में यह मैदान है।

चौकोरी

चौकोरी

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जि़ले में समुद्रतल से 2010 मी. ऊपर स्थित चौकोरी एक सुंदर हिल स्टेशन है। पश्चिमी हिमालय की पर्वतश्रंखला के पास स्थित यह जगह उत्तर में तिब्बत और दक्षिण में तराई से घिरी है। यह अद्भुत स्थान देवदार, बांज और रोडोडेंड्रोन के जंगलों से ढका हुआ है। मक्का के आकर्षक खेत और फलों के बाग इस जगह की सुंदरता को बढ़ाते हैं। चौकोरी में अनेक ऐतिहासिक मंदिर स्थित हैं। बेरीनाग गाँव में स्थित नागमंदिर एक प्रमुख तीर्थ है।

मोहाली

मोहाली

भारतीय राज्य पंजाब में स्थित मोहाली को वर्तमान में अजीतगढ़ नाम से जाना जाता है। यह चंडीगढ़ का उपग्रह शहर है। मोहाली, चंडीगढ़ और पंचकुला आपस में मिलकर चंडीगढ़ त्रिनगरी कहलाते हैं। गुरू गोबिंद सिंह के सबसे बड़े बेटे साहिबजादा अजीत सिंह की स्मृति में मोहाली को आधिकारिक रूप से एसएएस नगर के नाम से जाना जाता है।

जालंधर

जालंधर

पंजाब के राज्य में स्थित जालंधर, समृद्ध इतिहास वाला एक प्राचीन शहर है। यह एक दानव राजा, जालंधर के नाम पर है जिनका पुराणों और महाभारत में उल्लेख किया गया है। हिन्दी में जालंधर का मतलब है 'पानी के अंदर निहित एक क्षेत्र', और लोककथाओं के अनुसार, शहर की भौगोलिक स्थिति से इसका नाम उत्पन्न हुआ है - (ब्यास और सतलुज) दो नदियों के बीच। स्वतंत्रता के बाद 1953 तक, जब चंडीगढ़ ने यह दर्जा हासिल कर लिया, तब तक यह पंजाब की राजधानी हुआ करता था। पर्यटकों के आकर्षण की संख्या के साथ साथ शहर की समृद्ध संस्कृति और परंपरा यात्रियों के बीच जालंधर पर्यटन को लोकप्रिय बनाता है।

लखनऊ

लखनऊ

लखनऊ को नबाबों की नगरी के नाम से जाना जाता है, जो उत्‍तर प्रदेश की राजधानी है और गोमती नदी के तट पर स्थित है। इस शहर का इतिहास सूर्यवंशी राजवंश के काल का है। लखनऊ की स्‍थापना नवाब आसफ - उद - दौला द्वारा की गई थी, उन्‍होने इसे अवध के नवाबों की राजधानी के रूप में पेश किया था। वास्‍तव में, नवाबों ने इस शहर को एक विनम्र संस्‍कृति के अलावा शानदार पाक शैली भी प्रदान की है जो वर्तमान समय में पूरी दुनिया में विख्‍यात है।

बिट्ठुर

बिट्ठुर

बिट्ठुर, कानपुर से 22 किमी. की दूरी पर स्थित है जो गंगा नदी के किनारे पर बसा सुंदर और खूबसूरत शहर है। कानपुर की घबरा देने वाली भीड़ से काफी दूर स्थित यह स्‍थल पर्यटकों को आराम करने के लिए जीवंत जगह उपलब्‍ध करवाती है। बिट्ठुर, हिंदू धर्म के लोगों के लिए प्रमुख धार्मिक स्‍थल है, साथ ही साथ इस स्‍थल का ऐतिहासिक महत्‍व भी काफी है।

यात्रा पर पाएं भारी छूट, ट्रैवल स्टोरी के साथ तुरंत पाएं जरूरी टिप्स