» »इस वीकेंड करें सकलेशपुर की सैर..और घूमे ये खूबसूरत जगहें

इस वीकेंड करें सकलेशपुर की सैर..और घूमे ये खूबसूरत जगहें

Written By: Goldi

रोज-रोज ऑफिस की भागदौड़ और आये दिन टारगेट को पूरा करते हुए जिन्दगी एकदम से उलझ सी जाती है..ऐसा लगता है जैसे जिन्दगी घर से ऑफिस और ऑफिस से घर के बीच में ही होकर रह गयी है।अगर आप के साथ भी ऐसा ही है..तो आपको जरूरत है एक शांति सी जगह में वीकेंड या कहे छुट्टियाँ बिताने की।

देवी देवतायों के मंदिर तो बहुत देखे होंगे..लेकिन क्या जानते हैं इन राक्षस मन्दिरों को

यकीनन हम अहर वीकेंड छुट्टियाँ प्लान करते हैं..लेकिन किसी कारणवश वो छुट्टियाँ मुक्कमल नहीं होती। अगर आप इस बार अपनी छुट्टियों को थोड़ा रोमांचक बनाना चाहते हैं वह भी बैंगलोर से ज्यादा दूर नहीं,तो आप के लिए सकलेशपुर एक परफेक्ट हॉलिडे डेस्टिनेशन है..जिसे आप वीकेंड में आराम से घुम ना इस वीकेंड बैंगलोर से सकलेशपुर तक वाया रोड जाया जाये और अपने वीकेंड को रोमांचक और यादगार बनाया जाये।

पुणे के शानदार वीकेंड डेस्टिनेशन

हासन जि़ले का भाग सकलेशपुर, भारत में कॉफ़ी और इलायची का एक बड़ा उत्पादक है। तो अब देर किस बात की आज ही टिकट बुक कराइए और निकल जाइए सकलेशपुर की यात्रा पर।

सकलेशपुर

सकलेशपुर

सकलेशपुर, पश्चिमी घाटों में बसा एक छोटा सा सुंदर हिल स्टेशन है जो ताज़गी प्रदान करता है। यह शहर 949 मीटर की ऊँचाई पर है और बंगलोर-मैसूर राजमार्ग के पास होने के कारण यहाँ आसानी से पहुँचा जा सकता है। हसन जि़ले का भाग, सकलेशपुर, भारत में काफी और इलायची का एक बड़ा उत्पादक है।PC:Ashwin Kumar

मंजराबाद का किला

मंजराबाद का किला

सकलेशपुर आने पर राष्ट्रीय राजमार्ग 48 पर स्थित मंजराबाद का किला अवष्य देखना चाहिए। इस्लामिक वास्तुकला शैली और धनुषाकार प्रवेशद्वार को दर्शाता यह किला समुद्रतल से 3240 फीट ऊपर है। एक सुरक्षित स्थान बनाने के नज़रिए से मैसूर के शासक टीपू सुल्तान ने इस किले को बनवाया था। यह किला इसलिए उचित था क्योंकि यह उन सभी रास्तों को रोकता था जो पास के तटीय क्षेत्रों से सकलेशपुर के पीछे बने पठार तक पहुँचने के लिए प्रयोग किया जा सकता था। टीपू सुल्तान के शासनकाल में यह किला गोला बारूद रखने और मंगलोर से उनकी ओर आने वाले अंग्रेज़ों पर नज़र रखने के लिए उपयोग किया जाता था। मंजराबाद का किला एक छोटी पहाड़ी पर बना है और अन्य किलों के विपरीत केवल एक ही निर्माण स्तर पर आधारित है।PC:Chandu6119

बिस्ले व्यू पॉइंट

बिस्ले व्यू पॉइंट

बिस्ले व्यू पॉइंट या बिसल घाट बिस्ले गांव में एक दृश्य बिंदु है। इस बिंदु से आप तीन पर्वत श्रृंखलाओं का एक शानदार दृश्य देख सकते हैं-कुमारा पर्वता, पुष्पागिरि और डोडडा बेटा। सकलेशपुर आने वाले पर्यटकों के लिए बिस्ले व्यू पॉइंट सबसे ज्यादा खास आकर्षणों में से है।

ग्रीन रूट ट्रेक

ग्रीन रूट ट्रेक

ग्रीन रूट ट्रेक एक रेलवे ट्रेक है जोकि सक्लेशपुर से कुके सुब्रमण्य मंदिर के बीच स्थापित है...यह ट्रेक सुंदर जंगलों, सुरंगों और झरनों से गुजरता है।PC:Iamg

जेनुकल गुड्डा

जेनुकल गुड्डा

जेनुकल गुड्डा / जेनुकलु गुड्डा सक्लेशपुर में छोटी पहाड़ियों में से एक है।यह पहाड़ी पर्यटकों के बीच ट्रेकिंग के लिए खासा लोकप्रिय है..इसकी चोटी से आप आसपास के खूबसूरत नजारों का आनन्द ले सकते हैं।
PC:L. Shyamal

मंजेहल्ली

मंजेहल्ली

मंजेहल्ली एक मानसूनी झरना है..बारिश के मौसम में इस झरने के आसपास पर्यटकों का जमावड़ा देखा जा सकता है। PC:Nanda ramesh

बेट्टा ब्रीवेश्वर

बेट्टा ब्रीवेश्वर

बेट्टा ब्रीवेश्वर एक ऊँची पर स्थित प्राचीन मंदिर है..बताया जाता है कि, यह मंदिर करीबन 600 साल पुराना है। पर्यटक इस मंदिर से चारो और फैले हुई खूबसूरती को निहार सकते हैं।PC:Ashwin Kumar

सकलेश्वर मंदिर

सकलेश्वर मंदिर

सक्लेश्वर मंदिर एक प्राचीन शिव मंदिर है। यह माना जाता है कि होसला राजवंश द्वारा निर्मित किया गया था, जैसा कि यह होसला वास्तुकला का अनुसरण करता है। यह सुरुचिपूर्ण वास्तुकला सक्लेशपुर में मुख्य आकर्षण है।PC: WestCoastMusketeer

Please Wait while comments are loading...