» »राजस्थान की यात्रा इन लजीज व्यंजनों के बिना है अधूरी

राजस्थान की यात्रा इन लजीज व्यंजनों के बिना है अधूरी

Written By: Goldi

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में स्तुत राजस्थान सिर्फ अपनी हवेलियों, प्राचीन किले और ऊंट की सफारी के लिए ही नहीं जाना जाता, बल्कि कुछ और बेहद खास चीजें हैं, जो पर्यटकों को बार राजस्थान की ओर आने को मजबूर कर देती हैं। अपनी समर्द्ध रंगीन संस्कृती के अलावा राजस्थान अपने खानपान के लिए भी जाना जाता है। जो राजा महाराजा के समय से अपनी खास पहचान बनाए हुए है

कहना गलत ना होगा, की खाने के शौकीनों के लिए राजस्थान किसी स्वर्ग से कम नहीं है। पीढ़ी दर पीढ़ी लोग यहां की संस्कृती को खाने के स्वाद को जीवित रखे हुए हैं। तो फिर आप किस चीज का इंतजार कर रहे हैं, अगली राजस्थान की ट्रिप पर राजस्थानी खाने का लुत्फ जरुर उठायें, आइये स्लाइड्स में विस्तार से जानते हैं- 

24 घंटों में जयपुर की यादगार यात्रा!

दाल-बाटी चूरमा- जयपुर

दाल-बाटी चूरमा- जयपुर

दाल बाटी चूरमा एक राजस्थानी व्यंजन है। बाटी मोटे गेहू के आटे से बनाई जाती है। दाल बाटी चूरमा आमतौर पर दोपहर के भोजने के समय या फिर रात के डिनर में खा सकते हैं। दाल बाटी चूरमा खाने का स्वाद तब और बढ़ जाता है , जब आप बाटियों को घी में भिगोकर चरमे के साथ खाते हैं।Pc:Niranjan.gohane

लाल मांस

लाल मांस

अगर आप मांसाहारी हैं, तो आपको राजस्थान का लाल मांस जरुर चखना चाहिए। लाल मास बहुत ही स्‍वादिष्‍ट मटन करी है। वे लोग जिन्‍हें बहुत तीखा खाना अच्‍छा लगता है उन्‍हें यह लाल मास करी बहुत ही पसंद आएगी।लाल मांस आपको राजस्थान ने हर ढाबे और रेस्ट्रॉन्ट में मिल जायेगा।Pc:VD

गट्टे की सब्जी

गट्टे की सब्जी

दाल-बाटी चूरमा के बाद गट्टे की सब्जी राजस्थान में बहुत पसंद की जाती है, गट्टे की सब्‍जी चने के आटे से तैयार की जाती है, जिसमें दही का अच्‍छा-खास प्रयोग किया जाता है। डिश बाजरे की रोटी के साथ बेहद स्वादिष्ट लगती है।Pc: Sahil tiwarie

प्याज की कचौरी

प्याज की कचौरी

राजस्थान में सुबह का नाश्ता भी काफी तीखा और चटपटा होता है, यहां नाश्ते की शुरुआत होती है कचौरी से और वह भी प्याज की कचौरी से। प्याज की कचौरी को खट्टी-मीठी इमली की चटनी के साथ सर्व करते हैं, यह आपको यह के हर ढाबे और रेस्ट्रॉन्ट में सर्व किया जाता है।Pc:Mdsmds0

घेवर

घेवर

घेवर राजस्थान की प्रसिद्ध मिठाई है, जोकि आटे, घी,और चाशनी से तैयार की जाती है। राजस्थान में कोई भी शुभ पर्व इसके बिना पूरा नहीं होता है।Pc:Su30solomon

केर सांगरी

केर सांगरी

केर सांगरी एक तरह का अचार होता है, बाजरे की रोटी के साथ कैर सांगरी का अचार या सब्जी मिल जाये तो मुँह का स्वाद ही बदल जाता है।Pc:AKSHRAJJODHA